khabaruttrakhand
उत्तराखंडआकस्मिक समाचारनैनीतालविशेष कवरस्वास्थ्य

ब्रेकिंग-नैनी झील में जा रहे गंदे पानी को लेकर हाईकोर्ट ने जल संस्थान अधिकारियों को लगाई जमकर फटकार।

नैनी झील में जा रहे गंदे पानी को लेकर हाईकोर्ट ने जल संस्थान अधिकारियों को लगाई जमकर फटकार।

रिपोर्ट। ललित जोशी।

Advertisement

नैनीताल। सरोवर नगरी नैनीताल उत्तराखंड हाईकोर्ट ने नैनी झील में जगह जगह से जा रहे सिविर के गंदे पानी का संज्ञान लेते हुए जल संस्थान के अधिशासी अभियंता को जमकर फटकार लगाते हुए कहा तुरंत सिविर लाइन को ठीक किया जाये।
यहाँ बताते चलें कई बार मीडिया के सहयोग से दर्शकों व पाठकों को बार बार समस्या से अवगत कराया जाता रहा है।
इसी क्रम में मुख्य न्यायाधीश की कोर्ट में सुनवाई के दौरान कहा गया शिकायत के बाद भी जल संस्थान काम क्यों नहीं करता है। कोर्ट ने अधिकारियों से पूछा क्यों नहीं रूटीन चैक होता है।
मुख्य न्यायाधीश ने कहा सरकार का काम पैसा देना होता है अब यह जरूरी है कि गंदे पानी को झील में जाने से रोका जाये।
उन्होंने कहा कि ऐसी कई जगह से शिकायत आती है कि फलसाने जगह सिविर लाइन चौक हो गई है उसका गन्दा पानी सड़कों में बहकर नैनी झील में जा रहा है।
जल संस्थान द्वारा कार्य न किये जाने पर जनता को हाईकोर्ट की शरण में आना पड़ता है यह बहुत ग़लत है।
यहाँ यह भी बता दे जल संस्थान के कानों में तब भी जूं नही रेंगती है।
स्नोभ्यू, बिड़ला मार्ग के मॉडन कॉटेज के पास विगत कई दिनों से चेम्बर का ढक्कन आधा खुला हुआ है जिसमें कई स्कूलों के बच्चे ठोकर खा कर गिर गए हैं।
जनता कहते कहते थक गयी आजकल आजकल में जल संस्थान टालते रह रहा ।
हालांकि मौके मुआयना किया जाता है जल संस्थान कर्मचारियों द्वारा पर काम करने को कोई तैयार नहीं रहता ।
जब कोई बड़ी घटना घटित होगी तब जल संस्थान के अधिकारी अच्छी तरह जागेंगे।

Advertisement

Related posts

भू-कानून और मूल निवास के खिलाफ आंदोलन: Uttarakhand में हर जिले और ब्लॉक में बनेगी संघर्ष समितियां

khabaruttrakhand

मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी ने मंगलवार को ऋषिकेश स्थित यात्रा रजिस्ट्रेशन ऑफिस एवं ट्रांजिट कैम्प पहुंचकर व्यवस्थाओं का किया निरीक्षण।

khabaruttrakhand

उत्तराखंड के विभिन्न सिविल सेवा के अधिकारियों की पत्नियां इस संस्था से सदस्य के रूप में जुड़कर सामाजिक/जन सेवा के कार्यों में निभा रही अपनी भागीदारी ।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights