khabaruttrakhand
अपराधउत्तरकाशीदिन की कहानी

बड़ी खबर:- 42 लाख रुपये के गबन के मामले 01 कोषागार कर्मिक को उत्तरकाशी पुलिस ने किया गिरफ्तार

सुभाष बडोनी , उतरकाशी

*42,25,129 रु0 के गबन के मामले 01 कोषागार कर्मिक को उत्तरकाशी पुलिस ने किया गिरफ्तार*

Advertisement

 

आपको बताते चले इस मामले में दिनांक 07.01.2022 को बृजेन्द्र लाल शाह, सहायक कोषाधिकारी उत्तरकाशी द्वारा कोतवाली उत्तरकाशी पर आकर “सदर कोषागार उत्तरकाशी मे तीन कर्मिकों के खिलाफ दस्तावेजों की कूटरचना कर शासकीय धन 42,25,129 रु0/ के गबन के सम्बन्ध में लिखित तहरीर दी गयी थी”।

Advertisement

जिस आधार पर 03 कोषागार कर्मियों सहा0 लेखाकार महावीर सिंह, सहा0 कोषाधिकारी धर्मेन्द्र शाह व पीआरडी श्रीमती आरती के खिलाफ कोतवाली उत्तरकाशी पर धारा 420,409,467,468,471 व 120(B) भादवि के तहत मुकदमा पंजीकृत किया गया था।

मामले मे त्वरित कार्यवाही व अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु पुलिस अधीक्षक उत्तरकाशी द्वारा क्षेत्राधिकारी उत्तरकाशी व प्रभारी निरीक्षक कोतवाली को आवश्य दिशानिर्देश दिये गये थे, प्रकरण में विवेचना व0उ0नि0 प्रकाश राणा द्वारा सम्पादित की जा रही थी, साक्ष्य/तथ्यों के आधार पर उक्त मामले 12 मृत पेंशनर के खातों को जीवित कर अभियुक्तों द्वारा कंप्यूटर सिस्टम में कूटरचित तरीके से अपने व अपने परिचितों के खातों में पैसे डालना प्रकाश मे आया है, जिसमें
1- अभियुक्त महावीर सिंह नेगी के दो बैंक खातों में लगभग 15,00000 रुपए
2- धर्मेंद्र शाह के बैंक के खाते में लगभग 11,68,000 रुपए
3- आरती के तीन बैंक खातों में 24 लाख 14000 रु0 का गबन किया है।
विवेचना के दौरान दो अन्य नाम भी सामने आये हैं-
1-पीआरडी सुधा उनियाल पुत्री रमाकांत उनियाल निवासी उत्तरकाशी के बैंक खाते में 1,80,000 रु0
2-गौरव रावत पुत्र बुद्धि सिंह रावत निवासी जोशीयाडा के बैंक खाते में 8,93,000 रु0।

Advertisement

अभियुक्तों द्वारा मृत पेंशनरों के पैसों को कोषागार आहरित कर गबन किया गया है। उक्त मामले में पुलिस द्वारा सहायक लेखाकार, महावीर सिंह नेगी पुत्र भारत सिंह नेगी निवासी ग्राम कुमाल्टी पो0 लाटा, तह0 भटवाटी, उत्तरकाशी उम्र 30 वर्ष को पोखु देवता मन्दिर मातली के पास से गिरफ्तार किया गया है।अग्रिम कार्रवाई प्रचलित है, मामले मे संलिप्त अन्य लोगों को पुलिस द्वारा जल्द ही गिरफ्तार किया जायेगा।
सहायक लेखाकार, महावीर सिंह द्वारा पूछताछ में बताया गया कि वह वर्ष 2016 से सदर कोषागार मे सहा0 लेखाकार के पद पर नियुक्त है, वर्ष 2019 एक पेशनर की पेंशन फेल हो गयी जिसको उनके द्वारा एक पीआरडी के खाते में डालकर गबन किया गया था। महावीर सिंह मृत पेशनर का विवरण भी चैक करता था, कोषागार कर्मी मृत पेशनर को जीवित दिखाकर उसका पैसा अपने किसी परिचत खाते मे डालकर विड्रॉल कर पैसे गबन करते थे।

Advertisement

Related posts

ब्रेकिंग:-सल्ट विधायक महेश जीना ने देहरादून विधानसभा सत्र के दौरान सल्ट विधानसभा में विभिन्न मांगे रखी।

khabaruttrakhand

उप जिलाधिकारी प्रताप नगर द्वारा आगामी लोकसभा निर्वाचन के दृष्टिगत एवं भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार विशेष पुनरीक्षण अभियान एवं समस्त पोलिंग स्टेशन मे व्यवस्थाओं को सुनिश्चित करने के लिए विधानसभा क्षेत्र प्रताप नगर के समस्त बूथ लेवल ऑफिसर एवं सुपरवाइजर के साथ समीक्षा की बैठक आयोजित।

khabaruttrakhand

जनता दरबार:- जिलाधिकारी द्वारा अधिशासी अभियन्ता सिंचाई खण्ड नई टिहरी का जनता दरबार कार्यक्रम में अनुपस्थित रहने पर स्पष्टीकरण तलब करते हुए वेतन रोकने के निर्देश।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights