khabaruttrakhand
उत्तराखंडराजनीतिक

Election 2024: इस लोकसभा सीट पर भिड़ेंगे पुराने धुरंधर, चार सीटों पर छह नए चेहरे; पुराने दिग्गज हो रहे किनारे

Election 2024: Uttarakhand Congress और BJP में पीढ़ी परिवर्तन का दौर शुरू हो चुका है। प्रदेश की दोनों ही प्रमुख पार्टियां पुराने दिग्गजों से धीरे-धीरे किनारा कर रही हैं, ताकि नए चेहरों को मौका मिले। इसी का नतीजा है कि 2024 के लोकसभा चुनाव में राज्य की केवल अल्मोड़ा सीट पर ही पुराने प्रतिद्वंद्वियों अजय टम्टा और प्रदीप टम्टा के बीच टक्कर होने जा रही है।

हरिद्वार और पौड़ी सीट पर दोनों ही पार्टियों के प्रत्याशी पहली बार लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे, जबकि नैनीताल और टिहरी सीट पर भाजपा के प्रत्याशियों के मुकाबले कांग्रेस ने नए चेहरों को मैदान में उतारा है। सबसे अधिक दिलचस्प यह है कि पांचों सीटों पर दोनों ही बड़ी पार्टियों के छह चेहरे पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं। प्रत्याशियों के नाम फाइनल करने को लेकर दोनों ही पार्टियों ने किस तरह से सियासी गुणा-भाग किया, पढ़िए अमर उजाला की पड़ताल करती हुई रिपोर्ट…..

Advertisement

टिहरी : माला से पहली बार होगा गुनसोला का मुकाबला

2012 का उपचुनाव जीतने के बाद से BJP की माला राज्यलक्ष्मी शाह टिहरी लोकसभा सीट से लगातार Congress प्रत्याशी को परास्त कर रही हैं। उनसे मुकाबला करने के लिए इस बार Congress ने दो बार मसूरी से विधायक रहे जोत सिंह गुनसोला को चुनावी मैदान में उतारा है। गुनसोला पहली बार लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे। 1991 से 2006 तक इस सीट पर बीजेपी का दबदबा रहा। टिहरी राजघराने के मानवेंद्र शाह BJP के टिकट से लगातार पांच चुनाव जीते। मानवेंद्र शाह के निधन के बाद 2007 में हुए उपचुनाव में पहली बार विजय बहुगुणा को जीत मिली। इसके बाद 2009 लोकसभा चुनाव में Congress के विजय बहुगुणा फिर से जीतकर लोकसभा पहुंचे। बहुगुणा के सीएम बनने के बाद हुए उपचुनाव में BJP ने फिर इस सीट पर कब्जा जमा लिया।

हरिद्वार में प्रतिष्ठा और पिता की सियासी विरासत बचाने की जंग

हरिद्वार में भाजपा उम्मीदवार त्रिवेंद्र रावत और पूर्व सीएम हरीश रावत के बेटे व Congress प्रत्याशी वीरेंद्र रावत के बीच सियासी वर्चस्व की जंग होगी। दोनों ही प्रत्याशी पहली बार लोकसभा के लिए चुनावी जंग में उतर रहे हैं। हरीश रावत इस सीट से सांसद रह चुके है। लगातार दो बार से इस सीट को BJP जीतती रही है, लेकिन इस बार बीजेपी ने अपना प्रत्याशी बदल दिया है। BJP ने पूर्व सीएम रमेश पोखरियाल निशंक के स्थान पर पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत को टिकट दिया है, जबकि हरीश रावत ने खुद चुनाव लड़ने के बजाय अपने बेटे को चुनावी मैदान में उतरवाया है। हरिद्वार जिले की एक सीट से हरीश रावत की बेटी विधायक भी है। हरिद्वार जिले के ही खानपुर के विधायक उमेश कुमार ने भी निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में ताल ठोकी है। हरिद्वार संसदीय क्षेत्र में देहरादून की डोईवाला, ऋषिकेश और धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र आते हैं।

Advertisement

पौड़ी गढ़वाल : फिर दो नए चेहरे होंगे आमने-सामने

पौड़ी सीट पर BJP प्रत्याशी अनिल बलूनी और Congress प्रत्याशी गणेश गोदियाल दोनों ही नए चेहरे हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव में भी दोनों ही पार्टियों ने नए चेहरे पर दांव खेला था। तब BJP के तीरथ सिंह रावत के सामने कांग्रेस ने पूर्व सीएम भुवन चंद्र खंडूडी के बेटे मनीष खंडूडी को टिकट दिया था, लेकिन खंडूडी चुनाव हार गए। यह सीट भाजपा की झोली में गई थी। इस बार भाजपा ने राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी को मैदान में उतारा है। वह पहली बार लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे। अनिल बलूनी को टक्कर देने के लिए कांग्रेस ने दो बार के विधायक रहे गणेश गोदियाल को टिकट थमाया है। गणेश गोदियाल कुल तीन बार और लगातार दो विधानसभा चुनाव हार चुके हैं। गोदियाल भी पहली बार लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे। वह कुछ समय के लिए कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भी रह चुके हैं। तीन दशक से यह सीट BJP की सबसे मजबूत किले के तौर पर मानी जाती है। 1991 से ही इस सीट से पूर्व सीएम बीसी खंडूडी जीतते आए हैं। केवल दो बार 1996 में तिवारी कांग्रेस से और 2009 में Congress से सतपाल महराज लोकसभा का चुनाव जीत पाए। सात चुनाव में भाजपा को विजय मिली। इसमें एक उपचुनाव भी शामिल है।

अल्मोड़ा : तीसरी बार दो टम्टा के बीच सीधी टक्कर

अल्मोड़ा सीट पर 1991 से ही BJP का दबदबा है। केवल 2009 के लोकसभा चुनाव में Congress प्रत्याशी प्रदीप टम्टा को जीत मिली थी। पिछले दो चुनाव से भाजपा प्रत्याशी अजय टम्टा Congress प्रत्याशी प्रदीप टम्टा को लगातार मात देने में सफल हो रहे हैं। चुनावी मैदान में दो टम्टा तीसरी बार आमने-सामने होंगे। अजय जहां BJP को जीत दिलाने के लिए जंग में उतरेंगे, वहीं प्रदीप कांग्रेस के सूखे को खत्म करने के लिए सियासी युद्ध लड़ेंगे। इस चुनाव से काफी हद तक प्रदीप टम्टा का सियासी भविष्य भी तय होगा। 1991 से इस सीट से हरीश रावत सांसद बनते रहे। तब इस सीट को Congress के गढ़ के तौर पर जाना जाता था। अल्मोड़ा संसदीय सीट रिजर्व है, जो नेपाल, चीन सीमा से भी लगी है। इस सीट के तहत अल्मोड़ा, बागेश्वर, पिथौरागढ़ और चंपावत जिले के 14 विधानसभा क्षेत्र आते हैं।

अजय या प्रकाश कौन मारेगा नैनीताल का मैदान

नैनीताल सीट पर BJP प्रत्याशी अजय भट्ट और Congress उम्मीदवार प्रकाश जोशी पहली बार आमने-सामने होंगे। रानीखेत से तीन बार विधायक रहे अजय भट्ट को BJP ने पिछली बार 2019 के लोकसभा चुनाव में नैनीताल संसदीय सीट पर उतारा था। पिछले आम चुनाव में उन्होंने Congress प्रत्याशी और पूर्व सीएम हरीश रावत को हराकर इस सीट पर लगातार दूसरी बार BJP का परचम लहराया था। इससे पूर्व इस सीट पर BJP के भगत सिंह कोश्यारी सांसद थे। वहीं इस बार Congress ने अजय भट्ट के सामने प्रकाश जोशी पर दांव लगाया है। प्रकाश जोशी 2012 और 2017 में कालाढूंगी सीट से विधानसभा का चुनाव लड़ चुके हैं और दोनों ही बार वह चुनाव हार चुके हैं। 2009 के लोकसभा चुनाव में केसी बाबा Congress से चुनाव जीते थे। कुमाऊं की यह सीट बेहद महत्वपूर्ण मानी जाती है। यह मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के गृह जिले की संसदीय सीट है। इस सीट के तहत नैनीताल और ऊधमसिंह नगर जिले के 14 विधानसभा क्षेत्र आते हैं।
Advertisement

Related posts

पुलिस ने 18 घंटे के अन्दर सुलझायी बडेथी सड़क दुर्घटना की मिस्ट्री, देहरादून से अज्ञात वाहन चालक को किया गिरफ्तार।

khabaruttrakhand

वैदिक फाउंडेशन साधनालय आश्रम हंगरी इण्डियन एम्बेसी काॅन्सुल ) को महंत रवि प्रपन्नाचार्य ने अयोध्या प्रभु श्री राम भगवान का विग्रह चित्र आशीर्वाद स्वरूप भेंट किया।

khabaruttrakhand

खुशखबरी:- यहां खोला गया देश का पहला सैनिक बालिका विद्यालय।जाने इस खबर में।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights