khabaruttrakhand
BLOGGERआकस्मिक समाचारउत्तराखंडटिहरी गढ़वालदिन की कहानीदुनियाभर की खबरेदेहरादूनराजनीतिकराष्ट्रीयविशेष कवरस्टोरीस्वास्थ्य

दावे और हकीकत:-मरणासन्न की स्थिति में पहुँच गया यह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ,यहां तो इलाज करने वाले अस्पताल को हो गयी इलाज़ की सख्त जरूरत।

दावे और हकीकत:-मरणासन्न की स्थिति में पहुँच गया यह सामुदादावे और हकीकतयिक स्वास्थ्य केंद्र ,यहां तो इलाज करने वाले अस्पताल को हो गयी इलाज़ की सख्त जरूरत।

स्वास्थ्य को लेकर हो रहे दावे और वादे तो अक्सर आप मीडिया के माध्यम से नेताओ द्वारा जनता को भेजे जा रहे संदेशों में सुनते और पढ़ते रहते हैं।

Advertisement

ऐसी खबरों से जनमानस खुसी की आस में लोट पोट हो जाता है कि बस अब तो झटके में व्यवस्था सुधर जाएगी।
बुजुर्ग और बीमार इस आस में अपने हौसलों को और भी बुलंद कर देते है कि अब वह दिन दूर नही जब सबकुछ ठीक हो जाएगा।

लेकिन जब टिहरी जनपद के इस सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र की हालत देखते है तो लगता है कि केवल जनता को बेहतर सुविधा देने के सब्जबाग दिखया जाता रहा है।

Advertisement

टिहरी जनपद के बेलेश्वर मठियाली में स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बेलेश्वर की हालत वर्तमान समय में बद से बदतर हो गए है।

Advertisement

घनसाली विधानसभा के एकमात्र सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बेलेश्वर की अगर वर्तमान हालातो में बात करे तो जहां 8 से 10 डॉक्टरों की टीम होने चाहिए थी जिसमे स्पेसिलिस्ट डॉक्टर भी शामिल है उनमें से यहां मात्र 2 एमबीबीएस डॉक्टर ही मौजूद है।

बेहद दुरस्त क्षेत्र से जुड़े इस विधानसभा में आज मानो स्वास्थ्य सेवाएं मानो पूरी तरह से दम तोड़ने पर आमादा है, बेलेश्वर अस्पताल की वर्तमान हालात को देखकर तो यही लगता है।
अब हालात यह है कि दुरस्त क्षेत्रों से ग्रामीण अपनी बेमारी के इलाज के घनसाली और चमियाला बाजारों में ही जाते है इस अस्पताल में नाममात्र के मरीज ही देखने को मिलते है।

Advertisement

ऐसा नही है कि सब लोग स्वस्थ है लेकिन लोगों को अब इस अस्पताल की व्यवस्था पर भरोसा ही नही रह गया है।
स्थानीय लोगों में इस अस्पताल की दुर्दशा को देखकर रोष पनप रहा है।
लोगों की आंखों में इस अस्पताल की दुर्दशा को देखकर आंसू आ जाते है कि आखिर क्या इसी दिन के ये स्थनीय लोगों ने अपनी जमीन और पैसे इस अस्पताल के लिए दान किया था।
अब बस लोग ठगे के ठगे रह गए हैं।

वही इस अस्पताल परिसर में लाखो रुपये खर्च करके शो पीस बना यह सचल वाहन विभाग की जिंदादिली का एक बेहतरीन उदाहरण पेश कर रहा है।

Advertisement

वहीं इस मामले में जब हमारे द्वारा टेहरी सीएमओ डॉ मनु जैन से बात की गई तो उनका कहना था कि बॉंडधारी डॉक्टर काम करने को ही तैयार नही है।
उन्होने बताया कि ये आते ही पीजी की तैयारी में लग जाते है और जब मर्जी तब छुट्टी चले जाते है ऐसे डॉक्टरों से काम लेना विभाग को काम लेना बहुत मुश्किल भरा है।

Advertisement

वर्तमान समय मे टिहरी जनपद में 15 से 20 बॉंडधारी डॉक्टर छुट्टी पर चल रहे है।

एक तरफ सरकार की तरफ से बॉण्डधारी डॉक्टरो से सेवाएं लेने के लिए कई नियम कानून बनाये गए है वही अब इन्ही डॉक्टरों से काम लेना मानो विभाग के लिए नाखों चने चबाने वाली स्थिति बन गयी है।

Advertisement

वर्तमान समय मे जहाँ दूरस्थ क्षेत्री के ग्रामीण केमिस्ट पर भरोसा कर अपना इलाज़ करवाने को तैयार है और उनके पास अच्छे खासे मरीजो की तादात रहती है वही 30 बेड वाले अस्पताल और डिग्री धारक डॉक्टरों से लोगों का मानो भरोसा ही उठ गया हो।
सामुदायिक स्वास्थ्य केन्ड बेलेश्वर की ओपडी इस बात की और इशारा करती है कि सरकारी अस्पतालों पर लोगो का अब भरोसा शायद पहाड़ो में खत्म हो चुका है।
ऐसे हालात में ग्रामीणों के इलाज के लिए बनाए गए इस सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को स्वयं ही इलाज़ की आवश्यकता पड़ रही है यह ऐसा लगता यही मानो मरणासन्न स्थिति में पहुँच गया हो।
दावे और हकीकत जमीन पर कही भी टिकते नजर नही आ रहे है।
लोगों के साथ स्वास्थ्य सेवाओ के नाम पर केवल धोखा ही हो रहा है।
अच्छी खासे भवन वाले इस अस्पताल की स्थिति का अंदाजा आप इस बात से भी लगा सकते है कि सीएचसी के लिए प्रभारी भी पीएचसी केन्द्र में सेवा देने वाले डॉक्टरों को दिया जा रहा है।

अब ऐसे क्यो हो रहा है वह भी अपने आपमें एक सवाल है।
वही सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र प्रभारी की बात करें तो वह फ़ोन उठाने को भी तैयार नही है।
अब अस्पताल की इस स्थिति को देखकर यही लगता है कि जनता त्रस्त है और नेताजी मस्त है।

Advertisement

आखिर ऐसे रुकेगा पलायन ,कैसे इस भारी भरकम शब्द पर राहत पहाड़ के बाशिंदों को मिलती दिखेगी वह अभी इन हालातों में बहुत बड़ा विषय बना हुआ है।

घनसाली क्षेत्र के लोगों को कभी बेहतर स्वास्थ्य सेवा का लाभ मिल भी पायेगा वह एक बड़ा सवाल है।

Advertisement

वही स्थानीय जनप्रतिनिधियों की बात करे तो सभी कहीं ना कही बातों  की मीठी गोली देकर  जनता को टरकाने की कोशिस में लगे हुए।

सवाल यह है कि बिल्ली के गले मे घण्टी कौन बांधेगा।

Advertisement

Related posts

ब्रेकिंग:-जनता मिलन कार्यक्रम एवं अवैध खनन की मासिक बैठक।

khabaruttrakhand

बागेश्वर उपचुनाव चुनाव 2023: जाने कौन हारा, कौन जीता ,अपने निकटतम प्रतिद्वन्दी से।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-अवैध नशा कारोबारी की धरपक्कड लगातार जारी, पुलिस व SOG की संयुक्त टीम द्वारा 24.61 ग्राम स्मैक के साथ 01 मुख्य स्मैक सप्लायर को किया गया गिरफ्तार।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights