khabaruttrakhand
Uttar Pradeshराजनीतिक

Meerut-Hapur Lok Sabha: विधानसभा की एक सीट ही पलट देती है पूरी बाजी, थोक में मिले वोटों ने की थी भाजपा की नैया पार

Meerut-Hapur Lok Sabha: विधानसभा की एक सीट ही पलट देती है पूरी बाजी, थोक में मिले वोटों ने की थी भाजपा की नैया पार

Meerut-Hapur Lok Sabha: 2019 के चुनाव में इस सीट को छोड़ दिया जाए तो BJP एक लाख से ज्यादा वोटों से पीछे थी, लेकिन अकेले कैंट की सीट ने BJP के लिए बाजी ही पलट दी। इस विधानसभा क्षेत्र ने न सिर्फ BJP और BSP के बीच के वोटों के अंतर को खत्म किया, बल्कि 4729 वोटों से जीत दिलाने मे भी कामयाबी दिलाई। हाजी मोहम्मद याकूब ने पांच में से चार विधानसभा सीटों पर अच्छी खासी बढ़त बनाई थी। सिर्फ कैंट में पिछड़े और इतना पिछड़े की उन्हें हार का सामना करना पड़ा।

2014 के चुनाव में BJP ने हर विधानसभा सीट पर अच्छी खासी बढ़त बनाई थी और 2 लाख 32 हजार वोटों से जीत का परचम लहराया था। इस चुनाव में BJP से राजेंद्र अग्रवाल, BSP से शाहिद अखलाक और SP की ओर से शाहिद मंजूर मैदान में थे।

Advertisement

ध्रुवीकरण के आधार पर हुए इस चुनाव में BJP ने तो एकतरफा वोट हासिल किया, लेकिन मुस्लिम मतदाताओं के बीच शाहिद मंजूर और शाहिद अखलाक को वोट लगभग बराबर के बंटे। यही वजह थी कि BJP ने सवा दो लाख से भी अधिक वोटों के अंतर से यहां फतह हासिल की थी।

2009 के लोकसभा चुनाव में मुकाबला त्रिकोणीय था। केंद्र में Congress की सरकार थी और प्रदेश में BSP की। SP अपने वजूद की लड़ाई लड़ रही थी। BJP ने राजेंद्र अग्रवाल को अपना प्रत्याशी बनाया था, जबकि BSP ने मलूक नागर और SP ने शाहिद मंजूर को उतारा था। सबसे कड़ा मुकाबला मेरठ दक्षिण में था।

Advertisement

हापुड़ में BJP को 39673 वोट, BSP को 37970 वोट और SP को 31063 वोट मिले थे। किठौर ऐसी सीट थी जहां BJP तीसरे नंबर पर रही थी। BSP को यहां सबसे अधिक 50548 वोट और SP को 47569 वोट मिले थे। राजेंद्र अग्रवाल को 35913 लोगों ने वोट किया था। सबसे बड़ा अंतर पैदा किया मेरठ कैंट सीट ने। यहां BJP को बड़ी बढ़त मिली। बढ़त करीब 28 हजार वोटों की थी।

2009 में हुए परिसीमन के बाद मेरठ सीट का गणित ही बदल गया। पहले इसमें मेरठ जिले की ही पांच विधानसभा सीटें थीं। इसमें किठौर, कैंट और मेरठ शहर के अलावा हस्तिनापुर और खरखौदा सीटें मेरठ लोकसभा का हिस्सा थीं।

Advertisement

परिसीमन में हस्तिनापुर को बिजनौर लोकसभा क्षेत्र में शामिल कर दिया गया और खरखौदा की जगह मेरठ दक्षिण सीट का नाम दे दिया गया। हापुड़ शहर की सीट को मेरठ से जोड़ दिया गया। सीट का नाम भी मेरठ-हापुड़ लोकसभा क्षेत्र कर दिया गया।

प्रत्याशियों को कैंट विधानसभा सीट पर मिले वोट

2019

 उम्मीदवार पार्टी मेरठ कैंट मेरठ शहर मेरठ दक्षिण  किठोर  हापुड़  कुल
 राजेंद्र अग्रवाल  भाजपा 168074  79241 122496 109222 103943  582976
हाजी मोहम्मद याकूब बसपा  65322  109637 152210  131039 122389 580597
जीत का अंतर : 4729, विजेता राजेंद्र अग्रवाल भाजपा (पोस्टल बैलेट मिलाकर)

 2014

Advertisement
उम्मीदवार पार्टी मेरठ कैंट मेरठ शहर मेरठ दक्षिण किठौर हापुड़ कुल
राजेंद्र अग्रवाल भाजपा 153448  81690 107901   94893 93966  531898
शाहिद अखलाक    बसपा बसपा 44397   46022  84564   63047 62237 300267
शाहिद मंजूर    सपा  सपा  15495    52237    48016   57460  38365  211573
जीत का अंतर : 232326 विजेता राजेंद्र अग्रवाल भाजपा (पोस्टल बैलेट मिलाकर)
2009
उम्मीदवार पार्टी मेरठ कैंट  मेरठ शहर मेरठ दक्षिण  किठौर  हापुड़ कुल
राजेंद्र अग्रवाल भाजपा 65569  46708 44202  35913 39673  232065
मलूक नागर  बसपा  37441  14303  44689  50548  37970 184951
शाहिद मंजूर   सपा  15841  48826  40218  47569  31063  183517
राजेंद्र शर्मा  कांग्रेस  22696  9546  12023  6411  10303  60979
 जीत का अंतर : 47146, विजेता राजेंद्र अग्रवाल, भाजपा (पोस्टल बैलेट मिलाकर)

Related posts

आपदा प्रशिक्षण:-*जनपद आपदा प्रबंधन प्राधिकरण टिहरी गढ़वाल द्वारा जनपद के विभिन्न विद्यालयों के प्रशिक्षण कार्यक्रमों की श्रृंखला में छात्र- छात्राओं एवं विद्यालय कर्मियों को दिया जा रहा आपदा प्रबंधन एवं अन्य महत्वपूर्ण जन-जागरूकता संबंधी जानकारियां ।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-उप जिलाधिकारी द्वारा राजकीय एलोपैथिक चिकित्सालय रजाखेत तहसील मदननेगी का आकस्मिक निरीक्षण,कर्मी मिले अनुपस्थित।

khabaruttrakhand

Hathras News: BJP के साथ गठबंधन की अफवाहें, RLD से टिकट का दावा करने वालों की धड़कनें तेज हो गई

cradmin

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights