khabaruttrakhand
आकस्मिक समाचारउत्तराखंडदिन की कहानीदुनियाभर की खबरेदेहरादूनराष्ट्रीयविशेष कवरस्टोरीस्वास्थ्य

यहां शुरू हुई कोविड स्क्रीनिंग ओपीडी दैनिक तौर पर सुबह 9 बजे से सांय 5 बजे तक होगी जांच कोरोना के संभावित संक्रमण को देखते हुए संस्थान ने उठाया कदम।

एम्स में शुरू हुई कोविड स्क्रीनिंग ओपीडी
दैनिक तौर पर सुबह 9 बजे से सांय 5 बजे तक होगी जांच
कोरोना के संभावित संक्रमण को देखते हुए संस्थान ने उठाया कदम।

कोरोना वायरस के संभावित संक्रमण को देखते हुए एम्स ऋषिकेश में कोविड स्क्रीनिंग ओपीडी की शुरुआत कर दी गई है। संस्थान के ट्राॅमा सेन्टर के सम्मुख स्थापित इस ओपीडी एरिया में फ्लू क्लीनिक के माध्यम से प्रत्येक संदिग्ध रोगी की कोविड जांच भी की जाएगी।

Advertisement

कोरोना वायरस संक्रमण के संभावित प्रसार से लड़ने के लिए एम्स ऋषिकेश पूरी तरह तैयार है।

संस्थान ने इस सम्बन्ध स्क्रीनिंग ओपीडी की शुरुआत करने के साथ-साथ आपात स्थिति वाले कोविड संक्रमित मरीजों के लिए 6 बेड भी रिजर्व किए हैं।
उल्लेखनीय है कि पिछले कुछ दिनों के दौरान देश के विभिन्न क्षेत्रों में कोरोना वायरस के उप-स्वरूप जेएन.1 के कुछ नए मामले सामने आए हैं।

Advertisement

हालांकि उत्तराखंड में कोरोना के नए वायरस से ग्रसित मरीज का एक भी मामला अभी प्रकाश में नहीं आया है।

लेकिन एतिहातन स्वास्थ्य सुरक्षा उपायों को तेज करते हुए एम्स ऋषिकेश द्वारा संदिग्ध मरीजों की कोविड जांच सुविधा शुरू कर दी है।

Advertisement

इस बाबत एम्स के जनसंपर्क अधिकारी संदीप कुमार सिंह ने बताया कि संस्थान की निदेशक प्रोफेसर मीनू सिंह के दिशा-निर्देशों के अनुरूप अस्पताल प्रशासन द्वारा कोविड संदिग्ध मरीजों की स्क्रीनिंग करने हेतु यह कदम उठाया गया है।

वहीं उन्होंने बताया कि एम्स के चिकित्सा अधीक्षक प्रोफेसर आर.बी. कालिया ने इस बारे में एक रोज पूर्व ही सम्बन्धित विभागों की बैठक ली थी।

Advertisement

बैठक के दौरान प्रो. कालिया ने अस्पताल पहुंचने वाले प्रत्येक कोविड संदिग्ध व्यक्ति की स्क्रीनिंग करने को कहा था। अनुपालन में कोरोना संक्रमण जांच हेतु ट्राॅमा सेन्टर के सम्मुख कोविड स्क्रीनिंग ओपीडी एरिया बनाया गया है।

इस ओपीडी में सुबह 9 बजे से सांय 5 बजे तक दैनिक तौर से कोविड संदिग्ध और फ्लू से ग्रसित मरीजों की स्वास्थ्य जांच की जाएगी। इसे ’फ्लू क्लीनिक’ का नाम दिया गया है।

Advertisement

उन्होंने बताया कि कोरोना की पिछली लहर के दौरान देखा गया कि कोरोना वायरस अपना स्वरूप बदलने में माहिर है, इसलिए फ्लू क्लीनिक में प्रत्येक ऐसे मरीज की जांच की जाएगी जो खांसी, बुखार, सर्दी और जुकाम जैसे लक्षणों से प्रभावित हो। आवश्यकता पड़ी तो ऐसे संदिग्ध मरीज का कोविड सैम्पल लेकर जांच हेतु भी भेजा जाएगा।
जनसंपर्क अधिकारी ने बताया कि फ्लू क्लीनिक में निर्धारित ओपीडी टाईम सांय 5 बजे के बाद अस्पताल पहुंचने वाले आपात स्थिति के कोविड संदिग्ध लोगों को अस्पताल की मेडिसिन इमरजेंसी में जांच कराने की सुविधा होगी।

वहीं उन्होंने यह भी बताया कि कोरोना वायरस के संभावित संक्रमण के चलते अस्पताल के जिरियाट्रिक वार्ड में 6 बेड कोविड संदिग्ध मरीजों के लिए आरक्षित किए गए हैं। यहां आपात स्थिति के कोविड संदिग्ध मरीजों को उपचार हेतु भर्ती किया जाएगा।

Advertisement

Related posts

उपलब्धि:- कैराराम स्कूल बेलेश्वर की इन 2 छात्राओं का चयन हुआ टिहरी जनपद में स्थित राजीव गांधी नवोदय विद्यालय के लिए।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंगः-उत्तरकाशी पुलिस ने दिखाई मानवता, रात्रि में सड़क पर बेहोशी की हालत में पड़े व्यक्ति को पहुंचाया अस्पताल

khabaruttrakhand

Harak Singh Rawat: Congress नेता हरक सिंह के घर ईडी की रेड, उत्तराखंड से दिल्ली तक 15 से अधिक ठिकानों पर छापा

cradmin

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights