khabaruttrakhand
खेल

जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप: ब्रॉन्ज मेडल भी नहीं जीत पाया भारत, फ्रांस ने 1-3 से हराया

खिताब की उम्मीद टूटने के बाद गत चैंपियन भारत रविवार को ब्रॉन्ज मेडल के प्लेऑफ में फ्रांस से 1-3 से हारकर एफआईएच जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप में पोडियम स्थान हासिल करने में असफल रहा। फ्रांस के कप्तान टिमोथी क्लेमेंट ने मेजबान को फिर चौंकाने के लिए हैट्रिक लगायी और कांस्य पदक जीत लिया। क्लेमेंट ने फ्रांस के लिये 26वें, 34वें और 47वें मिनट में तीन पेनल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील किया जबकि भारत के लिए एकमात्र गोल सुदीप चिरमाको ने 42वें मिनट में दागा।  क्वार्टरफाइनल में बेल्जियम के खिलाफ बेहतरीन प्रदर्शन के बाद यह भारतीयों के लिये लगातार दूसरा फ्लॉप शो रहा।     तीसरे-चौथे स्थान का मैच भारत के लिये टूर्नामेंट के शुरूआती मैच में फ्रांस से मिली 4-5 की हार का बदला चुकता करने का मौका था लेकिन ऐसा नहीं हो सका। यूरोपीय टीम ने अपने शानदार प्रदर्शन से मेजबानों पर दबदबा बनाना जारी रखा। पिच पर फ्रांस की टीम काफी बेहतर थी जिसने पहले क्वार्टर में धीमी शुरूआत के बाद नियंत्रण बनाया और 14 पेनल्टी कॉर्नर हासिल किये। वहीं भारतीय टीम केवल तीन पेनल्टी कॉर्नर ही हासिल कर सकी। भारत ने अच्छी शुरूआत कर पहले क्वार्टर में फ्रांस की रक्षात्मक पंक्ति पर दबाव बना दिया था जिसमें उन्हें मैच के पहले ही मिनट में पेनल्टी कॉर्नर मिल गया लेकिन मेजबान इसका फायदा उठाने में असफल रहे।

Advertisement

BWF World Tour Finals: पीवी सिंधु को फाइनल में मिली हार, सिल्वर मेडल से करना पड़ा संतोष     भारतीयों ने लगातार कोशिश जारी रखी और टीम 12वें मिनट में बढ़त के करीब पहुंची जब अरिजीत सिंह हुंडाल ने सर्कल के ऊपर से प्रयास किया, पर यह पोस्ट पर लगा।  फ्रांस ने पहले क्वार्टर के अंत में थोड़ा जोर लगाया और उन्हें लगातार तीन पेनल्टी कॉर्नर मिल गए। लेकिन भारतीय रक्षात्मक पंक्ति ने अपने प्रतिद्वंद्वियों को दूर ही रखा। दूसरे क्वार्टर में भी फ्रांस ने हमले करना जारी रखा। दूसरे क्वार्टर के तीसरे ही मिनट में उसने एक और पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया जो सफल नहीं रहा। भारत ने भी कुछ मौके बनाये लेकिन वे फ्रांस के सर्कल के अंदर ही विफल हो गए।    फ्रांस ने भारत की रक्षात्मक पंक्ति पर दबाव बनाना जारी रखा और 26वें मिनट में पांचवां पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया जिसे क्लेमेंट ने नीची ड्रैग फ्लिक से गोल में बदल दिया और भारतीय गोलकीपर प्रशांत चौहान कुछ नहीं कर सके।तीसरे क्वार्टर में फ्रांस ने पांच पेनल्टी कॉर्नर प्राप्त किये जिसमें से अंतिम को क्लेमेंट ने गोल में तब्दील कर यूरोपीय टीम को 2-0 से बढ़त दिला दी।  कुछ ही मिनट बाद भारत को एक पेनल्टी कॉर्नर मिला लेकिन शरदानंद तिवारी की फ्लिक वाइड रही। कुछ ही सेंकेड बाद सुदीप का करीबी से किया गया प्रयास फ्रांसिसी गोलकीपर ने बचा लिया।

ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट नीरज चोपड़ा ने किया ‘आउटरीच प्रोग्राम’ लॉन्च, 75 स्कूलों के बच्चों से की बात     सुदीप ने 24वें मिनट में मैदानी गोल से अंतर कम किया और उम्मीद की किरण जगाई।  लेकिन फ्रांस ने आक्रमण जारी रखे और 47वें मिनट में 11वां पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया। एक बार फिर क्लेमेंट ने इस पर गोल कर दिया। फ्रांस ने कहीं भी भारतीय रक्षात्मक पंक्ति से दबाव कम नहीं किया और इस दौरान तीन और पेनल्टी कॉर्नर हासिल कर लिये लेकिन बढ़त नहीं बढ़ा सके। सुदीप को कुछ मिनट बाद शानदार मौका मिला था लेकिन अरिजीत सिंह हुंडाल का पास वाइड चला गया। भारत को अंतर कम करने का एक और मौका एक पेनल्टी कॉर्नर से मिला लेकिन उप कप्तान संजय कुमार की फ्लिक का फ्रांस ने अच्छा बचाव किया। 

Advertisement

Related posts

ब्रेकिंग:-उद्यान घोटाले से जुड़े मामले की जांच रिपोर्ट हाइकोर्ट में पेश,जाने इससे जुड़ी बातें।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-बूथ जोड़ो, यूथ जोड़ो” कार्यक्रम के तहत नई टिहरी में पहुचे उतराखंड युवा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष एवम सह प्रभारी , कांग्रेस जनों द्वारा किया गया भव्य स्वागत।

khabaruttrakhand

बिग ब्रेकिंग:- धामी कैबिनेट की बैठक हुई खत्म, आये बड़े फैसले,

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights