khabaruttrakhand
अल्मोड़ाआकस्मिक समाचारआध्यात्मिकउत्तरकाशीउत्तराखंडखेलचमोलीचम्पावतटिहरी गढ़वालदिन की कहानीदेहरादूननैनीतालपिथोरागढ़पौड़ी गढ़वालीबागेश्वरयू एस नगरराजनीतिकराष्ट्रीयरुद्रप्रयागविशेष कवरस्टोरी

ब्रेकिंग:-ढाई सौ वर्ष पुराना यह कोठार अपनी पहाड़ी शैली के लिए लोगों के आकर्षण का केंद्र।

*अनाज भंडारण ओर कला की अनूठी परम्परा है #कुठार* *राकेश राणा*

प्रताप नगर विकास खंड के पट्टी उपली रमोली मध्य मुखमाल गांव में लगभग ढाई सौ वर्ष पुराना यह कोठार अपनी पहाड़ी शैली के लिए लोगों के आकर्षण का केंद्र बना रहता है।

Advertisement

कुठार यानी वह गोदाम जिसमें अनाज रखा जाता है, अन्न के भंडारण का वह साधन जिसमें धान, गेंहू, कोदू, झंगोरा, चौलाई या दालें सालों तक रखी जा सकती है. कोठार में रखे हुए इन धनधान्य के खराब होने की संभावना न के बराबर होती है. *कोठार को पहाड़ी कोल्ड स्टोर के नाम से जाना जाता है,* जिसमें धान, गेंहू, कोदू, झंगोरा, चौलाई या दालें सुरक्षित रखी जाती है.

कोठार अथवा कुठार जो कि मुख्यतः देवदार,बांझ, रयाल की लकड़ी के बने होते हैं और ये सिर्फ भंडार ही नहीं हमारी संस्कृति के अभिन्न अंग भी रहे हैं, इस भंडार में हमारे बुजुर्गों ने कई पीढ़ियों तक अपने अनाजों और जरूरत के सारे साजो-सामान रखे हैं. ये दिखने में जितने आकर्षक होते हैं उतने ही फायदेमंद भी. पहाड़ों में पुराने समय में लोग सिर्फ खेती किसानी को ही बढ़ावा देते थे और उसी खेती किसानी के जरिए उनकी आमदनी भी होती थी वस्तु विनिमय का जमाना भी था तो लोग बाज़ार और नौकरी को ज्यादा महत्व नहीं देते थे. पहले के समय लोग खेती किसानी से अन्न जैसे धान, गेहूं, मंडवा (कोदा), झंगोरा, कौणी, चिणा, मक्का, जौ या दालें जैसे कि राजमा, उड़द, तोर, रंयास, गहथ, लोबिया, नवरंगी या किसी भी प्रकार की फसलें उगाते थे सबको रखने की एकमात्र जगह थी कुठार, जो कि मुख्य घर से अलग ही होता था.

Advertisement

जो दूर से दिखने में एक अलग मकान जैसा ही होता है बाहर से दिखने पर लगेगा कि छोटा-सा है पर इसके अंदर जाकर ही पता चलता है कि भंडारण की जितनी क्षमता इसमें होती है शायद ही किसी स्टोर रूम की होती होगी. हर अन्न के लिए अलग अलग खाने (सांचे) बने होते थे उसका माप दूण या या बोरी के हिसाब से होता था और जब बात इसके बाहरी सजावट की की जाय तो रवांई-जौनपुर में स्थापत्य कला के ये बेजोड़ नमूने हैं इसके आगे के खंभों पर बारीकी से नक्काशी दार बेल बूटे की आकृतियां बनी हुई होती है जो इसकी सुंदरता में चार चांद लगा देते हैं. दरवाजा छोटा-सा होता है. ताला खोलने के लिए एक लंबी छड़नुमा आकर की चाबी होती है और इसका ताला खोलना हर किसी की बसकी बात नहीं होती है ताला बड़ी तरकीब के साथ खोलना होता है. कोठार/कुठार के दरवाजे से मुख्‍य घर से एक सांगल/चेन बंधी रहती थी और उसमे बीच-बीच में घंटियां भी बंधी रहती थी ताकि यदि कोई चोर चोरी करने के इरादे से कुठार में घुसने की कोशिश भी करेगा तो घर के लोगों को पता चल जाता था कि चोरी होने वाली है. सुरक्षा की ये तरकीब भी अनोखी ही थी यानी कि आज के सीसीटीवी कैमरे चोर को पकड़ने में उतने मददगार साबित नहीं हो पा रहे हैं जितनी हमारे बुजुर्गों की तरकीब कामयाब रही है. भंडारण का जो तरीका हमारे बुजुर्गों ने ईजाद किया है वो आज के बड़े से बड़े इंजीनियर भी नहीं कर पाए हैं, लकड़ी के इस भंडार में किसी भी अन्न में कभी न तो कीड़े पड़ने की संभावना रही है न कोई फफूंद, इस कुठार में हमारी लोक संस्कृति भी दिखती है,

पहाड़ों में लोग पुराने समय से ही खेती किसानी से अपना गुजर बसर करते थे और खेती बाड़ी से ही वे सम्पन्न भी थे लोगों में प्रतिस्पर्धा नाम की चीज दूर दूर तक नहीं थी अगर प्रतिस्पर्धा थी तो वो खेती बाड़ी और पशुपालन को लेकर थी जिस परिवार की जितनी ज्यादा जमीन उसका उतना बड़ा रुतबा और ओहदा होता था जिस परिवार के पास

Advertisement

कुठार होता था उस घर को सर्वगुण सम्पन्न माना जाता था लोग नाते रिश्ते भी जमीन जायदाद और अन्न धन को देखकर करते थे समय बदला और समय के साथ साथ लोगो की सोच और काम करने के तरीको में बदलाव हुए और साथ ही रहन सहन में भी बदलाव हुए लोगों ने कुठार की जगह घर बनाते समय एक स्टोर रूम बनाना शुरू कर दिया क्योंकि खेती में अब कोदा, झंगोरा, कोणी, धान, गेंहू की जगह टमाटर,बीन्स, शिमला मिर्च, राई, मुली, गोभी, मटर, आलू आदि नगदी फसलों ने ले ली है तो हमारे लिए कुठार होना जरूरी नहीं है.

*जिला कांग्रेस कमेटी टिहरी गढ़वाल के अध्यक्ष राकेश राणा ने कहा कि आज कुठार अपने अस्तित्व ही नहीं अपने नाम और संरक्षण की लड़ाई लड रहा है* यदि इसका संरक्षण होम स्टे और पर्यटन के क्षेत्र में किया जाय तो संभवतः इसका बचाव हो सकता है।

Advertisement

Related posts

Uttarakhand Assembly Session: सत्र आरंभ…पूर्व सदस्यों को श्रद्धांजलि, मुख्यमंत्री ने कहा – आज पूरा सदन दुखी

srninfosoft@gmail.com

घनसाली पुलिस तथा उड़नदस्ता टीम की संयुक्त कार्यवाही में जब्त की गई 05 पेटी अवैध अंग्रेजी शराब अभियोग हुआ पंजीकृत।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-गौ बचाओ जन जागरण रथ यात्रा” पहुंची उत्तरकाशी, लोगों का मिल रहा भरपूर सहयोग।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights