khabaruttrakhand
अपराधआकस्मिक समाचारउत्तरकाशीउत्तराखंडटिहरी गढ़वालदिन की कहानीदुनियाभर की खबरेदेहरादूनप्रभावशाली व्यतिराजनीतिकराष्ट्रीयविशेष कवरस्टोरी

मंजीरा देवी शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान हिटाणु में बिजली विभाग की लापरवाही से बच्चों की जान पर मंडरा रहा है 11000 बोल्ट का खतरा ।

मंजीरा देवी शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान हिटाणु में बिजली विभाग की लापरवाही से बच्चों की जान पर मंडरा रहा है 11000 बोल्ट का खतरा ।

रिपोर्ट:-सुभाष बडोनी /उत्तरकाशी।

Advertisement

ताजा उत्तरकाशी जनपद के हिटणू गांव से है, जहां पर स्थित श्रीमती मंजीरा देवी शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान में बिजली विभाग की लापरवाही से छोटे बच्चों की जान पर खतरा मंडरा रहा है, यहां 11000 वोल्टेज की लाइन स्कूल के बीचों बीच एकदम पास से गुजर रही है और खंभे भी आधे तिरछे हैं।

इससे किसी भी समय बच्चों को करंट लग सकता है या लाइन टूटकर उन पर गिर सकती है।

Advertisement

इस मामले में प्रशासन और बिजली विभाग दोनों की ओर से अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।
श्रीमती मंजीरा देवी शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान में लगभग 800 बच्चे नियमित रूप से पढ़ाई करते हैं।

Advertisement

इनमें से अधिकतर बच्चे गांव के गरीब परिवारों से आते हैं। श्रीमती मंजीरा देवी शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान के चैयरमैन डॉ. भगवन नौटियाल ने बताया कि वे बिजली विभाग को कई बार लिखित और मौखिक रूप से इस मुद्दे के बारे में सूचित कर चुके हैं, लेकिन उन्हें कोई जवाब नहीं मिला है।

वे बोले, ‘हमारे पास इस लाइन को हटाने या सुधारने का कोई अधिकार नहीं है।

Advertisement

हम बस बच्चों को सावधान रहने और लाइन से दूर रहने की हिदायत देते हैं।

हम चाहते हैं कि बिजली विभाग इसे जल्द से जल्द ठीक करे और हमारे बच्चों की सुरक्षा का ध्यान रखे।

Advertisement

बिजली विभाग के अधिकारियों ने इस मामले में चुप्पी साध रखी है।

इस तरह की लापरवाही से न केवल बच्चों की जान पर खतरा है, बल्कि यह भी एक कानूनी उल्लंघन है।

Advertisement

भारतीय विद्युत अधिनियम, 2003 के अनुसार, किसी भी व्यक्ति या विभाग को बिना अनुमति के 11000 वोल्ट से अधिक की लाइन को किसी भी सार्वजनिक जगह पर नहीं लगाना चाहिए। इसके उल्लंघन पर दो लाख रुपये तक का जुर्माना और तीन साल तक की कारावास की सजा हो सकती है।

इसके अलावा, यदि किसी को इससे कोई हानि होती है, तो उसका मुआवजा भी देना पड़ सकता है।
इस मुद्दे पर गांव के लोगों ने भी अपनी आवाज उठाई है।

Advertisement

नवीन नौटियाल का कहना है कि हमारे बच्चे रोजाना इस खतरे के बीच में पढ़ाई करते हैं।

हमें डर लगता है कि कभी न कभी कुछ बुरा न हो जाए। हमने बिजली विभाग को भी इसके बारे में बताया है, लेकिन उन्होंने हमारी बात को नजरअंदाज कर दिया है।

Advertisement

हम चाहते हैं कि राज्य सरकार और मीडिया हमारी मदद करे और इसे जल्द से जल्द हल करे।
वहीं एडवोकेट सुमन नौटियाल का कहना है कि, उत्तरकाशी के हिटणू में स्थिति श्रीमती मंजीरा देवी शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान में बिजली विभाग की लापरवाही से बच्चों की जान को बचाने के लिए एक तत्काल कार्रवाई की जरूरत है।

इसे नजरअंदाज करना एक बड़ी लापरवाही होगी। बिजली विभाग की लापरवाही से बच्चों की जान को खतरा होना एक गंभीर अपराध है। यह एक ऐसा मामला है, जिसमें बच्चों के मौलिक अधिकारों का हनन हो रहा है।

Advertisement

बच्चों को शिक्षा के साथ-साथ सुरक्षित और स्वच्छ वातावरण का अधिकार है।
बाईट- भगवन नौटियाल, चेयरमैन मंजीरा देवी शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान हिटाणु।*
बाईट- सुमन नौटियाल, एडवोकेट।

 

Advertisement

Related posts

ब्रेकिंग:पुलिस जवान ने पेश की ईमानदारी एवं कर्तव्यपरायणता की एक और मिशाल, यात्रियों के खोये पर्स व नगदी लौटायी।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-मेडिकोलीगल मामलों में नेत्रदान के लिए पुलिस विभाग द्वारा सहयोग किए जाने पर एम्स ऋषिकेश की ओर से पुलिस कर्मियों को किया गया सम्मानित ।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-जाखणीधार ब्लॉक के इस ग्राम में इंटरलॉक्स टाईल्स निर्माण यूनिट का रिबन काटकर किया गया शुभारम्भ।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights