khabaruttrakhand
Uttar Pradesh

UP Diwas: CM Yogi बोले, उत्तर प्रदेश भारत की आध्यात्मिक और सांस्कृतिक विरासत का केंद्र बन

UP Diwas: CM Yogi बोले, उत्तर प्रदेश भारत की आध्यात्मिक और सांस्कृतिक विरासत का केंद्र बन

Lucknow: उत्तर प्रदेश के स्थापना दिवस के अवसर पर अवध शिल्प ग्राम में कैसे Yogi सरकार की योजनाओं के लाभ आम जनता तक पहुंच रहे हैं, इसकी झलकी है। राज्य सरकार के सामाजिक कल्याण विभाग ने यहां 24 जनवरी से 26 जनवरी तक आयोजित हो रहे प्रदर्शन में भी अपनी दुकान स्थापित की है, जिसमें विभाग की योजनाओं के बारे में जानकारी दी जा रही है।

सोशल वेलफेयर डिपार्टमेंट राज्यभर में जरूरतमंद वरिष्ठ नागरिकों, युवा और कन्याओं को लाभान्वित करने के लिए कई योजनाएं चला रहा है। इनमें बुढ़ापे की पेंशन, नेशनल फैमिली बेनिफिट स्कीम, ओल्ड एज होम स्कीम, मुख्यमंत्री ग्रुप मैरिज स्कीम, अनुसूचित जाति अत्याचार और परेशानी सहायता स्कीम और स्कॉलरशिप स्कीम शामिल हैं।

Advertisement

तकनीक का उपयोग करके योजनाएं कार्यान्वित हो रही हैं

अगर हम इस वित्त वर्ष 2023-2024 के अब तक की आंकड़ों की ओर देखें, तो हर आयु समूह के लाभार्थियों ने इन योजनाओं का उद्दीपन लिया है। खास बात यह है कि योजनाएं केवल प्रौद्योगिकी का उपयोग करके पारदर्शिता के साथ चलाई जा रही हैं, बल्कि इसके लाभ को आखिरी मीटर तक पहुंचाने के लिए प्रयास किया जा रहा है।

आधार आधारित भुगतान के जरिए बुढ़ापे के लोगों को राशि

वर्तमान में, वृद्ध जीवन की गरिमा से रहित जीवन के लिए 50.21 लाख लाभार्थियों को बुढ़ापे की पेंशन का लाभ दिया जा रहा है। बुढ़ापे के लोगों को आधार आधारित भुगतान DBT के माध्यम से किया गया था। इसके अलावा, हर जिले में बुढ़ापे के लोगों के लिए ओल्ड एज होम खोले गए हैं। वर्तमान में राज्य में 75 ओल्ड एज होम हैं। वित्त वर्ष 2023-24 में इस योजना के लाभ का हिस्सा बना रहा है।

Advertisement

नेशनल फैमिली बेनिफिट स्कीम के 20,000 आवेदकों को लाभ

वित्त वर्ष 2023-24 में, 20,000 आवेदकों को इस योजना के लाभ प्रदान किया गया है। इस योजना के तहत लाभार्थी द्वारा प्रदान की जाने वाली एक बार की वित्तीय सहायता को बुथड़ाट ट्रांसफर (DBT) के माध्यम से सीधे खातों में भेजा जा रहा है। साल भर में मुख्यमंत्री ग्रुप मैरिज स्कीम में आवेदकों की संख्या बढ़ती जा रही है। योजना की योजना के लिए योग्य लोग इसके बारे में जागरूक हो रहे हैं। वित्त वर्ष 2023-24 में, पूरे राज्य में 44,000 जोड़ों की बड़ी शादियों का आयोजन किया गया है। नेशनल फैमिली बेनिफिट स्कीम और मुख्यमंत्री ग्रुप मैरिज स्कीम का एक नया पोर्टल विकसित किया गया है।

अनुसूचित जाति को मिल रहा है न्याय

CM Yogi की सरकार में अनुसूचित जातियों की विशेष देखभाल की जा रही है। उनके खिलाफ किए गए अपराधों के लिए उन्हें कड़ी सजा दी गई है न केवल, बल्कि उनके खिलाफ किए गए अपराधों के लिए पीड़ितों को भी वित्तीय सहायता दी गई है। अनुसूचित जाति अत्याचार और परेशानी सहायता योजना के तहत, अपराध के प्रकार के अनुसार पीड़ित परिवार को धन की राशि दी जाती है। इस योजना के लाभ का हिस्सा बनाया गया है राज्य में 14,536 लाभार्थियों का। इसके साथ ही, 10 अरब 32 करोड़ रुपये का व्यय हुआ है।

Advertisement

छात्रवृत्ति योजना का लाभ उठा रहे हैं

छात्रवृत्ति योजना के तहत, सामान्य और अनुसूचित जाति के 5.76 लाख छात्र और पूर्व-10 वीं और पूर्व-10 वीं के 15.72 लाख छात्रों ने आवेदन किया है। जबकि 10 वीं के बाद की कक्षाओं में अध्ययनरत अनुसूचित SC/ST जनजाति के छात्र 31 मार्च 2024 तक आवेदन कर सकेंगे। छात्रवृत्ति की राशि मार्च में योग्य छात्रों के खाते में भेजी जाएगी।

Advertisement

Related posts

Lok Sabha Elections: बरेली में Congress को झटका… ‘हाथ’ का साथ छोड़ BSP में शामिल हुए पूर्व विधायक छोटेलाल गंगवार

cradmin

BJP meeting: BJP राष्ट्रीय परिषद बैठक, PM Modi के संबोधन के साथ समाप्त होगी

cradmin

Uttar Pradesh: BJP से टिकट कटा तो क्या इस पार्टी से चुनाव लड़ेंगे वरुण गांधी? SP और BSP ने भी अभी नहीं खोले पत्ते

cradmin

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights