khabaruttrakhand
उत्तराखंडराजनीतिक

Lok Sabha Election: टिहरी सीट BJP आठ बार जीती जरूर, मगर Congress की जड़ों को नहीं हिला पाई, ऐसा रहा है इतिहास

Lok Sabha Election: टिहरी सीट BJP आठ बार जीती जरूर, मगर Congress की जड़ों को नहीं हिला पाई, ऐसा रहा है इतिहास

Lok Sabha Election: टिहरी लोकसभा के चुनावी समर में BJP ने राजपरिवार के सहारे नौ में से आठ बार जीत दर्ज की, लेकिन दूसरा पहलू यह भी है कि BJP लगातार जीत के बावजूद Congress के पारंपरिक वोट बैंक के रूप में स्थापित जड़ों को नहीं हिला पाई।

पिछले तीन चुनाव से (एक उपचुनाव, दो चुवाव) BJP की ओर से राजपरिवार की सदस्य माला राज्यलक्ष्मी शाह लोकसभा में टिहरी का प्रतिनिधित्व कर रही हैं। इन दो चुनाव में Congress का पारंपरिक वोट बैंक करीब ढाई फीसदी ही खिसक पाया। सियासी जानकारों का मानना है कि इसी वोट बैंक पर सेंध लगाने के लिए BJP ने बूथ प्रबंधन का विशेष अभियान चलाया है। 2024 के लोकसभा चुनाव में BJP का यह बूथ प्रबंधन भी कसौटी पर होगा।

Advertisement

चुनावी इतिहास खंगालने पर पता चलता है कि टिहरी लोकसभा सीट पर अब तक हुए चुनावों में राज परिवार का वर्चस्व रहा। आजादी के बाद से 90 के दशक तक यह क्षेत्र Congress का गढ़ रहा है। जिस दल में राज परिवार रहा उस दल को ही यहां से अकसर जीत मिलती रही, लेकिन लगातार दो आम चुनावों में हार के बावजूद राज परिवार का जादू Congress की जड़ों को नहीं हिला पाया। Congress को 2014 में 31 फीसदी और 2019 में 30 फीसदी मत मिले थे।

2019 में चुनाव हार गए थे प्रीतम सिंह

1949 में टिहरी रियासत का भारतीय संघ में विलय के बाद 1951-52 के पहले लोकसभा चुनाव में राजा मानवेंद्र शाह को चुनाव लड़ाने की तैयारी थी, लेकिन उनका नामांकन खारिज होने पर महारानी कमलेंदुमति को निर्दलीय चुनाव में उतारा गया और उन्होंने जीत हासिल की। 1957 से 1989 तक इस सीट पर Congress का कब्जा रहा। 1977 में त्रेपन सिंह नेगी BLD से चुनाव जीते और 1980 में Congress टिकट पर चुनाव जीता। राज परिवार के BJP में शामिल होने के बाद 1991 में मानवेंद्र शाह से BJP के टिकट चुनाव जीता और 2004 तक लगातार सांसद चुने गए। 2009 में Congress से विजय बहुगुणा ने जीत हासिल की। इसके बाद इस सीट पर BJP का कब्जा है। 2014 में Congress से साकेत बहुगुणा और 2019 में प्रीतम सिंह यहां से चुनाव हार गए थे।

Advertisement

इस बार की स्थिति

इस चुनाव में BJP ने चौथी बार माला राज्य लक्ष्मी शाह को चुनाव मैदान में उतारा है। उनका मुकाबला Congress प्रत्याशी जोत सिंह गुनसोला से होगा। गुनसोला पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं।

टिहरी सीट में ये विधानसभा क्षेत्र शामिल

टिहरी संसदीय क्षेत्र में 14 विधानसभा क्षेत्र हैं। इनमें पुरोला, यमुनोत्री, गंगोत्री, घनसाली, प्रतापनगर, टिहरी, धनोल्टी, चकराता, विकासनगर, सहसपुर, रायपुर, राजपुर रोड, देहरादून कैंट व मसूरी विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं।

Advertisement

कब-कब जीती Congress

वर्ष सांसद दल
1952 महारानी कमलेंदुति निर्दलीय
1957 मानवेंद्र शाह Congress
1962 मानवेंद्र शाह Congress
1967 मानवेंद्र शाह Congress
1971 परिपूर्णानंद पैन्यूली Congress
1977 त्रेपन सिंह नेगी BLD
1980 त्रेपन सिंह नेगी BLD
1984 ब्रह्मदत्त Congress
1989 ब्रह्मदत्त Congress
1991 मानवेंद्र शाह BJP
1996 मानवेंद्र शाह BJP
1998 मानवेंद्र शाह BJP
1999 मानवेंद्र शाह BJP
2004 मानवेंद्र शाह BJP
2009 विजय बहुगुणा Congress
2012 माला राज्य लक्ष्मी शाह BJP
2014 माला राज्य लक्ष्मी शाह BJP
2019 माला राज्य लक्ष्मी शाह BJP

चुनाव वार मत प्रतिशत

चुनाव BJP Congress
2019 64.3 30.11
2014 57.3 32.75
2009 35.98 45.04
2004 47.62 64.52

टिहरी क्षेत्र में मतदाता

कुल मतदाता           –             1572110

महिला मतदाता       –                752558

Advertisement

पुरुष मतदाता          –                806614

सर्विस मतदाता        –                   12876

Advertisement

ट्रांसजेंडर                 –                         62

राजपरिवार और हरीश रावत परिवार तक सीमित रहा टिकट

BJP और Congress यह कह सकती है कि इतिहास में उसने महिलाओं को प्रत्याशी बनाया, लेकिन दिलचस्प बात यह है कि दोनों दलों में महिलाओं का यह टिकट राज परिवार और हरीश रावत परिवार तक सीमित होकर रह गया। Congress 2004 में हरीश रावत की पत्नी रेणुका रावत को उम्मीदवार बनाया। इसके बाद 2014 में एक फिर रेणुका रावत हरिद्वार से Congress की प्रत्याशी बनीं। BJP ने टिहरी सीट से माला राज्य लक्ष्मी को 2012 के उपचुनाव में सबसे पहली बार प्रत्याशी बनाया। टिहरी परिवार की यह महिला प्रतिनिधि 2014, 2019 और अब 2024 में पार्टी की प्रत्याशी है। दिलचस्प यह है कि इस बार टिहरी सीट पर छह से अधिक महिला नेताओं ने टिकट की दावेदारी की थी। अल्मोड़ा सीट पर कैबिनेट मंत्री रेखा आर्य की दावेदारी थी। नैनीताल-ऊधम सिंह नगर और हरिद्वार में भी महिला नेताओं की दावेदारी की चर्चा रही। लेकिन पार्टी ने टिहरी सीट पर राजपरिवार की सदस्य माला राज्यलक्ष्मी पर ही भरोसा जताया।

Advertisement

Related posts

ब्रेकिंग:-हाईकोर्ट ने कहा 10 दिन के भीतर अतिक्रमण हटा लें अन्यथा आदेश सुनाया जाएगा।

khabaruttrakhand

स्वास्थ्य:-विश्व ट्रॉमा सप्ताह के पांचवें दिन आम जनमानस को कार्य व्यस्थता के साथ साथ साईकिल रैली के माध्यम से स्वस्थ जीवन शैली को अपनाने का दिया संदेश।

khabaruttrakhand

Uttarakhand ने पूर्व हड़ताल की धमकियों के बीच ऊर्जा निगमों में हड़ताल को रोकने के लिए ESMA कार्यान्वयन को छह महीने के लिए बढ़ा दिया है।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights