khabaruttrakhand
आकस्मिक समाचारउत्तराखंडटिहरी गढ़वालदिन की कहानीप्रभावशाली व्यतिराष्ट्रीयविशेष कवर

जल संवर्धन के लिए रेन वाटर हार्वेस्टिंग के जरिए स्प्रिंग व स्रोतो के रिचार्जिंग व नदियों के जल स्तर को बढ़ाने की ऐसी हो रही तैयारी।

जल संरक्षण एवं संवर्धन को लेकर जिलाधिकारी टिहरी गढ़वाल मयूर दीक्षित की अध्यक्षता में गुरुवार को बैठक आयोजित की गई।

बैठक में उप निदेशक जलागम/सदस्य सचिव स्प्रिंग एण्ड रिवर रिज्यूविनेशन अथॉरिटी (सारा) नवीन सिंह बरफवाल ने पीपीटी के माध्यम से सारा की अवधारणा, कार्यनीतियों, नियोजन, मूल्याकन एवं अनुश्रवण आदि के बारे में विस्तार जानकारी दी गई।

Advertisement

उन्होंने बताया कि अथॉरिटी जल संवर्धन के लिए रेन वाटर हार्वेस्टिंग के जरिए स्प्रिंग व स्रोतो के रिचार्जिंग व नदियों के जल स्तर को बढ़ाने की कार्ययोजना तैयार कर रही है।

इसके तहत राज्य स्तरीय, जिला स्तरीय एवं ग्राम स्तरीय कार्यकारिणी समितियां गठित की जानी है।

Advertisement

जिलाधिकारी ने डीपीआरओ को ग्राम स्तर पर धारा-नौला संरक्षण समितियों का गठन करने एवं बैठक आयोजित करवाने के निर्देश दिए।

समस्त बीडीओ को योजना के तहत दस दस क्रिटिकल स्प्रिंग प्लान को अप्रूव कराने, नौला-धारों के पुनरोद्वार हेतु जल संरक्षण के कार्यों को करने, प्रत्येक कार्यों की जियो टैगिंग करने, नौला/गदेरा/वाटर बॉडी में हुए अतिक्रमण की सूचना एसडीएम को देने, अमृत सरोवरों को ठीक करने तथा उनमें प्लान की गई गतिविधियों से अवगत कराने को कहा गया।

Advertisement

इसके साथ ही हर गांव में कम से कम पचास ट्रेंचेज खोदने और उन्हें मेंटेन करने के कार्य प्राथमिकता पर करने को कहा गया।

सिंचाई, लघु सिंचाई, कृषि विभाग के अधिकारियों को वाटर कंजर्वेशन के अच्छे प्रोजेक्ट जिला योजना में प्रस्तावित करने को कहा।

Advertisement

जल जीवन मिशन योजना के तहत किए जा रहे कार्यों का प्रतिदिन अपडेट देने, जल शक्ति अभियान पोर्टल पर प्रतिदिन डाटा अपडेट करने,

बैठक में अवगत कराया गया कि सारा की कार्य नीतियों के तहत प्रथम चरण में धारा-नौला एवं वर्षा आधारित नदियों की स्थिति का चरणबद्ध आकलन किया जाएगा।

Advertisement

इसके तहत जल गुणवत्ता, जल बहाव/उत्सर्जन दर, जनसंख्या निर्भरता के दृष्टिगत स्रोतों के जल उत्सर्जन में कमी के प्रमुख कार्यों को इंगित किया जाएगा।

जल संरक्षण अभियान 2024 के तहत सुख रहे जल स्रोतों एवं सहायक नदियों, धाराओं का चिन्हीकरण कर उनके पुनरोद्वार के कार्य प्राथमिकता पर किए जाने हैं।

Advertisement

बैठक में सीडीओ अभिषेक त्रिपाठी, पीडी डीआरडीए योगेश उपाध्याय, डीडीओ मो. असलम, सीएओ अभिलाषा भट्ट, डीपीआरओ एम.एम. खान, अधिशासी अभियंता जल संस्थान टिहरी प्रशांत भारद्वाज, अधिशासी अभियंता पेयजल निगम चंबा के.एन. सेमवाल, घनसाली जीतमणि बेलवाल, सिंचाई एवं लघु सिंचाई के अधिकारी, बीडीओ एवं अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

Advertisement

Related posts

ब्रेकिंगः-वनों की आग को बचाने के लिए महिला समूह द्वारा पिरूल को किया जा रहा एकत्र।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-जोशीमठ: प्रत्येक परिवार को तत्कालिक 1.50 लाख की अंतरिम सहायता ।

khabaruttrakhand

कैबिनेट मंत्री वन, तकनिकी शिक्षा, भाषा व निर्वाचन मंत्री की अध्यक्षता में नरेन्द्रनगर के शहरी स्वरूप पर वन भूमि दर्शाये जाने से उत्पन्न स्थिति के समाधान हेतु कलक्ट्रेट सभागार में वन विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights