khabaruttrakhand
आध्यात्मिकउत्तरकाशीउत्तराखंड

आस्था:-सावन के प्रथम सोमवार को कावड़िए पहुंचे गंगोत्री धाम।

सावन का प्रथम सोमवार को कावड़िए पहुंचे गंगोत्री धाम

रिपोर्ट:- सुभाष बडोनी/उत्तरकाशी.

Advertisement

सावन के प्रथम सोमवार को गंगोत्री धाम में कावड़ियों की भारी तादात देखने को मिली. माँ गंगा का आश्रीवाद व् भगवान शंकर का आश्रीवाद लेने के लिए पूरे प्रदेश से अनेको भक्त गंगोत्री धाम पहुंच रहे है. भगवान शंकर व् माँ गंगा गंगोत्री धाम में विराजमान है. इसका उल्लेख शास्त्रों में भी किया गया है.

सावन माह के प्रथम सोमवार में भगवान भोलेनाथ को जल चढ़ाने का बहुत बड़ा महत्व है और इस माह में किए गए जप -तप पाठ पूजा और जलाभिषेक का बहुत बड़ा महत्व है. देश के कोने-कोने से विभिन्न राज्यों से जनपदों से हजारों की संख्या में कावड़ी गंगोत्री धाम पधारते हैं और गंगोत्री धाम से जल भर कर के अपने अपने स्थान के मंदिर में भगवान भोलेनाथ को जल चढाते है।
भोलेनाथ सभी की मनोकामना पूर्ण करते हैं और माना जाता है कि गंगोत्री में सूर्यकुंड गौरी कुंड में भगवान भोलेनाथ का शिवलिंग में मौजूद है और गंगा माँ उस शिव लिंग पर चढ़कर के आगे निकलती है।
इसलिए मान्यता है कि सभी ज्योतिर्लिंग में और रामेश्वर में गंगा माँ का गंगोत्री का जल चढ़ाया जाता है.

Advertisement

इस वर्ष उम्मीद थी कि लाखों की संख्या मे कावड़ी गंगोत्री धाम आएंगे बिगत 2 वर्ष कोरोना के कारण लोग नही आ पाए थे।
व्यापारियों ने भी खूब सामान लाया अपने दुकानों को सजाया किन्तु कावड़ियों की संख्या में कमी के कारण चेहरे पर उदासी है और व्यापारियों को अब भी आशा है कि शेष समय मे खूब कावड़ी गंगोत्री धाम आ कर माँ गंगा के जल को ले कर जाएंगे।

Advertisement

Related posts

ब्रेकिंग:-बाल गंगा महाविद्यालय के छात्र छात्राओं द्वारा स्पर्श गंगा दिवस के अवसर पर भिलंगना तट पर चलाया गया स्वच्छता अभियान ।

khabaruttrakhand

जनपद टिहरी के विभिन्न विद्यालयों के प्रशिक्षण कार्यक्रमों की श्रृंखला में दिनांक 26 अक्टुबर 2023 को *भिलंगना ब्लॉक के रा०ई०का० कुमशीला* में एक दिवसीय आपदा संबंधी/त्वरित राहत-बचाव कार्य एवं जगरूकता प्रशिक्षण कार्यक्रम।

khabaruttrakhand

Uttarkashi: SDRF की नई प्रणाली से मुख्यमंत्री Dhami ने फंसे श्रमिकों से बात की, बचाव कार्रवाई सफल।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights