khabaruttrakhand
उत्तराखंड

Qatar से रिहा होकर घर पहुंचे Captain Saurabh, बेटे को देख मां के छलके आंसू; पिता ने कह दी ये बात

Qatar से रिहा होकर घर पहुंचे Captain Saurabh, बेटे को देख मां के छलके आंसू; पिता ने कह दी ये बात

Dehradun: Qatar की जेल से रिहा हुए पूर्व नौसेना अधिकारी Captain Saurabh Vashishtha मंगलवार शाम को दून के टर्नर रोड स्थित अपने आवास पहुंच गए हैं। 17 महीने बाद घर लौटने पर लोगों ने फूल-मालाओं से स्वागत किया। इस दौरान वह भावुक भी हो गए। उनकी पत्नी मानसा और बेटियां जारा व तुवीसा भी उनके साथ थीं।

घर पहुंचने पर Captain Saurabh के पिता वायु सेना के सेवानिवृत्त विंग कमांडर आरके वशिष्ठ और मां राजी के आंसू छलक आए और उन्होंने बेटे को गले लगाकर दुलार किया। मां ने बेटे की आरती उतारी और तिलक किया। Saurabh ने परिवार के साथ घर के मंदिर में शीश नवाया और ईश्वर का धन्यवाद दिया।

Advertisement

Qatar में सुनाई गई थी उम्र कैद की सजा

बता दें, नौसेना के आठ पूर्व अधिकारी Qatar में देहरा ग्लोबल टेक्नोलॉजी एंड कंसल्टेंसी सर्विसेज नाम की कंपनी के लिए काम कर रहे थे। अगस्त 2022 में इन सभी को जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। 26 अक्टूबर 2023 को Qatar की अदालत ने इन्हें फांसी की सजा सुना दी थी, जिसे बाद में उम्र कैद की सजा में तब्दील किया गया।

आठ में से सात अधिकारी हुए रिहा

देशभर से इन पूर्व नौसेना अधिकारियों की रिहाई की मांग उठी। इसके बाद भारत सरकार ने इनकी रिहाई की प्रक्रिया शुरू की। जिसके बाद Qatar की सरकार ने इनमें सात को रिहा कर दिया। सौरभ ने दून पहुंचते ही मोहब्बेवाला स्थित साईं मंदिर में दर्शन किए। परिवार के सभी लोगों ने मंगलवार का उपवास रखा था।

Advertisement

लौट आया मेरा लाल

भारतीय नौसेना के पूर्व Captain Saurabh Vashishtha Qatar की जेल से रिहा होकर मंगलवार को Dehradun के टर्नर रोड स्थित अपने घर पहुंचे तो 17 महीने बाद अपने लाल को देखकर मां की आंखें भर आईं।

पत्नी को दिल्ली पहुंचने पर मिली खबर

पत्नी को Saurabh की रिहाई व वतन वापसी की खबर तब मिली जब वह दिल्ली पहुंच गईं थीं। मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि Saurabh ने दिल्ली पहुंचने के बाद मुझे फोन किया। मुझे यकीन ही नहीं हुआ कि वह रिहा हो गए हैं। इसके बाद Qatar में भारत के राजदूत विपुल ने बात की। उन्होंने इस बात की पुष्टि की। जिसके बाद ऐसा लगा कि मानो मेरे प्राण लौट आए हैं।

Advertisement

मेरी चौखट पर मेरे राम आए हैं

बेटे की रिहाई का इंतजार कर रहे Saurabh के पिता की खुशी का ठिकाना नहीं था। दिल्ली से दून पहुंचते समय उन्होंने Saurabh को कई बार फोन किया। बार-बार पूछते, कहां पहुंचे हो..। उनके घर पहुंचते ही बोल पड़े मेरी चौखट पर मेरे राम आए हैं।

वह दिन पीछे छूट गए

घर पहुंचने पर Captain Saurabh भावुक दिखे। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि मैं 17 महीने बाद यहां पर खड़ा हूं, इस दिन का बेसब्री से इंतजार था। यह सब प्रधानमंत्री Narendra Modi के व्यक्तिगत हस्तक्षेप के चलते संभव हो पाया है। उन्होंने कहा कि PM व विदेश मंत्रालय के व्यक्तिगत हस्तक्षेप का परिणाम और श्रीराम व हनुमान जी की कृपा है कि नौसेना के सात पूर्व अधिकारी वतन वापसी कर पाएं हैं।

Advertisement

अब नई जिंदगी जीनी है

Captain Saurabh ने Qatar के अमीर का भी धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि मुसीबत के वक्त में उनके माता-पिता, पत्नी व बच्चों से जो संबल उन्हें मिला, शब्दों में उसका जिक्र नहीं किया जा सकता है। बीते 17 माह की बात करते उन्होंने कहा कि मैं यह नहीं कहूंगा कि वह दिन आराम से कटे, पर वह दिन अब पीछे छूट गए हैं और अब नई जिंदगी मुझे जीनी है।

Advertisement

Related posts

ब्रेकिंग : पीएम मोदी 15वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के लिए एक प्रतिनिधिमंडल के साथ हुए रवाना, जाने इस सम्मेलन से जुड़े बिन्दु।

khabaruttrakhand

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने चेन्नई में किया रोड शो , उत्तराखंड और तमिल संगमम को आगे बढ़ाने की कही बात।

khabaruttrakhand

Ram Mandir : Uttarakhand की 28 नदियों के पवित्र जल से जलाभिषेक, बदरी गाय के घी से हवन-पूजन और Ramlala के मंदिर के दीपकों को घी से

cradmin

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights