khabaruttrakhand
आकस्मिक समाचारउत्तराखंडटिहरी गढ़वालदिन की कहानीदुनियाभर की खबरेदेहरादूनराजनीतिकराष्ट्रीयविशेष कवरस्टोरी

मत्स्य पालकों हेतु मछली के स्वच्छ हस्तन, प्रस्संकरण और मूल्य संवर्धन पर जनपद टिहरी में पहली बार 17 अक्टूबर से 19 अक्टूबर 2023 तक तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन, गुरुवार को हुआ समापन।

मत्स्य पालकों हेतु मछली के स्वच्छ हस्तन, प्रस्संकरण और मूल्य संवर्धन पर जनपद टिहरी में पहली बार 17 अक्टूबर से 19 अक्टूबर 2023 तक तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसका आज गुरुवार को समापन हो गया।

बहुउद्देशीय भवन निकट विकास भवन नई टिहरी में आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम का
उद्घाटन 17 अक्टूबर मंगलवार को जिलाधिकारी मयूर दीक्षित द्वारा किया गया। जिलाधिकारी द्वारा मत्स्य विभाग को समुचित प्रकार से प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए जाने के निर्देश दिए गए। साथ ही प्रशिक्षणार्थियों का मार्ग दर्शन करते हुए उन्हें प्रशिक्षण का भरपूर लाभ उठाने को कहा गया।

Advertisement

जिलाधिकारी द्वारा प्रशिक्षणार्थियों को किट का वितरण भी किया गया, जो मछली की सफाई हेतु यंत्र, एप्रेन, कटिंग बोर्ड आदि से सुसज्जित था।

प्रशिक्षण कार्यशाला के उद्घाटन अवसर पर केन्द्रीय मात्स्यिकी प्रौद्यौगिकी संस्थान, (CIFT) कोचिन केरल से प्रधान वैज्ञानिक बिन्दु जगानाथ, वरिष्ठ वैज्ञानिक पार्वती उनीकृष्णन तथा वरिष्ठ तकनीकी सहायक नौबी वर्गीस, डीडीओ सुनील कुमार, मत्स्य निरीक्षक आमोद नौटियाल एवं विजय लक्ष्मी उपस्थित रहे।

Advertisement

सहायक निदेशक मत्स्य गरिमा मिश्रा ने बताया कि मत्स्य उत्पादन उपरान्त हॉरर्वेस्ट होने वाली क्षति को न्यून करने तथा मछली के मूल्य वर्धक उत्पाद तैयार कर मत्स्य पालकों की आय में वृद्धि किए जाने के उद्देश्य से मत्स्य पालन विभाग, टिहरी गढ़वाल द्वारा केन्द्रीय मात्स्यिकी प्रौद्योगिकी संस्थान, (CIFT) कोचिन केरल भारत के संयुक्त प्रयास द्वारा प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया।

प्रशिक्षण कार्यशाला में लगभग 20 मत्स्य पालकों द्वारा प्रतिभाग कर प्रशिक्षण लिया गया।

Advertisement

उन्होंने बताया कि प्रशिक्षण कार्यशाला के
पहले दिन मछली की ड्रेसिंग/सफाई/ पैकेजिंग सिखाई गई। मछली के फिलेट/ करी कट/स्टीक्स बनाने की विधि पर प्रशिक्षण दिया गया। वहीं दूसरे दिन मूल्य वर्धक उत्पाद जैसे मछली का अचार/चटनी/फिश बाल/फिश कटलेट/फिश फिगर बनाया सिखाया गया।

जबकि तीसरे दिन मछली के समोसे/मोमो आदि बनाए जाने की विधि सिखाई गई तथा प्रस्तुतीकरण के माध्यम जानकारी दी गई। अंत में सभी प्रशिक्षणार्थियों को प्रशिक्षण सर्टिफिकेट दिए गए।

Advertisement

 

Advertisement

Related posts

PM Modi ने महिला स्वयं सहायता समूहों को ड्रोन उपलब्ध कराने की योजना शुरू की

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-लाटा पिलवां राजस्व क्षेत्र में अज्ञात शव मिलने से मची सनसनी। शव की जानकारी को लेकर राजस्व पुलिस के हाथ खाली।

khabaruttrakhand

राष्ट्रपति 29 नवंबर से 2 दिसंबर तक महाराष्ट्र के दौरे पर, NDA के 145वें कोर्स की पासिंग-आउट परेड की समीक्षा करेंगे

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights