khabaruttrakhand
उत्तरकाशीउत्तराखंड

Uttarkashi Tunnel Rescue: मजदूरों ने नहीं हारा हौसला, अंधेरी सुरंग में 400 घंटे, हौसले से जीती जंग

Uttarkashi Tunnel Rescue: अंधेरी सुरंग में 400 घंटे, हौसले से जीती जंग, मजदूरों ने नहीं हारा हौसला

उत्तरकाशी की सिलक्यारा टनल में 17 दिनों से फंसे मजदूर किसी भी वक्ता बाहर आ सकते हैं. सुरंग में मलबा गिरने से रेस्क्यू ऑपरेशन में फिर अड़चन आई है. इस बात की जानकारी एनडीएमए यानी राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के सदस्य रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल सैयद अता हसनैन ने अपने प्रेस ब्रीफिंग में दी है. वहीं एक मां अपने बेटे के बाहर आने के इंजतार में टनल के बाहर बैठकर भगवान से प्रार्थना कर रही है.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, अब 58 मीटर तक ड्रिलिंग हो गई है. अभी 2 मीटर और जाना है तब हम कह सकते हैं कि हम आर पार हो गए हैं. उन्होंने कहा कि सभी सुरक्षा एहतियात बरते गए हैं. NDRF का इसमें बहुत बड़ी भूमिका है. एनडीआरएफ के चार जवानों की तीन अलग-अलग टीमें बनाई गई है. ये अंदर जाएंगी और ये सारी चीज़ें व्यवस्थित करेंगी. साथ ही पैरामेडिक्स भी सुरंग के अंदर जाएंगे.

Advertisement

उन्होंने आगे कहा कि अनुमान है कि 41 लोगों में से प्रत्येक को निकालने में 3-5 मिनट का समय लगेगा. पूरी निकासी में 3-4 घंटे लगने की उम्मीद है.

जब 12 नवंबर को सुबह के आस-पास सुरंग में हादसा हो गया, तो श्रमिकों की आवाजें सुनने के लिए केवल एक चार-इंच का पाइप बचा था। सभी से पहले जब बात की गई, तो पता चला कि सभी जीवित थे, लेकिन फंस गए थे। इसके बाद उन्हें भूख लगने लगी, लेकिन उन्हें भोजन भेजा जा सकता था।

Advertisement

श्रमिकों ने हिम्मत नहीं हारी

20 नवंबर तक, उन्हें इस चार-इंच के पाइप के माध्यम से दवा, चना और सूखे मेवे ही भेजे गए। सभी श्रमिक ने अपनी भूख को शांत किया और उत्साह से उत्सुकता से काम करते रहे क्षण का समर्थन किया कि वे सुरक्षित रूप से बाहर निकाले जाएंगे। कई कार्यकर्ता बच्चेदानी की भी शिकायत कर रहे थे। इसके बावजूद, उन्होंने हिम्मत नहीं हारी।

Advertisement

20 नवंबर को अंत में जब छः-इंच का पाइप सफलतापूर्वक अंदर धकेला गया, तब श्रमिकों को भी कुछ राहत होने लगी। खिचड़ी, केला, संतरा, दाल, चावल, ब्रश, टूथपेस्ट, दवाएँ, आवश्यक कपड़े आदि उन्हें भी भेजे गए।

इस 13 दिनों के टनल के अंदर, उनकी कुछ दिनचर्या स्थिति बनी रही, लेकिन बाहर आने की चिंता बरकरार रही। डॉक्टर्स और मानसिक चिकित्सक ने उन्हें प्रोत्साहित किया। अंततः, इस उत्साह के आधार पर कर्मचारी सुरक्षित रूप से बाहर निकल पाए।

Advertisement

संघर्ष के इस पूरे प्रक्रिया के दौरान, केंद्र सरकार और राज्य सरकार ने भी समन्वय और सब्र दिखाया। पूरे दुनिया की नजरें 17 दिनों के लिए उत्तरकाशी, उत्तराखंड के Silkyara पर थीं। कई योजनाएँ कार्यकर्ताओं को बाहर निकालने की बनाई गई थीं और जब भी वे असफल होतीं, सरकार निश्चित रूप से असहज दिखती थी, लेकिन उसने जीवनु बनाए रखा।

संघ मंत्री नितिन गडकरी और जनरल वीके सिंह, प्रधानमंत्री कार्यालय के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ, न केवल प्रोत्साहित किए गए बल्कि उनके बयानें अंदर के कामकाजी और बाहर के परिवारों को सब्र बनाए रखने में मदद करती रहीं। उसी समय, विपक्ष के सारे आरोपों के बावजूद, सरकार ने सब्र बनाए रखा और विकल्पों की तलाश की।

Advertisement

कुछ घंटों के लिए फंसे हुए 400 कामगारों को एक घंटे में बचाया गया
सिल्कियारा, उत्तरकाशी में निर्माणाधीन सुरंग में लगभग 400 घंटे तक फंसे हुए कामगारों को सुरक्षित रूप से बचाने में बहुत कम समय लगा। 17 दिनों तक बचाव कार्रवाई आशा और निराशा के बीच हिचकिचाहट में लटकती रही।

मंगलवार को, जब परिवहन और राजमार्ग मंत्री वीके सिंह सिल्कियारा पहुंचे और मुख्यमंत्री भी सिल्कियारा लौटे, तो संकेत स्पष्ट हो गया कि आज श्रमिकों के अंधेरी सुई बाहर लाने का समय है। खबर शाम में आई। 12 नवंबर, दीपावली के दिन, 4 श्रमिक सुरंग में फंसे थे और 17 दिनों बाद बाहर निकले।

Advertisement

जब बचाव दल निराश हो गया, आशा ने दी उम्मीद
ऑपरेशन सिल्कियारा के दौरान कुछ अवस्थाएं थीं जब ऐसा लगता था कि सभी प्रयास गंभीर स्थान पर पहुंचने से पहले विफल हो गए हैं। ऐसे समय में, देवभूमि में विश्वास ने आशा बढ़ाने के लिए सेवा की। भगवान बौखनाथ के मंदिर स्थापित करने से लेकर सुरंग के प्रवेश द्वार पर भोलेनाथ की मूर्ति तक इस आस्था का कारण बन गया।

ऑस्ट्रेलियाई सुरंग निर्माण विशेषज्ञ आर्नल्ड डिक्स ने भी इस आस्था के विश्वास में सिर झुकाया दिखा। मुख्यमंत्री से लेकर ऑपरेशन में शामिल अधिकारियों, विशेषज्ञों, वैज्ञानिकों, तकनीशियनों और बचाव कार्रवाई में शामिल श्रमिकों ने उम्मीद को इस आस्था के माध्यम से आशा भरा।

Advertisement

Related posts

जिलाधिकारी द्वारा शनिवार को देर सांय तक तहसील नैनबाग एवं मसूरी वन प्रभाग क्षेत्रान्तर्गत ईको हट्स धनोल्टी का किया गया स्थलीय निरीक्षण।

khabaruttrakhand

53वां ‘‘विजय दिवस‘‘ जनपद टिहरी में पूर्ण श्रद्धा एवं सम्मान के साथ मनाया गया।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग(Scam):-प्रशासनिक अधिकारी पर साल दर साल अपना एरियर पे बढ़ाने का आरोप ,लाखो का है मामला, प्रधानाचार्य ने पकड़ा मामला।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights