khabaruttrakhand
आकस्मिक समाचारउत्तराखंडटिहरी गढ़वालप्रभावशाली व्यतिराजनीतिकराष्ट्रीयविशेष कवरस्टोरी

स्वास्थ्य:-अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस के उपलक्ष्य में कैंसर के प्रति वृद्ध लोगों को जागरुक करने के उद्देश्य से एम्स ऋषिकेश में पब्लिक लैक्चर आयोजित।

अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस के उपलक्ष्य में कैंसर के प्रति वृद्ध लोगों को जागरुक करने के उद्देश्य से एम्स ऋषिकेश में पब्लिक लैक्चर आयोजित किया गया।

मेडिकल ऑन्कोलॉजी विभाग, वृद्ध कैंसर चिकित्सा क्लिनिक और वृद्ध काय चिकित्सा विभाग के की ओर से आयोजित कार्यक्रम में कहा गया कि कैंसर लाइलाज बीमारी नहीं है।

Advertisement

समय रहते इसका इलाज शुरू कर दिए जाने से इस पर विजय प्राप्त की जा सकती है।

एम्स ऋषिकेश के मेडिकल ऑन्कोलॉजी तथा जेरियाट्रिक मेडिसिन विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित पब्लिक लैक्चर कार्यक्रम में कैंसर विशेषज्ञों ने कैंसर बीमारी के विभिन्न पहलुओं पर विस्तार से प्रकाश डाला।

Advertisement

वक्ताओं ने बताया कि कैंसर अब लाइलाज बीमारी नहीं है। स्क्रीनिंग के माध्यम से इसका समय रहते पता लगाया जा सकता है।

ऐसे में यदि तत्काल उपचार शुरू कर दिया जाए तो कैंसर की बीमारी को पूरी तरह से ठीक किया जा सकता है।

Advertisement

संस्थान की कार्यकारी निदेशक प्रोफेसर डॉ. मीनू सिंह ने बताया कि मेडिकल साइंस की विकसित होती तकनीकों से अब कैंसर का उपचार संभव है।

उन्होंने कहा कि कैंसर से डरने के बजाए इसके प्रति जागरुक रहकर हम इसे हरा सकते हैं।

Advertisement

कैंसर का इलाज सुलभ और सस्ता है। उन्होंने बताया कि बायोमार्कर टेस्ट की मदद से महिलाओं में कैंसर का समय पर पता लगाया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि महिलाओं को अपने स्वास्थ्य के प्रति विशेष तौर से जागरुक रहना होगा।

Advertisement

डीन एकेडेमिक प्रोफेसर जया चतुर्वेदी ने कैंसर के इलाज में समय की महत्ता बताई और कहा कि बीमारी बढ़ने से पहले उसकी समय रहते उचित जांच और इलाज कराना बेहद जरूरी है।

पब्लिक लैक्चर में मेडिकल ऑन्कोलॉजी के चिकित्सा विशेषज्ञों ने शरीर में कैंसर के बनने, उसके लक्षणों, कैंसर के प्रकार, उसकी स्टेज और बीमारी के निदान के बारे में विस्तृत जानकारियां साझा कीं।

Advertisement

मेडिकल ऑन्कोलॉजी विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. दीपक सुन्दरियाल ने बताया कि एम्स में वृद्धजनों के लिए विशेष तौर से कैंसर क्लीनिक का संचालन किया जा रहा है। हमारा उद्देश्य है कि कैंसर को हराकर प्रत्येक व्यक्ति का जीवन खुशहाल बनाया जा सके।

जेरियाट्रिक मेडिसिन विभाग की हेड प्रो. मीनाक्षी धर ने बताया कि जागरुकता से ही बीमारी से बचाव संभव होगा।

Advertisement

वहीं उन्होंने कहा कि वर्तमान दौर में अपने स्वास्थ्य और कैंसर बीमारी के प्रति सचेत रहकर इससे बचाव किया जा सकता है।

कार्यक्रम के दौरान संस्थान की कार्यकारी निदेशक और डीन एकेडेमिक द्वारा कैंसर से लड़ाई जीत चुके कुछ लोगों को सम्मानित भी किया गया। बताया गया कि फेफड़ों, पेशाब की थैली, बड़ी आंत और स्तन में कैंसर बनने की संभावनाएं ज्यादा होती हैं।

Advertisement

इसके अलावा महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर भी अब बहुतायत में देखने को मिल रहा है।

इसके लिए आनुवांशिक कारणों के अलावा जीवन शैली में बदलाव और पर्यावरणीय कारण प्रमुख हैं। इसके लिए योगा, प्राणायाम, मेडिटेशन करने की सलाह दी गई।

Advertisement

साथ ही नशीले पदार्थ, तम्बाकू उत्पादों और अल्कोहल का त्याग करने को कहा गया।

जीवनशैली में बदलाव लाकर मोटा अनाज का सेवन करने और भरपूर नींद जरूरी बताई गई। विशेषज्ञ चिकित्सकों का कहना था कि कैंसर का पता लगाने के लिए स्क्रीनिंग करवाना बहुत जरूरी है। जानकारी दी गई कि महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर से बचने के लिए 15 वर्ष से कम उम्र की किशोरियों को एचपीवी का टीका लगाना चाहिए।

Advertisement

कार्यक्रम को जेरियाट्रिक मेडिसिन विभाग की डॉ. मोनिका पठानिया, एसआर. डॉ. मृदुल, जेआर.डॉ. सिद्धार्थ, डॉ. नीतू आदि ने भी संबोधित किया।

Advertisement

Related posts

Uttarakhand: दून में आज CM करेंगे मेगा रोड शो… सशक्त नारी समृद्ध नारी उत्सव…ये है ट्रैफिक प्लान

srninfosoft@gmail.com

Breaking:-उपजिलाधिकारी द्वारा इस क्षेत्र के गेस्ट हाउस, झील एवं झील परिसर के संचालन का किया गया निरीक्षण,यहाँ खर्च हुआ करोड़ो में पर्यटकों का पता नही।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-जिलाधिकारी ने किया कई कार्यलयों का औचिक निरीक्षण, नदारद कर्मियों से जवाब तलब।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights