khabaruttrakhand
आकस्मिक समाचारउत्तराखंडटिहरी गढ़वालदिन की कहानीदेहरादूनराजनीतिकराष्ट्रीयविशेष कवर

कैंसर पीड़ित बच्चों को सिखाया जा रहा योग – एम्स के मेडिकल ऑन्कोलाॅजी वार्ड में दी जा रही सुविधा – बीमार बच्चों के जीवन में मुस्कान लाना है उद्देश्य।

– कैंसर पीड़ित बच्चों को सिखाया जा रहा योग
– एम्स के मेडिकल ऑन्कोलाॅजी वार्ड में दी जा रही सुविधा
– बीमार बच्चों के जीवन में मुस्कान लाना है उद्देश्य

एम्स ऋषिकेश के मेडिकल ऑन्कोलाॅजी विभाग की आईपीडी में इन दिनों कैंसर पीड़ित बच्चों को योग सिखाया जा रहा है।

Advertisement

इसका उद्देश्य है कि बीमारी की वजह से थकावट महससू कर रहे इन बच्चों को जल्दी बेहतर स्वास्थ्य लाभ मिल सके और तनाव मुक्त रहने से इनके चेहरे की मुस्कराहट बनी रहे।

ध्यान, श्वास और आसन का संयोजन योग, व्यक्ति के समग्र स्वास्थ्य में सुधार करता है।

Advertisement

यह एक प्राचीन पद्धति है जो वैदिक स्तर पर पूर्व काल से ही भारतीय पंरपराओं में चली आ रही है।

लेकिन अब यह पद्धति कैंसर के इलाज में भी लाभकारी सिद्ध हो रही है।

Advertisement

चिकित्सकों के अनुसार कैंसर पीड़ित व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य को मजबूत करने में यह विशेष कारगर है।

इन्हीं बातों को ध्यान में रखकर एम्स का आयुष विभाग इन दिनों अस्पताल में भर्ती कैंसर पीड़ित बच्चों को योग सिखा रहा है।

Advertisement

एलोपैथिक पद्धति के इलाज के साथ-साथ आयुष पद्धति का इस्तेमाल करने से कैंसर से ग्रसित बच्चों के जल्द ठीक होने की उम्मीद है।

इस बारे में आयुष विभाग के डाॅ. श्रीलोय मोहंती ने बताया कि स्वास्थ्य क्षेत्र में इलाज की होलेस्टिक पैकेज की यह सुविधा नियमित तौर पर उपलब्ध करवायी जा रही है।

Advertisement

इसके तहत आयुष विभाग के योग चिकित्सक मेडिकल ऑन्कोलाॅजी वार्ड में जाकर कैंसर ग्रसित बच्चों को योग सिखाते हैं।

डाॅ. मोहन्ती ने बताया कि योगाभ्यास से कैंसर की बीमारी से जूझ रहे बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य में सुधार होने लगता है।

Advertisement

आयुष विभाग की डाॅ. श्वेता मिश्रा बताती हैं कि योग से बीमारी से लड़ने में मदद मिलती है और रोगी के मानसिक स्वास्थ्य में भी सुधार होता है।

वहीं उन्होंने बताया कि शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होने, थकावट कम होने तथा दिनचर्या बेहतर होने से कैंसर पीड़ित बच्चों के जीवन में उत्साह पैदा होने लगता है।

Advertisement

मेडिकल ऑन्कोलाॅजी के विभागाध्यक्ष प्रो. उत्तम कुमार नाथ ने इस सुविधा को इंन्टिग्रेटेड मेडिसिन से जोड़ा और कहा कि यह कैंसर के उपचार का ही हिस्सा है।

उन्होंने बताया कि कीमोथेरेपी तथा रेडिएशन से कई बार कैंसर रोगी को साईड इफेक्ट हो जाते हैं।

Advertisement

ऐसे में दवा के साथ-साथ योग पद्धति अपनाने से कैंसर रोगियों के जीवन में उत्साह पैदा हो सकेगा और वह जल्दी स्वस्थ हो सकेंगे।

’’ विभिन्न शोधों से पता चला है कि कैंसर ग्रस्त व्यक्ति के लिए योग से कई फायदे हैं।

Advertisement

कैंसर का निदान और उपचार मनोवैज्ञानिक तनाव का कारण बनता है।

योग उन उपचारों में एक है जो कैंसर रोगियों के तनाव को कम कर उन्हें मानसिक तौर से स्वस्थ बनाता है।

Advertisement

इन्हीं उद्देश्यों को लेकर संस्थान का आयुष विभाग कैंसर ग्रस्त बच्चों को नियमित तौर से योग सिखा रहा है। हमें उम्मीद है कि यह अभ्यास कैंसर के प्रभाव को कम करने में मददगार साबित होगा। ’’
प्रो. मीनू सिंह, कार्यकारी निदेशक एम्स ऋषिकेश।

Advertisement

Related posts

Uttarakhand: बर्फबारी के बीच आग की लपटों ने Jhumdhuri जंगल में पांच हेक्टेयर वन क्षेत्र को नुकसान पहुंचाया, टीम पहुंचने में देरी

khabaruttrakhand

महामहिम राष्ट्रपति द्रौपदी मूर्म का तहसील कीर्तिनगर चौरास क्षेत्रांतर्गत प्रस्तावित भ्रमण कार्यक्रम।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-12वीं वाहिनी भारत तिब्बत सीमा पुलिस ने आयोजित किया पशु चिकित्सा शिविर।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights