khabaruttrakhand
उत्तराखंड

Uttarakhand में वाहन टैक्स संशोधन के लिए फार्मूला तय करने में देरी, कई सालों तक मालवाहकों और सवारी वाहनों का Tax नहीं बढ़ा सका।

Uttarakhand में वाहन टैक्स संशोधन के लिए फार्मूला तय करने में देरी, कई सालों तक मालवाहकों और सवारी वाहनों का Tax नहीं बढ़ा सका।

Uttarakhand: स्थिति यह है कि राज्य में वस्तुओं और यातायात वाहनों पर हर वर्ष Taxes बढ़ेगा। परिवहन विभाग अपना प्रस्ताव तैयार कर रहा है। इस परियोजना को Cabinet में लाने की भी तैयारी है। इसके बाद राज्य में यह नया प्रणाली लागू की जाएगी। इससे हर वर्ष लगभग पाँच प्रतिशत की वृद्धि होगी।

राज्य में वाहन Tax की संशोधन के लिए अब तक कोई सूत्र तय नहीं हुआ है। कई सालों तक वस्तुओं और यातायात वाहनों पर कर नहीं बढ़ते हैं। इसके बाद, कई सालों के बाद Tax बढ़ने पर, यह वाहन मालिकों और जनता के पैरों पर बोझ बढ़ाता है। वर्षों से वाहनों के कर दरों में कोई संशोधन नहीं हुआ है।

Advertisement

संयुक्त परिवहन आयुक्त SK Singh ने कहा, विभाग एक सूत्र तैयार कर रहा है जिससे कि इसे हर वर्ष पाँच प्रतिशत बढ़ा दिया जाएगा। उन्होंने कहा, निजी वाहनों का कर उनके मूल्य के अनुसार है, जो बढ़ता है, लेकिन सामान वाहनों का Tax उनके वजन के अनुसार है और यातायात वाहनों का Tax उनके वजन के अनुसार है।

इसलिए, इस सूत्र के तहत, इस Tax को हर वर्ष स्वचालित रूप से पाँच प्रतिशत बढ़ाया जाएगा। इससे वाहन मालिकों पर कोई बोझ नहीं पड़ेगा। इसका प्रस्ताव Cabinet में आएगा, जिसके बाद इस पर निर्णय लिया जाएगा।

Advertisement

यात्रा में बढ़ोतरी के लिए भी सूत्र तैयार हो रहा है

हर वर्ष, निजी बसों, सड़कों, ऑटोज, Vikram और भारी वाहनों के सार्वजनिक यात्री और भारी वाहनों के फ्रेट शुल्क की संशोधन के लिए एक सूत्र भी तैयार हो रहा है। पहले इस प्रस्ताव ने राज्य परिवहन प्राधिकृति की मीटिंग में आया था, जिसमें कुछ संशोधन किए जाने की मांग की गई थी। इसकी सूत्रधारिता कमिशन विभागाध्यक्ष Rajeev Mehra की अध्यक्षता में एक समिति तैयार कर रही है। यह प्रस्ताव राज्य परिवहन प्राधिकृति की मीटिंग में लाया जाएगा, जिसके बाद इसे पारित किया जाएगा।

अब तक कर इस प्रकार बढ़ रहा है

व्यक्तिगत वाहन: इसकी निर्धारण के लिए उन्होंने से प्रमिलन किया है। पिछली बार इसे 5 लाख रुपये तक के वाहनों के लिए 8 प्रतिशत, 5 से 10 लाख रुपये के बीच के वाहनों के लिए 9 प्रतिशत और 10 लाख रुपये से ऊपर के वाहनों के लिए 10 प्रतिशत में तय किया गया था।

Advertisement

यात्री वाहन: उन क्षेत्रों को देखा जाता है जहां परिवहन के साधन कम और आवश्यकता अधिक है। इस प्रकार के क्षेत्रों में, निजी यात्री वाहनों पर taxes अन्यों से कहीं कम रखा जाता है।

लोडिंग वाहन: इसे अन्य राज्यों के taxes से, साथ ही राजस्व लक्ष्य, मुद्रास्फीति आदि को ध्यान में रखकर तय किया जाता है। इसे प्रतिवर्ष प्रतितिन क्वार्टर की दर पर तय किया जाता है। जैसे प्रतितिन क्वार्टर की दर प्रति टन रुपये 1। जो कि 210 रुपये प्रति टन प्रतितिन क्वार्टर है। परिवहन विभाग को निजी वाहनों से 77 प्रतिशत tax मिलता है और लोडिंग वाहनों से केवल 20 से 23 प्रतिशत tax मिलता है।

Advertisement

Related posts

क्लीनिकल ट्रायल का कैंसर के उपचार एवं निदान में योगदान -विश्व स्वास्थ्य दिवस 7 अप्रैल पर विशेष

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-थानाध्यक्ष द्वारा स्थानीय युवाओं को नशे के दुष्परिणामों के प्रति जागरुक करते हुए दी गई फिजिकल फिटनेस एवं सेल्फ डिफेंस की ट्रेनिंग।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-अवैध शराब पर कार्यवाही जारी, अवैध बिक्री करने पर गिरफ्त में।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights