khabaruttrakhand
उत्तराखंडराजनीतिक

Elections 2024: Uttar Pradesh का जमाना हो या Uttarakhand बनने का बाद का, राष्ट्रीय दलों की रही धूम, निर्दलीय रहे निर्बल

Elections 2024: UP का जमाना हो या Uttarakhand बनने का बाद का, राष्ट्रीय दलों की रही धूम, निर्दलीय रहे निर्बल

Uttar Pradesh का जमाना हो या Uttarakhand बनने का बाद का। लोकसभा चुनावों में राष्ट्रीय दलों की ही धूम रही है। राज्य गठन से पहले जरूर दो आम चुनाव में एक-एक निर्दलीय और एक उपचुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी जीता है लेकिन राज्य गठन के बाद से आज तक किसी निर्दलीय को लोकसभा चुनाव में जीत नसीब नहीं हुई। ये बात अलग है कि विधानसभा चुनावों में निर्दलीयों का बोलबाला रहा है।

राज्य गठन से पहले वर्ष 1951 के आम चुनाव में टिहरी लोकसभा सीट पर निर्दलीय प्रत्याशी महारानी साहिबा कमलेंदु मति शाह ने बंपर जीत दर्ज की थी। उन्होंने Congress के कृष्ण सिंह को हराया था। महारानी को इस चुनाव में 50.94 प्रतिशत तो Congress प्रत्याशी को 40.59 प्रतिशत मत मिले थे। इसके बाद 1967 के आम चुनाव में देहरादून लोकसभा सीट पर निर्दलीय केवाई सिंह ने लगातार तीन बार के सांसद महावीर त्यागी को हराया था। केवाई सिंह को इस चुनाव में 49.83 प्रतिशत जबकि महावीर त्यागी को 36.64 प्रतिशत वोट मिले थे।

Advertisement

गढ़वाल में बहुगुणा का रहा शानदार प्रदर्शन

इसके बाद 1982 के उपचुनाव में Congress से बगावत करके निर्दलीय हेमवती नंदन बहुगुणा ने गढ़वाल लोकसभा सीट पर Congress के प्रत्याशी चंद्र मोहन सिंह नेगी को मात दी थी। Congress ने चंद्र मोहन सिंह नेगी को बहुगुणा के खिलाफ उतारा। नेगी को इंदिरा के प्रतिनिधि के तौर पर देखा गया। बहुगुणा इस विद्रोह का पहाड़ का एक बड़ा वर्ग कायल था। जब बहुगुणा ने चुनावी सभा की तो इतनी भीड़ जुटी की पांव रखने के लिए जमीन नहीं बची।

बहुगुणा की जमीनी का ताकत का अंदाजा लगाने के लिए इंदिरा गोपनीय ढंग से देहरादून पहुंची थी और उन्होंने परेड ग्राउंड के एक स्थान पर गुप्त रूप से बहुगुणा का भाषण सुना। इंदिरा ने बहुगुणा को उन्हीं की जमीन पर हराने की ठानी थी। उनकी गढ़वाल में एक दर्जन से अधिक सभाएं कीं। इंदिरा ने तत्कालीन गृह मंत्री जैल सिंह तक को उपचुनाव में भेजा। देहरादून के Congress भवन में उन्होंने कई दिन तक कैंप किया। सारी ताकत और मशीनरी झोंकने के बावजूद Congress बहुगुणा से चुनाव हार गई। गढ़वाल में बहुगुणा का शानदार प्रदर्शन रहा।

Advertisement

तीन बाद के सांसद का विजय रथ निर्दलीय ने रोका

लोकसभा में लगातार तीन चुनाव 1951, 1957 और 1962 में सांसद चुने गए महावीर त्यागी का विजय रथ देहरादून लोकसभा सीट पर निर्दलीय प्रत्याशी केवाई सिंह ने रोक दिया था। इस सीट पर कुल चार में से तीन प्रत्याशी निर्दलीय चुनाव लड़े थे। चौथे कांग्रेस से महावीर त्यागी थे। कुल 3,03,933 वोट पड़े थे, जिनमें से निर्दलीय केवाई सिंह को 1,51,465, महावीर त्यागी को 1,11,353 और बाकी निर्दलीय धर्मपाल को 35,134 व निर्दलीय एच सिंह को 5,981 वोट मिले थे।

राज्य गठन के बाद निर्दलीय आए और गए

राज्य गठन के बाद से अब तक चार लोकसभा चुनाव हो चुके हैं। हर चुनाव में निर्दलीयों ने लड़ने का जोश दिखाया लेकिन कोई कमाल नहीं कर पाया। वर्ष 2004 के चुनाव में कुल 54 प्रत्याशी मैदान में थे, जिनमें से 18 निर्दलीय थे। 2009 के चुनाव में 76 प्रत्याशी मैदान में थे, जिनमें 29 निर्दलीय थे। 2014 के चुनाव में 74 प्रत्याशियों में से 27 निर्दलीय थे और 2019 के चुनाव में 52 में से 21 निर्दलीय प्रत्याशी थे। इनमें से ज्यादातर की जमानत जब्त हुई।

Advertisement

विधानसभा चुनावों का अलग ट्रेंड

लोकसभा चुनावों से इतर Uttarakhand के पांच विधानसभा चुनावों में अब तक 13 निर्दलीय प्रत्याशी जीत दर्ज करा चुके हैं। वर्ष 2002 के विस चुनाव में तीन, 2007 के चुनाव में तीन, 2012 के चुनाव में तीन, 2017 में दो और 2022 में दो निर्दलीय प्रत्याशी जीतकर आए।

Advertisement

Related posts

Uttarakhand UCC: ड्राफ्ट कमेटी का 15 दिन का समय बढ़ाया गया, 26 जनवरी को खत्म हो रहा था कार्यकाल: सूत्र

cradmin

अंतर्राष्ट्रीय आपदा न्यूनीकरण दिवस* के अवसर पर आपदाओं और पूर्व में घटित आपदाओं से सीख लेने की दी गयी सलाह , सभी को आपदाओं के प्रति सजग रहने को कहा गया।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-सिविर लाइन बंद हो जाने से बारिश के साथ बह रहा है गन्दा पानी।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights