khabaruttrakhand
उत्तराखंडदुनियाभर की खबरेदेहरादून

Maha Shivratri: दूर-दराज से पहुंचते दून के रुद्रेश्वर महादेव मंदिर में भक्त, महाभारत काल से जुड़ा है इतिहास

Maha Shivratri: दूर-दराज से पहुंचते दून के रुद्रेश्वर महादेव मंदिर में भक्त, महाभारत काल से जुड़ा है इतिहास

Maha Shivratri : दून का रुद्रेश्वर महादेव मंदिर लाखों भक्तों की आस्था का केंद्र है। मंदिर का इतिहास महाभारत काल से जुड़ा हुआ है। मान्यता है कि मंदिर में सच्चे मन से पूजा करने पर भगवान शिव भक्तों की मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं। मंदिर में द्वादश शिवलिंग है। यहां पूजा अर्चना करने के लिए दूर-दराज से भक्त पहुंचते हैं।

दून के रायपुर रोड स्थित नालापानी तपोवन में ऐतिहासिक रुद्रेश्वर महादेव मंदिर स्थित है। इसका इतिहास महाभारत काल से जुड़ा हुआ है। माना जाता है कि यहां गुरु द्रोणाचार्य ने पांडव और कौरवों को शिक्षा दी थी। उन्होंने ही यहां शिवलिंग स्थापित किए थे। इसके बाद से ही भक्त बड़ी संख्या में लगातार पहुंचकर दर्शन करते है।

Advertisement

भगवान शिव की करते हैं भक्त यहां अराधना

सावन मास और फाल्गुन मास में यहां बड़ी संख्या में भक्त पहुंचते है और भगवान शिव की भक्ति करते हैं। मान्यता है कि मंदिर में भगवान शिव की अराधना करने से भक्तों की मनोकामनाएं पूरी होती है। मंदिर की धर्म गिरी माई ने बताया कि रुद्रेश्वर महादेव मंदिर का इतिहास महाभारत काल से जुड़ा है।

यहां द्रोणाचार्य ने ही शिवलिंंग की स्थापना की थी। गुरु द्रोणाचार्य के नाम पर ही रुद्रेश्वर महादेव मंदिर का नाम जुड़ा है। महंत आशीष गिरी ने बताया कि मंदिर परिसर में चार रुद्राक्ष के पेड़ हैं। रुद्रेश्वर महादेव में सच्ची श्रद्धा से शिव का चिंतन करने से सभी कष्ट दूर हो जाते हैं। शांत वातावरण में भक्त यहां आकर भगवान शिव की अराधना करते है।

Advertisement

रुद्राक्ष का पेड़ टूटने के बाद स्थापित हुआ था एक ओर शिवलिंग

महंत आशीष गिरी बताते है कि मंदिर में पहले एकादश शिवलिंग थे। यहां शिवलिंग के बीच में एक रुद्राक्ष का पेड़ स्थित था। जो काफी समय होने के कारण सूखने के चलते टूट गया था। इसके बाद उसकी जगह पर एक ओर शिवलिंग स्थापित किया गया था। ऐसे ही मंदिर में एकादश की जगह द्वादश शिवलिंग स्थापित है।

महाशिवरात्रि पर होंगे भव्य आयोजन

महंत आशीष गिरी ने बताया कि रुद्रेश्वर महादेव मंदिर में महाशिवरात्रि पर भव्य आयोजन होंगे। यहां इससे पहले ही शिवपुराण कथा और रुद्राभिषेक शुरु हो जाएंगे। इसके साथ ही आठ मार्च को मंदिर में मेले का भव्य आयोजन किया जाएगा। इसके बाद दस मार्च को मंदिर में भंडारा होगा।

Advertisement

रुद्रेश्वर महादेव मंदिर में भगवान शिव के मंदिर के साथ ही अन्य 14 मंदिर स्थापित हैं। भक्त यहां आकर भगवान शिव के साथ ही प्रभु के दर्शन करते है। महंत बताते है कि मंदिर में श्रीराम, हनुमान जी, माता सरस्वती के साथ ही 14 मंदिर स्थापित है।

Advertisement

Related posts

Uttarakhand: Radha Raturi के रूप में मिल सकती है प्रदेश को पहली महिला मुख्य सचिव, CM Dhami ने दिए संकेत

cradmin

जनता मिलन कार्यक्रम में सोमवार को 34 शिकायतें शिकायतें/अनुरोध पत्र दर्ज किये गये।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-केंद्र सरकार व उत्तराखण्ड सरकार में महिलाएं नहीं है सुरक्षित।चलते फिरते हो रही छेड़छाड़। लीला बोरा।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights