khabaruttrakhand
उत्तराखंड

Supreme Court ने प्रतिबंध हटा दिए, Corbett और Rajaji Tiger रिजर्व सहित Uttarakhand के छह संरक्षित क्षेत्रों में निर्माण की अनुमति दी

Supreme Court ने प्रतिबंध हटा दिए, Corbett और Rajaji Tiger रिजर्व सहित Uttarakhand के छह संरक्षित क्षेत्रों में निर्माण की अनुमति दी

Dehradun: Corbett और Rajaji Tiger रिजर्व सहित राज्य के छह सुरक्षित क्षेत्रों में फंसे 45 निर्माण कार्य अब शुरू हो सकेंगे। Uttarakhand के अनुरोध पर Supreme Court ने इन कार्यों पर कुछ शर्तों के साथ प्रतिबंध हटा दिया है। वन विभाग के प्रमुख वन्यजीव संरक्षक, Anup Malik ने इसे स्वीकृत किया है।

Corbett Tiger रिजर्व के तहत Kalagarh Tiger Safari के मामले की बहस के बाद, Supreme Court ने राज्य के सभी सुरक्षित क्षेत्रों में निर्माण कार्य पर प्रतिबंध लगा दिया था। अब Supreme Court ने स्पष्ट किया है कि केवल उन कार्यों को किया जाए, जिन्हें वन्यजीव और वन्यजीव संरक्षण के लिए वन विभाग द्वारा निर्धारित किया गया है और जो आवश्यक हैं।

Advertisement

Supreme Court की CEC समिति ने सूचना ली थी

Supreme Court की CEC समिति ने Kalagarh Tiger Reserve के तहत Pakro Tiger Safari के मामले में अवैध अंधाधुंध कटाई और अवैध निर्माण के साथ-साथ नियमों को स्तरों पर अनदेखा करने के मुद्दे को लेकर जानकारी ली थी। CEC ने मामले से संबंधित विभिन्न पहलुओं की जांच करने के बाद Supreme Court को रिपोर्ट प्रस्तुत की थी।

Supreme Court ने इस मामले की सुनवाई के दौरान Uttarakhand में बाघ रिजर्व, वन्यजन्तु अभ्यारण और राष्ट्रीय उद्यानों में निर्माण कार्यों पर प्रतिबंध लगा दिया था। यह आदेश इस वर्ष के February 8 को जारी किया गया था। इस आदेश के सुरक्षित निर्वहन के संदर्भ में राज्य के मुख्य वन्यजीव रक्षा अधिकारी ने Supreme Court और पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय से पहले से ही मंजूर कार्यों के बारे में जानकारी प्रदान करने के लिए अनुरोध किया।

Advertisement

प्रतिबंध उठाए गए 45 काम

राज्य के मुख्य वन्यजीव रक्षा अधिकारी ने यह भी पूछा कि क्या वन और वन्यजीव संरक्षण के लिए आवश्यक हैं, क्या काम उन पर किया जा सकता है या नहीं। उन्होंने Rajaji और Corbett Tiger Reserves सहित छह सुरक्षित क्षेत्रों में किए जाने वाले 45 आवश्यक कार्यों की सूची दी। हाल ही में, इस मामले में Supreme Court ने पुराने आदेश में संशोधन करके इन 45 कामों पर प्रतिबंध को हटा दिया है। इससे वन विभाग को राहत मिली है।

अधिकारी ने यह कहा

“राज्य के वन और वन्यजीव संरक्षण के दृष्टि को ध्यान में रखकर आवश्यक कार्यों के लिए Supreme Court से वन विभाग को एक बड़ी राहत मिली है।” – R.K. Sudhanshu, मुख्य सचिव वन विभाग

Advertisement

ये चीजें की जा सकती हैं

Rajaji Tiger Reserve: – Bulandawala और अमसोट में एंटी-हाथी दीवार, डोडा फायर क्रू-स्टेशन का विस्तार, Rawasan में रेंज ऑफिस और आवास, Beriwada और Kansoro में रेंज आवास, तीरा, Kansoro और Raweli में आवास, Bulandawala में एंटी-साख शिविर, विभिन्न नदी संरक्षण कार्यों को स्थानों पर।

Corbett Tiger Reserve: – Dhikala, Kanda, Fika, Tunuchocki, Phulai, Dhela, Malani East, Sendhikhal, Salkhet, Gujarsot, में जलपूर्ति, सावलडे नॉर्थ में एंटी-हाथी खाई, Ringoda, Dhangeri और Kalagarh में सोलर फेंसिंग, Kalagarh में हाथी एंटी वॉल, Barwali, Ramjiwala और Sildhari, Chorpani, Fato और Patrapani में वॉच टावरों में पानी की रक्षा।

Advertisement

Kedarnath वन्यजीव अभ्यारण: – Kanchulakhark और Bhulkana में पैट्रोलिंग कैम्प, सुंचंद में जल स्रोत संरक्षण, Bamardhor में चेक डैम, Ghuasa में भूमि संरक्षण।

Gangotri राष्ट्रीय उद्यान: – Bhojwasa और Nelang में वन गार्ड पोस्ट।

Advertisement

Govind वन्यजीव अभ्यारण: – Judatal, Sankri और Rupin में एंटी पोचिंग कैम्प।

Nanda Devi राष्ट्रीय उद्यान: – Rikhotnala में फूलों के भूमि संरक्षण।
Valley नेशनल पार्क: – Pinkhanda में पानी संरक्षण।

Advertisement

Related posts

Tunnel Rescue: सीएम धामी ने सुरंग में पहुंचकर रेस्क्यू ऑपरेशन का लिया जायजा

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-कर्मचारियों द्वारा कार्यो में ढिलाई बरती गई तो अधिकारी की जवाब देही होगी। दीपक रावत।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-धूम्रपान, तंबाकू एवं शराब का नशा, समाज एवं जीवन की दुर्दशा, शारीरिक, मानसिक एवं सामाजिक हानियो के प्रति जागरूकता हेतु निबंध, पोस्टर एवं स्लोगन प्रतियोगिताओ का आयोजन

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights