khabaruttrakhand
उत्तराखंड

Harish Rawat: ‘वफादारी’ का इनाम मांगते हुए वंश बेल को सींच रहे, Haridwar लोकसभा सीट के लिए अपने बेटे को उतारने की इच्छा जताई

Harish Rawat: 'वफादारी' का इनाम मांगते हुए वंश बेल को सींच रहे, Haridwar लोकसभा सीट के लिए अपने बेटे को उतारने की इच्छा जताई

Harish Rawat के द्वारा किए गए बयान के अनुसार, उन्होंने Haridwar लोकसभा सीट से अपने पुत्र को चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की है। एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान, Rawat ने बताया कि उनका बेटा लंबे समय से पार्टी और संगठन के लिए काम कर रहा है, और उन्हें चाहिए कि Haridwar संसदीय सीट से टिकट मिलना चाहिए। उन्होंने स्पष्ट किया कि यह उनकी व्यक्तिगत राय है, और टिकट पर निर्णय Congress पार्टी के हाथ में है। Rawat ने जोर दिया कि उनका बेटा जिन्होंने लंबे समय तक पार्टी के लिए काम किया है, उन्हें सम्मानित किया जाना चाहिए।

Harish Rawat ने अपने परिचय को साझा करते हुए कहा कि उन्होंने साधारण परिवार से राजनीति में कदम रखा है, और उनका परिवार उनकी राजनीतिक यात्रा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्होंने बताया कि उनका बेटा, जो Uttarakhand Youth Congress के प्रथम अविरोधित अध्यक्ष रहे हैं, न केवल पार्टी के गतिविधियों में सक्रिय रहे हैं, बल्कि उन्होंने नेतृत्व की गुणवत्ता भी प्रकट की है।

Advertisement

अपनी इच्छा व्यक्त करते समय, Rawat ने स्पष्ट किया कि अंतिम निर्णय Haridwar की जनता और पार्टी के हाथ में होगा। उन्होंने पार्टी से अपने पुत्र के प्रत्याशी के रूप में विचार करने की अपील की, जिनकी कार्यकर्ताओं द्वारा की गई मेहनत और योगदानों को ध्यान में रखते हुए।

यह विकास उन घटनाओं की श्रेणी में जोड़ता है जहां Harish Rawat के परिवार के सदस्य ने राजनीति में भाग लिया है:

Advertisement

1. Renuka Rawat: 2004 में Almora लोकसभा सीट से चुनाव लड़े थे।

2. Harish Rawat: 2009 में Haridwar लोकसभा सीट से चुनाव लड़े थे।

Advertisement

3. Renuka Rawat: 2014 में Haridwar लोकसभा सीट से चुनाव लड़ी थीं।

4. Anupama (Harish Rawat की बेटी): 2022 तक Haridwar रूरल की विधायिका।

Advertisement

5. Anand Rawat (Harish Rawat का बेटा): 2011 में Youth Congress के चुनावों में उम्मीदवार बने और जीत हासिल की।

6. Karan Mehra (Harish Rawat का देवर): वर्तमान में राज्य अध्यक्ष।

Advertisement

बटुआदारी राजनीति के चलते एक सकारात्मक परिवर्तन की चर्चा को चुराता है, लेकिन राजनीतिक पार्टियों और मतदाताओं को अंत में ही उन्हीं उम्मीदवारों का चयन करना होता है जो उन्हें चुनावों में प्रतिष्ठान दिलाएं।

Advertisement

Related posts

ब्रेकिंग:-ऐम्स ऋषिकेश के पल्मोनरी मेडिसिन विभाग द्वारा आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला में पल्मोनरी फंक्शन टेस्टिंग विषय व्याख्यान के माध्यम से व्यापक चर्चा।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-26 सितंबर से होगी रामलीला मंचन की धूम ,रिहलर्स की चल रही तैयारी।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-बिजली विभाग की जिला अधिकारी ने की हौसला अफजाई। प्रत्येक घर को मिलेगी बिजली। धीराज गर्ब्याल।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights