khabaruttrakhand
उत्तराखंड

Uttarakhand गठन के 23 साल बाद भी अनसुलझा है सीमा विवाद, भूमाफिया कर रहे अवैध कब्जा

Uttarakhand गठन के 23 साल बाद भी अनसुलझा है सीमा विवाद, भूमाफिया कर रहे अवैध कब्जा

Lakshmanath: Uttarakhand राज्य के गठन के 23 वर्षों के बाद भी सीमा क्षेत्रों में सीमा विवाद अनसुलझा है। सीमा रेखा की कमी के कारण यहां के किसानों के बीच दीर्घकाल से विवाद जारी है। इस विवाद का उपयोग करके यहां भूमि माफिया ने इस स्थान पर अवैध कब्जा किया है। पिछले कई वर्षों से इस स्थान पर भूमि के स्वामित्व के विवाद के कारण यहां अनेक संघर्ष हुए हैं।

साल 2000 में Uttarakhand राज्य को Uttar Pradesh से अलग किया गया था। उस समय, Uttar Pradesh के बिजनौर और Muzaffarnagar tehsils में गंगा को सीमा माना गया था, जो Laksar tehsil के समीप था, लेकिन सीमा के कई गाँवों में सीमा के अलावा दो राज्यों के किसानों की ज़मीन है। दो राज्यों की सीमा के बीच हजारों बीघा ज़मीन है। माप की कमी के कारण इन ज़मीनों के स्वामित्व के संबंध में दो राज्यों के सीमावार क्षेत्रों के किसानों के बीच विवाद है।

Advertisement

कहा गया था कि भूमि माफिया अवैध रूप से विवादित भूमि का कब्ज़ा कर रहा है और फसलें उगा रहा है। हाल ही में स्थानीय किसानों की शिकायत पर, प्रशासन ने Uttar Pradesh tehsil प्रशासन के साथ संयुक्त माप के प्रयास के लिए कोशिश की थी। इस दौरान, सीमा पर दोनों राज्यों के अधिकारियों के बीच एक संयुक्त बैठक हुई और मानचित्रों को भी मिलाया गया।

लेकिन इस संयुक्त माप की क्रिया को शुरू नहीं किया जा सका। SDM Gopal Singh Chauhan कहते हैं कि सीमा विवाद के संबंध में Uttar Pradesh प्रशासन को पत्र लिखा गया है। सीमा विवाद को दोनों राज्यों की संयुक्त टीम बनाकर हल किया जाएगा।

Advertisement

Related posts

Uttarakhand: कर्मचारी न वेतन, हड़प लिए PF के 32 लाख रुपये, दून में बनी कंपनी के खिलाफ मुकदमा दर्ज

cradmin

ब्रेकिंग:-बी0डी0पांडे चिकित्सालय में विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस के उपलक्ष्य पर जागरुकता शिविर का आयोजन किया गया।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-डेंगू से बचाव और रोकथाम के लिए एम्स ऋषिकेश के सोशल आउटरीच सेल की ओर से चलाए गए सेवन प्लस वन अभियान को राज्य के सभी जिलों में किया गया लागू।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights