khabaruttrakhand
उत्तराखंड

Uttarakhand: अब राज्य को अपनी भूमि पर पेड़ काटने का अधिकार मिलेगा, 15 प्रजातियों की संरक्षा

Uttarakhand: अब राज्य को अपनी भूमि पर पेड़ काटने का अधिकार मिलेगा, 15 प्रजातियों की संरक्षा

Uttarakhand: राज्य के लोगों को उनकी कृषि और गैर-कृषि जमीनों पर वृक्षों को काटने की अनुमति दी जाएगी। उन्हें वृक्ष विभाग से अनुमति प्राप्त करने की आवश्यकता नहीं होगी, केवल 15 प्रतिबंधित प्रजातियों के छोड़कर, लेकिन आम के पेड़ों जैसे आम, अखरोट और लीची इन प्रतिबंधित प्रजातियों में शामिल रहेंगे।

इस प्रस्ताव को वन मुख्यालय से भेजा गया था, जिसे न्याय विभाग ने मंजूरी दी है। इसके बाद कानूनी मंजूरी के बाद इसके संबंध में जल्दी ही आदेश जारी किए जाएंगे। इसे प्रमुख सचिव (वन्यजीव) RK Sudhanshu ने पुष्टि की है। राज्य सरकार ने निर्णय किया था कि वे उत्तर प्रदेश ट्री प्रोटेक्शन एक्ट 1976 (अनुकूलन और संशोधन आदेश, 2002) और उत्तर प्रदेश प्राइवेट एक्ट, 1948 (अनुकूलन और संशोधन आदेश, 2002) में संशोधन करने का निर्णय किया था। वन मुख्यालय ने दोनों अधिनियमों में संशोधन के प्रस्ताव को तैयार किया और सरकार को भेजा। इन्हें सरकारी स्तर पर न्याय और विधायिका प्रक्रिया के बाद लागू किया जाएगा।

Advertisement

राज्य के लोगों को बड़ी राहत मिलेगी

राज्य के क्षेत्र का 71.05 प्रतिशत क्षेत्र वन्य जलवायु क्षेत्र है। वन संरक्षण अधिनियम और वृक्ष संरक्षण अधिनियम के तहत, लोगों को अपनी ज़मीन पर वृक्षों को काटने के लिए वन्य विभाग से अनुमति प्राप्त करनी होती है। उन्हें अनुमति प्राप्त करने के लिए एक लंबी प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है। सरकार के इस निर्णय से उन्हें बड़ी राहत मिलेगी। वे अपनी आवश्यकता के अनुसार अपनी कृषि और गैर-कृषि जमीनों पर संरक्षित रहे वृक्षों को काट सकेंगे।

15 प्रजातियों के पेड़ जिनका काटना प्रतिबंधित है

1-बांज, खरसु, फलियांट, मोरु, रियांज, ओक प्रजातियां)

Advertisement

2- पीपल, बरगद, पिलखान, पकड़, गुलार और बेडू

3-कैल

Advertisement

4-बोर

5-सीदार

Advertisement

6-बीज साल

7-बुरांस प्रजातियां

Advertisement

8-शीशम

9-तीक

Advertisement

10- सदान

11-साल

Advertisement

12-पाइन

13-अखरोट

Advertisement

14-आम (देसी, कलमी, टुकमी, सभी प्रकार)

15-लीची

Advertisement

काटने की अनुमति केवल अविरल परिस्थितियों में होगी

1. वृक्ष सूखा हो गया हो या सूख रहा हो।
2. संपत्ति या व्यक्ति के लिए खतरा बना रहा हो।
3. सरकार के विकास कार्य के लिए।
4. फल देने की क्षमता हार गई हो।

योग्य प्राधिकृत प्राधिकृति से लिखित अनुमति प्राप्त करनी होगी।

Advertisement

वृक्ष के मालिक को हर कटे गए प्रति वृक्ष के स्थान पर दो वृक्ष लगाने होंगे।

यदि वृक्ष नहीं लगाए जाते हैं, तो पाँच वर्षों के लिए दो ऐसे वृक्षों के संचालन के लिए धन देना होगा।

Advertisement

वृक्ष के मालिक को इस राशि को वन विभाग में जमा करना होगा।

Advertisement

Related posts

ब्रेकिंग:-आठ दिवसीय 47वाँ सिद्धपीठ श्री कुंजापुरी पर्यटन एवं विकास मेला नरेंद्रनगर टिहरी गढ़वाल में इस दिवस से होगा आयोजित।जाने कितने दिनों का होगा यह मेला।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग/Breaking:-गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर गंगोत्री से उत्तरकाशी की ओर आ रही एक यूटिलिटी हुई दुघर्टना का शिकार, इतने लोग थे सवार।

khabaruttrakhand

Uttarakhand गठन के 23 साल बाद भी अनसुलझा है सीमा विवाद, भूमाफिया कर रहे अवैध कब्जा

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights