khabaruttrakhand
उत्तराखंड

Uttarakhand: नए साल में आपदा की तत्काल जानकारी प्रदान करने के लिए Dehradun में नई इमारत ₹53 करोड़ की प्रणालियों से सुसज्जित है।

Uttarakhand: नए साल में आपदा की तत्काल जानकारी प्रदान करने के लिए Dehradun में नई इमारत ₹53 करोड़ की प्रणालियों से सुसज्जित है।

Uttarakhand राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकृति (USDMA) का नया छह मंजिला इमारत, जिसे 87 करोड़ रुपये की लागत में Koti Banal शैली में बनाया गया है, नए वर्ष में पौधों के साथ सुसज्जित होकर कार्य करना शुरू करेगी। इसके बाद, राज्य के किसी भी कोने में होने वाली किसी भी आपदा के संबंध में तत्परता होगी।

इसके बाद, राज्य आपात परिचालन केंद्र (SEOC) 24 घंटे काम करेगा, जो किसी भी आपदा स्थिति का सामना करने में सहायक होगा। Sahasradhara IT Park में स्थित इस इमारत का निर्माण कार्य January 2020 में शुरू किया गया था, जिसे अब पूरा करके USDMA को सौंप दिया गया है। इस इमारत का निर्माण विश्व बैंक द्वारा अनुदानित उत्तराखंड आपदा पुनर्निर्माण परियोजना (UDRP) के तहत किया गया है।

Advertisement

इसमें 8 ताकत के भूकंप से आसानी से सहन कर सकती है

इसकी आंतरदृष्टि सज्जीवनी और आधुनिक उपकरण January 2024 में शुरू होने वाले Uttarakhand आपदा तैयारी और सहनशील परियोजना (U-Prepare) के तहत खरीदी जाएगी। यह उत्तराखंड में पहली इमारत है जिसे 4-star GRIA प्रमाणपत्र प्राप्त हो रहा है, जो आठ ताकत के भूकंप तक सहन कर सकती है।

इसमें एक विश्व-स्तरीय कमांड सेंटर बनाया जाएगा

इसमें एक विश्व-स्तरीय कमांड सेंटर बनाया जाएगा। इसमें CCTV, IPBX, डेटा नेटवर्किंग, WiFi ऑन-ग्रिड, सोलर पॉवर जनरेशन सिस्टम, पब्लिक एड्रेसेबल वॉयस अलार्म (PAVA) सिस्टम जैसी जानकारी संचार प्रौद्योगिकी (ICT) से सुसज्जित किया जाएगा। इस इमारत में 80 बेस आइसोलेशन सिस्टम लगाए गए हैं। आपदा प्रबंधन सचिव Dr. Ranjit Sinha ने कहा कि जल्द ही इसे आधुनिक तकनीकी उपकरणों से सुसज्जित करने का काम शुरू किया जाएगा। इसके लिए निविदा प्रक्रिया पूरी हो गई है।

Advertisement

SEOC सात दिनों तक 24 घंटे काम करेगा

SEOC आपदा प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसमें आधुनिक संचार और तकनीक का मिश्रण होगा। इसमें स्थिति के दौरान जानकारी का विश्लेषण किया जा सकता है ताकि पूरे राज्य में आपदाओं के दौरान इसे निर्धारित किया जा सके।

हार्डवेयर से ऑडियो विजुअल, सब कुछ विशेष होगा

नई इमारत में राज्य आपात परिचालन केंद्र, एक्टिव राउटर, कोर स्पीच, फ़ायरवॉल, WiFi कंट्रोलर, एक्सेस पॉइंट और वॉयस टेलीफ़ोनिक सिस्टम पर 6.51 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। इसके अलावा, पूरी इमारत में हार्डवेयर, लाइसेंस और वर्क स्टेशन्स पर 4.57 करोड़ रुपये खर्च होंगे, जबकि HCI सर्वर सिस्टम में 14.35 करोड़ रुपये लगेंगे। इसके अलावा, ऑडियो विजुअल सिस्टम स्थापित करने में 27.17 करोड़ रुपये लगेंगे।

Advertisement

नई इमारत में यह भी होगा विशेष

नई इमारत में SEOC वार रूम, फ्यूजन सेंटर, GIS लैब, कॉन्फ्रेंस हॉल, ट्रेनिंग हॉल, मीटिंग हॉल, रिटायरिंग रूम, कैफीटीया, ऑपरेशन्स और लॉजिस्टिक्स टीम के लिए डिस्कशन रूम, सशस्त्र बलों के लिए डिस्कशन रूम, वैज्ञानिक एजेंसियों, NGO के लिए ट्रांजिट हॉस्टल के साथ अपने सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (STP), इंटीग्रेटेड बिल्डिंग मैनेजमेंट सिस्टम (IBMS) के साथ सुसज्जित किया जाएगा।

Advertisement

Related posts

शिशु हृदय शल्य चिकित्सा में एम्स ऋषिकेश स्थापित कर रहा नए आयाम -जटिल सर्जरी के लिए महानगरों के अस्पतालों की दौड़धूप से मिली लोगों को निजात।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, ऋषिकेश में आयोजित वर्ल्ड एंटीबायोटिक सप्ताह के तहत ओपीडी एरिया में नुक्कड़ नाटक का आयोजन

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights