khabaruttrakhand
उत्तराखंड

Uttarakhand: Silkyara सुरंग में फंसे श्रमिकों के बचाव के लिए प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्री से जानकारी ली, ऑपरेशन में बाधाएं दूर करने के लिए निर्देश

Uttarakhand: Silkyara सुरंग में फंसे श्रमिकों के बचाव के लिए प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्री से जानकारी ली, ऑपरेशन में बाधाएं दूर करने के लिए निर्देश

Uttarkashi Tunnel: प्रधानमंत्री Narendra Modi ने मुख्यमंत्री Pushkar Singh Dhami से Silkyara में निर्माणाधीन सुरंग में फंसे श्रमिकों को बचाने के लिए ऑपरेशन Silkyara में आने वाली बाधाओं के बारे में जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने उन्हें बताया कि ऑगर मशीन के सामने स्टील के सामान आने के कारण काम में बाधा आ रही थी, जिसे ठीक किया जा रहा था।

हर दिन की तरह शुक्रवार को भी प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्री से फोन पर Silkyara सुरंग में फंसे 41 श्रमिकों और उनके परिवारों के बारे में जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने उन्हें बताया कि इस सुरंग का निर्माण New Austrian Tunnel विधि का उपयोग करके किया जा रहा है। सुरंग में स्टील की वस्तुओं का सामना करने के कारण ऑगर मशीन को कुछ नुकसान हुआ है। इसे ठीक किया जा रहा है।

Advertisement

Matali Uttarkashi में ही अस्थायी मुख्यमंत्री शिविर कार्यालय की स्थापना की गई

इस वजह से ऑपरेशन कुछ समय के लिए रोक दिया गया है। प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्री से सुरंग के अंदर फंसे श्रमिकों की स्थिति और उन्हें प्रदान किए जाने वाले भोजन और दैनिक वस्तुओं के बारे में जानकारी ली। राहत और बचाव कार्य में लगे श्रमिकों की स्थिति और उनके लिए किए जा रहे सुरक्षा उपायों के बारे में भी पूछा।

उन्होंने निर्देश दिया कि इसमें किसी भी प्रकार की कमी नहीं होनी चाहिए। उन्होंने बचाव कार्य की प्रगति और किए जा रहे कार्यों के साथ-साथ विभिन्न एजेंसियों के बीच समन्वय के लिए कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सिल्कयारा सुरंग में चल रहे राहत और बचाव कार्यों की जमीनी स्तर की निगरानी के साथ-साथ Uttarkashi के Matali में ही एक अस्थायी मुख्यमंत्री शिविर कार्यालय की स्थापना की गई है। इससे पूरे ऑपरेशन की बेहतर निगरानी की जा सकेगी।

Advertisement

वैकल्पिक जीवन रेखा बनाई गई

मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को बताया कि छह इंच व्यास की पाइपलाइन सफलतापूर्वक बिछाने के बाद एक वैकल्पिक जीवन रेखा बनाई गई है। जिसके माध्यम से ताजा पका हुआ भोजन, फल, सूखे मेवे, दूध, रस के साथ-साथ डिस्पोजेबल प्लेट, ब्रश, तौलिए, छोटे कपड़े, टूथ पेस्ट, साबुन आदि। सुरंग में फंसे श्रमिकों को दैनिक जरूरतों को बोतलों में पैक करके भेजा जा रहा है। .. इस पाइपलाइन के माध्यम से SDRF के संचार सेटअप के माध्यम से श्रमिकों के साथ नियमित संचार किया जा रहा है। श्रमिकों और उनके परिवार के सदस्यों से भी बातचीत की जा रही है।

नजदीकी hospital में 41 विशेष बिस्तर तैयार

मुख्यमंत्री ने कहा कि Silkyara में स्थापित अस्थायी अस्पताल में तैनात डॉक्टर श्रमिकों के स्वास्थ्य की लगातार निगरानी कर रहे हैं। ambulances से लेकर निकटतम hospital तक, श्रमिकों के लिए 41 विशेष बिस्तर तैयार किए गए हैं। मनोचिकित्सक भी नियमित रूप से सुरंग में फंसे श्रमिकों की काउंसलिंग कर रहे हैं।

Advertisement

सुरक्षा चंदवा और पलायन सुरंग भी बनाई गई

मुख्यमंत्री ने कहा कि राहत और बचाव कार्यों में लगे श्रमिकों की सुरक्षा पर भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है। बचाव स्थल पर Pre-cast RCC box पुलिया और ह्यूम पाइप के माध्यम से सुरक्षा चंदवा और बचने की सुरंग बनाई गई है। यह किसी भी आपात स्थिति में सुरंग के अंदर बचाव में लगे लोगों की सुरक्षित निकासी सुनिश्चित करेगा। सुरक्षा से जुड़े अन्य विशेष निर्देशों पर भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है।

Advertisement

Related posts

वीर बाल दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने टीला साहिब गुरुद्वारा बौराडी नई टिहरी में मत्था टेक कर प्रदेश की सुख, समृद्धि एवं खुशहाली की कामना की।

khabaruttrakhand

आपदा प्रशिक्षण:-*जनपद आपदा प्रबंधन प्राधिकरण टिहरी गढ़वाल द्वारा जनपद के विभिन्न विद्यालयों के प्रशिक्षण कार्यक्रमों की श्रृंखला में छात्र- छात्राओं एवं विद्यालय कर्मियों को दिया जा रहा आपदा प्रबंधन एवं अन्य महत्वपूर्ण जन-जागरूकता संबंधी जानकारियां ।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंगः- विकास खंड कोटाबाग में मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना, प्रधानमंत्री स्वरोजगार सृजन कार्यक्रम के अंतर्गत बहुउद्देश्यीय शिविर का आयोजन ।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights