khabaruttrakhand
उत्तराखंडराजनीतिक

Uttarakhand: पूरब के ‘आतंक’ का पश्चिम के ‘डॉन’ को भी रहता था खौफ, इस वजह से अंसारी के निशाने पर था राठी

Uttarakhand: पूरब के ‘आतंक’ का पश्चिम के ‘डॉन’ को भी रहता था खौफ, इस वजह से अंसारी के निशाने पर था राठी

Uttarakhand: पूरब में आतंक का पर्याय माने जाने वाले अंसारी के डर की सल्तनत पश्चिमी उत्तर प्रदेश तक चलती थी। हालांकि, पश्चिमी उत्तर प्रदेश का डॉन किसी समय सुनील राठी कहलाता था। मगर मुन्ना बजरंगी की जेल में हत्या के बाद एक समय ऐसा आया कि जब पश्चिम का यह डॉन भी अंसारी की आंखों में चढ़ गया। खाैफ इस कदर माना जाता था कि राठी ने ख़ुद को पश्चिमी यूपी की जेलो में भी महफ़ूज़ नहीं समझा और ख़ुद को Uttarakhand में शिफ्ट करा लिया। सूत्र तो यहां तक कहते हैं कि अंसारी के शूटरों के डर से राठी पश्चिमी उत्तर प्रदेश में दर्ज मुक़दमों में पेश तक होने नहीं जाता था।

माफिया मुख्तार अंसारी डॉन मुन्ना बजरंगी के बेहद ही करीबी रिश्ते थे। मुख्तार अंसारी के कहने पर मुन्ना बजरंगी ने कई हत्याओं को अंजाम दिया था और कई से रंगदारी भी मांगी थी। एक रंगदारी के मामले में मुन्ना बजरंगी को यूपी की बागपत जेल में शिफ्ट किया गया था। इसी जेल में कुख्यात सुनील राठी भी बंद था।

Advertisement

नौ जुलाई 2018 की सुबह सुनील राठी ने जेल के अंदर ही मुन्ना बजरंगी की गोली मारकर हत्या कर दी थी। मुन्ना बजरंगी की हत्या होने से सबसे अधिक नुकसान मुख्तार को हुआ था। यहीं से ही मुख्तार अंसारी और सुनील राठी के बीच अदावत शुरू हो गई थी। पुलिस के उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार मुख्तार अंसारी ने राठी के खात्मे के लिए अपने शूटरों को बजरंगी की हत्या के बाद से ही लगा दिया था।

हत्या की आशंका जताते हुए राठी ने यूपी से खुद को उत्तराखंड की जेल में शिफ्ट करवा लिया था। राठी के लिए उत्तराखंड की जेल पहले से ही मुफीद रही थी। राठी यह बात भी अच्छी तरह जानता था कि उसे मुख्तार से खतरा है लेकिन उत्तराखंड में यह खतरा कम है। सूत्रों के अनुसार मुख्तार के शूटरों से खतरे की आशंका के चलते ही वह यूपी में दर्ज मामलों में पेशी पर भी नहीं जाता था सिर्फ ऑनलाइन पेशी होता था। सूत्रों के अनुसार पौड़ी जेल में बंद राठी को बृहस्पतिवार रात में ही मुख्तार अंसारी की मौत की सूचना मिल गई थी।

Advertisement

जीवा से भी थी राठी की अदावत

मुन्ना बजरंगी की तरह वेस्ट यूपी का बदमाश संजीव उर्फ जीवा भी मुख्तार अंसारी का करीबी बताया जाता था। जीवा की भी सुनील राठी से अदावत थी। जानकारी के अनुसार यह अदावत जीवा के Uttarakhand में अपराध जगत में एंट्री करने से शुरू हुई थी। राठी नहीं चाहता था कि जीवा Uttarakhand में अपराध जगत में एंट्री कर उसके वर्चस्व को कम करे। यहीं से दोनों एक-दूसरे की आंखों में खटकने लगे थे। हालांकि, पिछले साल जीवा की लखनऊ की एक कोर्ट में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इसका लाभ भी राठी को मिला था।

Related posts

Haldwani: ‘इतना भी पैसा नहीं मिलता कि…’ आखिर किसने CM Dhami को लिखा ऐसा पत्र, सामने रखी ये प्रमुख मांगें

cradmin

“मुख्यमंत्री Pushkar Singh Dhami ने Cabinet Meeting की अध्यक्षता की, Uttarakhand में वैश्विक निवेशक शिखर सम्मेलन

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-जनपद में मत्स्य पालन को बढावा देने तथा कस्तकारों की आय दोगुनी करने हेतु जनपद के मत्स्य पालकों के लिए तीन दिवसीय प्रशिक्षण का आयोजन।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights