khabaruttrakhand
अल्मोड़ाआकस्मिक समाचारउत्तरकाशीउत्तराखंडचम्पावतटिहरी गढ़वालदिन की कहानीदुनियाभर की खबरेदेहरादूनप्रभावशाली व्यतियू एस नगरराजनीतिकराष्ट्रीयविदेश ब्रेकिंगविशेष कवरस्टोरीस्वास्थ्यहरिद्वार

BigBreaking:-अब बिना सहारे के सीढ़ी चढ़ेगा 58 वर्षीय व्यक्ति, फेफड़ों में भर चुका था पानी, किडनी भी थी खराब,हार्ट कर रहा था 20% काम, ऐसे में बिना ओपन हार्ट सर्जरी चिकित्सको ने किया ये शानदार कार्य।

ऐम्स ऋषिकेश:- खबर ये बड़े काम की है, जाने विस्तार से।

मिल रही जानकारी के अनुसार 58 वर्षीय विभुरंजन के जहां एक तरफ फेफड़ों में भर चुका था पानी वहीं डनी भी थी खराब। ऐसे में ऐम्स ऋषिकेष के चिकत्सकों ने कर दिया कमाल।

Advertisement

बताया जा रहा है कि बिना ओपन हार्ट सर्जरी के  एम्स चिकित्सकों ने रिप्लेसमेंट कर दिए दिल के वाॅल्व।

58 वर्ष की अवस्था में रूमैटिक हार्ट डिसीज की समस्या से जूझ रहे एक रोगी के हृदय के वाॅल्व खराब हो चुके थे।

Advertisement

समय पर इलाज नहीं मिलने के कारण उसके फेफड़ों में पानी भर गया और गुर्दे खराब होने से पेशाब में भी रुकावट होने लगी।

सबसे बड़ी दिक्कत जो अब सामने आई थी वह थी चलने-फिरने में असमर्थ होना।

Advertisement

वही मरीज द्वारा जीवन बचाने के लिए कई अस्पतालों में दौड़ भी लगाई, लेकिन उपचार कहीं नहीं मिला।

ऐसे में एम्स ऋषिकेश के कार्डियोलाॅजी विभाग के चिकित्सकों ने बिना ओपन हार्ट सर्जरी के माध्यम से रोगी के हृदय (हार्ट) के वाॅल्व सफलतापूर्वक रिप्लेसमेंट कर उसे नया जीवन प्रदान करने में सफलता पाई है।

Advertisement

बताया जा रहा है कि रोगी अब स्वस्थ है और बिना किसी सहारे के चलने-फिरने लग गया है।

उत्तर प्रदेश के जनपद पीलीभीत के रहने वाले विभुरंजन पाल पिछले 8-10 महीनों से दिल की बीमारी की गंभीर समस्या सहित शरीर के विभिन्न जटिल रोगों से ग्रसित थे।

Advertisement

उनके हृदय के वाॅल्व खराब हो चुके थे और इलाज के अभाव में एक वाॅल्व सिकुड़कर छोटा हो चुका था।

हृदय की कार्य क्षमता घटकर महज 20 प्रतिशत ही रह गयी थी इस इलाज के सबसे बड़ी दिक्कत यह थी।

Advertisement

आस-पास के अस्पतालों ने उन्हें बताया कि उनकी बीमारी अब लाइलाज हो चुकी है और उनका ठीक होना असंभव है।

Advertisement

वहीं उन्हें यह भी बताया गया कि उन्हें अब जीवनभर दवाओं पर ही निर्भर रहना पड़ेगा।

ऐसे में अंतिम उम्मीद लिए वह एम्स ऋषिकेश पहुंचे, यहां बीते माह 10 अगस्त को कार्डियोलाॅजी विभाग की ओपीडी में मौजूद कार्डियोलाॅजिस्ट प्रोफेसर भानु दुग्गल को उन्होंने अपनी स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतें बताई और जीवन बचाने के लिए एम्स को अपनी आखिरी उम्मीद बताया।

Advertisement

इस बाबत जानकारी देते हुए एम्स के कार्डियोलाॅजी विभागाध्यक्ष और वरिष्ठ सर्जन डाॅ. भानु दुग्गल ने बताया कि मरीज की स्थिति ऐसी थी, कि वह बहुत ही हाई रिस्क में था और उसकी बाईपास सर्जरी नहीं की जा सकती थी।

ऐसे में मरीज की सभी आवश्यक जाचें कराने के बाद उन्हें बिना ओपन हार्ट सर्जरी के माध्यम से हार्ट में वाॅल्व रिप्लेसमेंट कराने की सलाह दी गई।

Advertisement

डाॅ. भानु ने बताया कि रोगी के गुर्दे भी खराब हो चुके थे। साथ ही फेफड़ों में पानी भर जाने के कारण उसकी सांस लगातार फूल रही थी।

दिल अपने आकार से ज्यादा फैला हुआ था और खराब हो चुका था।

Advertisement

इन हालातों में मरीज की कभी भी कार्डियक डेथ होने का खतरा बना था।

डाॅ. भानु ने बताया कि रोगी को कुछ दिन गहन चिकित्सा यूनिट में भर्ती कर हालत स्थिर करने की प्रक्रिया की गई और फिर रोगी तथा उसके परिजनों की सहमति पर हाई रिस्क लेते हुए वाॅल्व रिप्लेसमेंट करने का प्लान तैयार किया गया।

Advertisement

उन्होंने बताया कि आईसीयू में एक सप्ताह तक दवाओं द्वारा रोगी की हालत स्थिर करने के बाद 20 अगस्त को उसके हार्ट के दो वाॅल्व सफलतापूर्वक रिप्लेसमेंट कर दिए गए।

बेहद ही जटिल तरीके से की गई इस प्रक्रिया में पहली बार भारत में निर्मित स्वदेशी वाॅल्वों का उपयोग किया गया है।

Advertisement

डाॅ. भानु के अनुसार वाॅल्व रिप्लेसमेंट के बाद पहले दिन ही रोगी का गुर्दा सही ढंग से कार्य करने लगा और जरूरत न होने की वजह से मरीज की ऑक्सीजन सपोर्ट भी हटा दी गई।

उन्होंने बताया कि रोगी अगले रोज से ही बिना किसी सहारे के चलने लगा था।

Advertisement

सर्जरी के लगभग 20 दिनों बाद अब वह बिना किसी सपोर्ट के अब सीढ़ियां चढ़ने लगा है।

यहां तक कि रोगी के अन्य अंग भी बेहतर कार्य कर रहे हैं। स्वास्थ्य लाभ मिलने पर रोगी को बीते दिनों अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया।

Advertisement

वाॅल्व रिप्लेसमेंट करने वाली टीम में डाॅ. भानु दुग्गल के अलावा डाॅ. योगेश चंद, डा. विजय, डाॅ. अनिरूद्ध आदि शमिल थे।

संस्थान की कार्यकारी निदेशक प्रोफेसर (डॉ.) मीनू सिंह ने इस संबंध में कार्डियोलाॅजी विभाग के अनुभवी डाॅक्टरों की टीम की प्रशंसा की और कहा कि हार्ट से संबंधित विभिन्न बीमारियों से बचाव के लिए समय रहते इलाज कराना बहुत उपयोगी होता है। उन्होंने कहा कि हृदय रोगियों के बेहतर इलाज के लिए एम्स में विश्वस्तरीय तकनीक आधारित कैथ लेब की सुविधा भी उपलब्ध है।

Advertisement

हृदय रोग से ग्रसित रोगियों को एम्स की इस सुविधा का लाभ उठाना चाहिए।

Advertisement

Related posts

उपजिलाधिकारी ने सेम मुखेम नागराजा के वार्षिक कार्यक्रम एवं मेला के दृष्टिगत पर्यटक आवास गृह मुखेम मे अधिकारियों की ली बैठक, स्थलीय निरीक्षण करते हुए दिए आवश्यक दिशा निर्देश ।

khabaruttrakhand

Ram Mandir: पुलिस से बचने के लिए जिस गांव में शरण ली, वे बने मददगार, कौशिक ने साझा कीं आंदोलन से जुड़ीं यादें

srninfosoft@gmail.com

Haridwar: पतंजलि के CEO आचार्य बालकृष्ण ने मुख्यमंत्री Dhami और राज्यपाल Gurmeet Singh के साथ Haridwar में संभावित निवेश पर चर्चा की

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights