khabaruttrakhand
उत्तराखंड

आगे की चुनौतियाँ: 12 मुद्दे जो नए साल 2024 में Uttarakhand में CM Dhami के प्रशासनिक कौशल की परीक्षा लेंगे

आगे की चुनौतियाँ: 12 मुद्दे जो नए साल 2024 में Uttarakhand में CM Dhami के प्रशासनिक कौशल की परीक्षा लेंगे

नए साल में, संगीन नागरिक संहिता, भूमि विधि, और मौलिक निवास जैसे बड़े मुद्दे Pushkar Singh Dhami ने प्रशासनिक कौशल की जाँच कराएगें। ऐसी करीब दरजन मुद्दे हैं जिनके लिए मुख्यमंत्री को समाधान निकालना होगा। भूमि विधि और मौलिक निवास के मुद्दे ने राज्य की राजनीति में उथल-पुथल मचा दी है। इन दोनों मुद्दों का समाधान निकालने के लिए मुख्यमंत्री ने अतिरिक्त मुख्य सचिव Radha Raturi के अध्यक्षता में एक समिति बनाई है।

1. समरूप सिविल कोड: मुख्यमंत्री Dhami ने घोषणा की है कि विशेषज्ञ समिति जनवरी के पहले महीने में समरूप सिविल कोड की रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी। इस रिपोर्ट के आधार पर, सरकार को राज्य में समान कानून लागू करने के लिए विधायक सत्र में एक संरेखित निर्णय लेना होगा। सबकी जुबान पर एक सवाल है कि क्या सरकार जनवरी में समरूप सिविल कोड को लागू करेगी?

Advertisement

2. राज्य आंदोलनकारियों के लिए आरक्षण: Dhami सरकार ने सरकारी नौकरियों में राज्य आंदोलनकारियों के लिए 10 प्रतिशत का क्षैतिज आरक्षण के लिए बिल पेश किया है। लेकिन संशोधन के लिए इस बिल को चयन समिति को भेज दिया गया था। चयन समिति ने अपनी रिपोर्ट को स्पीकर को सौंपी है। अब सभी की नजरें हैं कि बिल को सदन की मेज पर प्रस्तुत करने के दिन की है।

3. लोकायुक्त की नियुक्ति: Uttarakhand के लोकायुक्त की नियुक्ति के लिए High Court का एक आदेश है। सरकार ने इसके लिए प्रयास शुरू किया है। त्रिवेंद्र सरकार ने लोकायुक्त बनाने से बचते रहे, लेकिन Dhami सरकार को लोकायुक्त बनाने के लिए काफी दबाव है। इस परिस्थिति में, सबकी नजर इस सवाल की है कि क्या Dhami सरकार नए साल में Uttarakhand लोकायुक्त की नियुक्ति करेगी या नहीं।

Advertisement

4. भूमि विधि: राज्य की भूमि को बचाने के लिए एक मजबूत भूमि कानून की मांग का एक सार्वजनिक आंदोलन शुरू हो गया है। CM Dhami के निर्देशों पर एक समिति की अध्यक्षता में पूर्व CS Subhash Kumar की गई थी। समिति ने अपनी रिपोर्ट सरकार को प्रस्तुत की है। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि रिपोर्ट आ गई है तो इसे स्थगित क्यों रखा जा रहा है। उनकी मांग पर, मुख्यमंत्री ने एक समिति की गई है जिसका अध्यक्षता एडीशनल चीफ सेक्रेटरी Radha Raturi करेगी जो इसका समाधान निकालेगी।

5. निवास: Dhami सरकार को निवास प्रमाणपत्र के साथ भूमि कानून के पहेलु को हल करना होगा। पिछले कई वर्षों से, स्थानीय निवासियों को भी स्थायी निवास प्रमाणपत्र बनाने के लिए मजबूर किया गया है। हालांकि, मुख्यमंत्री के निर्देशों पर, एक आदेश जारी किया गया है कि उन लोगों के लिए जिनके पास मौलिक निवास प्रमाणपत्र हैं, स्थायी निवास प्रमाणपत्र के लिए कोई अनिवार्यता नहीं होगी। इसके साथ ही, निवास प्रमाणपत्र जारी करने के संबंध में भी जिम्मेदारी ACS की समिति को सौंपी गई है।

Advertisement

6. लोकसभा चुनाव: लोकसभा चुनाव संगठन के साथ-साथ मुख्यमंत्री Dhami के राजनीतिक कौशल का भी परीक्षण करेंगे। उस पर दबाव होगा कि उन्हें पांच लोकसभा सीटों को जीतने के लिए काम करना है। इसलिए CM चुनाव वातावरण बनाने की सभी जिम्मेदारियों में सबसे महत्वपूर्ण होंगे, उम्मीदवार चयन से लेकर प्रचार-प्रसार तक।

7. निगम चुनाव: दूसरा परीक्षण निगम चुनाव का होगा। चुनावों का आयोजन दिसंबर महीने में होना था, लेकिन OBC सर्वेक्षण और मतदाता सूची की तैयारी में देरी के कारण, चुनाव स्थगित हो गए थे। नए साल में चुनाव होंगे और CM Dhami इन चुनावों में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

Advertisement

8. Cabinet का विस्तार: लोकसभा चुनाव के लिए आचार संहिता के प्रमाणान्तरण से पहले मंत्रिमंडल का विस्तार की संभावना है। राजनीतिक रणनीति के दृष्टिकोण से, खासकर BJP विधायक CM Dhami के अगले कदम का उत्सुकता से इंतजार कर रहे हैं, क्योंकि मंत्रिमंडल में चार पद रिक्त हैं।

9. MoU की नींव: सरकार ने अगले पाँच वर्षों में Uttarakhand के GDP को दोगुना करने के लक्ष्य को हासिल करने के लिए निवेश आकर्षित करने का कारण बनाया है। ग्लोबल इंवेस्टर्स कॉन्फ्रेंस तक, सरकार ने 3.54 लाख करोड़ रुपये के मोयूज पर हस्ताक्षर किए हैं। अब सरकार के सामना इन सभी मोयूज को निर्माण करने की चुनौती है।

Advertisement

10. राष्ट्रीय खेल: Uttarakhand ने 2024 में राष्ट्रीय खेलों का आयोजन प्राप्त किया है। पहली बार, Dhami सरकार पर इस बड़े घटना को सफल बनाने का दबाव होगा।

11. TB-मुक्त Uttarakhand: 2024 तक Uttarakhand को TB-मुक्त बनाने का लक्ष्य रखा गया है। Dhami सरकार को इस लक्ष्य को हासिल करने की चुनौती का सामना करना होगा।

Advertisement

12. अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा: सरकार ने फैसला किया है कि Dehradun Airport और Pantnagar Airport को जॉली ग्रांट स्थिति में अंतरराष्ट्रीय मानक का बनाया जाएगा। सभी की नजरें Dhami सरकार पर होंगी कि सरकार इस संकल्प को नए साल में पूरा कर पाएगी या नहीं।

Advertisement

Related posts

Uttarakhand BJP: BL Santosh ने संघ की बैठक में लोस चुनाव पर की चर्चा, तैयारियों को लेकर लिया फीडबैक

cradmin

ऐतिहासिक यात्रा:-23 अक्टूबर से शुरू वाली यात्रा के मध्यजनर श्रीराम गौधाम सेवा समिति ने की हरियाणा के कैबिनेट मंत्री अनिल विज से मुलाकात ।

khabaruttrakhand

Bageshwar की दुकान में हीटर चलाते समय दुखद अग्नि दुर्घटना में CRPF के सेवानिवृत्त कर्मचारी की मौत, पुलिस घटना की जांच

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights