khabaruttrakhand
अपराधअल्मोड़ाआकस्मिक समाचारउत्तरकाशीउत्तराखंडखेलचमोलीटिहरी गढ़वालदिन की कहानीदेहरादूननैनीतालपिथोरागढ़पौड़ी गढ़वालीबागेश्वरमनी (money)यू एस नगरराजनीतिकराष्ट्रीयरुद्रप्रयागविशेष कवरस्टोरीस्वास्थ्यहरिद्वार

ब्रेकिंग:-मानकों से हुआ खिलवाड़, टूटेगा निर्माणाधीण मेडिकल कॉलेज के कई भवनों का ढांचा।

मानकों से हुआ खिलवाड़, टूटेगा निर्माणाधीण मेडिकल कॉलेज के कई भवनों का ढांचा।

रुद्रपुर मेडिकल कॉलेज से जुड़ी एक बड़ी खबर मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सामने आ रही है जिसमें बताया जा रहा है कि रुद्रपुर मेडिकल कॉलेज की उन सभी भवनों का ढांचा ध्वस्त किया जाएगा जिन पर खराब गुणवत्ता के चलते मानकों में फेल होने के आरोप हैं ।

Advertisement

बताया जा रहा है कि मेडिकल कॉलेज की 14 ऐसी भवन निर्माणधीन है जो जिनका ढांचा अब ध्वस्त किया जाएगा ।

मानकों से हुआ खिलवाड़, टूटेगा निर्माणाधीण मेडिकल कॉलेज के कई भवनों का ढांचा।

Advertisement

रुद्रपुर मेडिकल कॉलेज से जुड़ी एक बड़ी खबर मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सामने आ रही है जिसमें बताया जा रहा है कि रुद्रपुर मेडिकल कॉलेज की उन भावनाओं का ढांचा ध्वस्त किया जाएगा।

जिन पर खराब गुणवत्ता के चलते मानकों में फेल होने के आरोप हैं वही बताया जा रहा है कि मेडिकल कॉलेज की 14 ऐसी भवन है जो निर्माण अधीन है और जिनका ढांचा ध्वस्त किया जाएगा।

Advertisement

इस मामले में सचिव स्वास्थ्य ने निर्माण करने वाली इपिल कंपनी को कहा है कि वहां 31.78 करोड रुपए ब्याज और जो रकम 50 करोड रुपए में से खर्च हुए हैं उसे ब्याज सहित लौट आएगी यह आदेश स्वास्थ्य सचिव ने दिया है।

कंपनी को कहा है कि वहां 31.78 करोड रुपए ब्याज और जो रकम 50 करोड रुपए में से खर्च हुए हैं उसे ब्याज सहित लौटाने की बात कही गयी है और बाकयदा इसका यह आदेश स्वास्थ्य सचिव ने दिया है।

Advertisement

आपको बताते चलें मीडिया रिपोर्ट के अनुसार यह पूरा मामला पंडित राम सुमेर शुक्ल राजकीय मेडिकल कॉलेज रुद्रपुर का बताया गया है, जहां पर 14 भवनो का निर्माण कार्य चल रहा था और यह निर्माण कार्य करने वाली कंपनी का नाम है ईपीआईएल कंपनी यानी इंजीनियरिंग प्रोजेक्ट इंडिया लिमिटेड।

वहीं इस कंपनी को बनाने के लिए इस भवन के लिए सरकार की ओर से 50 करोड रुपए की धनराशि जारी की गई थी जिसमें से लगभग 31.78 करोड रुपए खर्च हुए है ऐसा बताया जा रहा है वहीं अब ईपीआईएल कंपनी को यह रकम ब्याज सहित लौटाने के भी आदेश दिए गए हैं।

Advertisement

वहीं सरकार द्वारा ईपीआईएल कंपनी की जगह अब यह निर्माण कार्य पेयजल निर्माण निगम को सौंपा जाएगा यह भी जानकारी सामने निकालकर आयी है।
जिसमे यह भी जानकारी में बताया जा रहा है कि निर्माणाधीन भवनों की ढांचों की जांच बाकायदा आईआईटी रुड़की के सिविल इंजीनियरिंग विभाग से कराई गई थी ।
यही नही इसके अलावा चिकित्सा शिक्षा निदेशालय ने अपने ओर से नामित एक एजेंसी से भी इसकी जांच कराई थी और जांच किए गए कार्यों में यहां पाया गया कि सभी निर्माण जो किये गए हैं, वह मानकों में फेल हैं यहां अब यह तय किया गया है कि सभी 14 निर्माणधीन कार्यों का ढांचा अब तोड़ा जाएगा।

वही इस पूरे मामले में इस मामले में स्वास्थ्य सचिव ने मंगलवार को मीडिया को बताते हुए कहा कि ईपीआईएल कंपनी के महाप्रबंधक को खर्च की गई रकम के पैसे ब्याज सहित लौटाने के निर्देश दिए गए हैं ।

Advertisement

वहीं यह भी बताया जा रहा है कि अगर ईपीआईएल कंपनी द्वारा पैसे नहीं लौटाए जाएंगे तो उन पर कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी ।

फिलहाल यह बात सामने निकलकर आयी है कि मेडिकल कॉलेज की निर्माण अधीन 14 भवनों के इन ढांचों को ध्वस्त किया जाएगा और नया निर्माण कार्य पेयजल निगम द्वारा कराया जाएगा ।
वहीं इस कार्य में बरती गई अनियमितता और मानकों के साथ खिलवाड़ के चलते ईपीआईएल कंपनी को स्वास्थ्य विभाग द्वारा काली सूची में डाला जाएगा यह बात भी कही जा रही है।

Advertisement

Related posts

राज्य बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष डॉ. गीता खन्ना द्वारा छात्र-छात्राओं को इस दोस्ती से दूर रहने का संदेश देते हुए नशा मुक्ति एवं साइबर सेफ्टी की ओर किया ध्यान आकर्षित।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, एम्स ऋषिकेश द्वारा यूथ- 20 कन्सल्टेंसी के अन्तर्गत अंतर्राष्ट्रीय भारत-नेपाल सीमा से सटे विभिन्न क्षेत्रों में स्वास्थ्य चौपाल का किया आयोजन।

khabaruttrakhand

Police School: DSP Anil Kumar Joshi ने बच्चों को सिखाया कानून का पाठ, कहा- वर्दी की नौकरी के लिए अभी से करनी होगी तैयारी

srninfosoft@gmail.com

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights