khabaruttrakhand
Uttar Pradesh

SP और RLD के बीच मुजफ्फरनगर सीट पर पेंच बन गई है, और इस सीट पर RLD द्वारा प्रत्याशी उत्तरदाता के रूप में लड़ेगी

SP और RLD के बीच मुजफ्फरनगर सीट पर पेंच बन गई है, और इस सीट पर RLD द्वारा प्रत्याशी उत्तरदाता के रूप में लड़ेगी

लोकसभा चुनाव के लिए SP-RLD गठबंधन को नई शक्ति मिली है, लेकिन दोनों पार्टियों के बीच मुजफ्फरनगर पर अंतिम सहमति नहीं हुई है। SP उम्मीदवार के बारे में RLD पर संकेत है। कैराना, बागपत और मथुरा का संभावित रूप से RLD के पास जा सकता है।

कैराना में प्रतीक RLD का होगा और उम्मीदवार SP का होगा। शुक्रवार को SP-RLD गठबंधन का चित्र स्पष्ट हो गया। सीटों के नामों पर अंतिम सहमति नहीं हुई है। प्रारंभिक सहमति में, RLD को सात सीटें दी गई थीं, लेकिन SP दो से तीन स्थानों पर अपने उम्मीदवारों को उत्तरदाता बनाना चाहती है।

Advertisement

इस परिस्थिति में, RLD के हिस्से में केवल चार या पाँच सीटें बचेंगी। RLD का प्रतीक मथुरा, बागपत और कैराना पर होगा। लेकिन मुजफ्फरनगर पर मामला जटिल है। वर्तमान में, RLD नेतृत्व ने SP उम्मीदवार को टाप प्रतीक पर अस्वीकार कर दिया है।

यह भी संभावना है कि SP मुजफ्फरनगर सीट पर अपने ही प्रतीक पर उम्मीदवार उत्तरदाता बना सकती है और बिजनौर सीट RLD के लिए जा सकती है। इस कारण अंतिम निर्णय नहीं लिया जा सका। बागपत और मथुरा में केवल RLD उम्मीदवार प्रतिस्पर्धा करेंगे।

Advertisement

SP के अध्यक्ष चंद्रशेखर का यह भी विचार किया जा रहा है कि वह आरक्षित सीट नगीना से प्रतिस्पर्धा करेंगे। इसी कारण SP और RLD ने अपनी बातचीतों में इस सीट को शामिल नहीं किया है।

ऐसे ही उम्मीदवारों को बदला जाएगा

RLD और SP ने प्रतीक पर सहमति होने के बाद विधानसभा चुनावों में भी उम्मीदवारों को बदला था। इसी कारण Mirapur से Chauhan और Purkaji से Anil Kumar ने RLD के टिकट पर जीत हासिल की थी। इस बार भी कुछ सीटों पर इसी सूत्र को अपनाने की तैयारी है।

Advertisement

पूर्व सांसद हरेंद्र मलिक भी शुक्रवार को अपने समर्थकों के साथ लखनऊ पहुंचे। गठबंधन को मुहरत लगाने से पहले, दोनों नेताओं ने पश्चिम की समीक्षा करने की कोशिश की। मलिक SP से टिकट के लिए एक प्रतिस्पर्धी हैं। लेकिन RLD में उनके नाम पर अबतक सहमति नहीं हुई है।

उनका नाम RLD में आगे है

RLD से टिकट चाहने वालों की लंबी सूची है। शामली विधायक प्रसन्न चौधरी, RLD विधायक दल के नेता राजपाल बल्यान, पूर्व मंत्री योगराज सिंह, पूर्व विधायक चंद्रवीर सिंह की बेटी मनीषा आहलावत जैसों के नाम भी काफी उल्लेख हो रहे हैं।

Advertisement

जयंत सिंह या चारु चौधरी

RLD के रणनीतिकारी Muzaffarnagar को Baghpat की तुलना में एक बेहतर विकल्प मान रहे हैं। लेकिन अबतक यह स्पष्ट नहीं है कि जयंत सिंह चुनावों में प्रतिस्पर्धा करेंगे या नहीं। उनकी पत्नी चारु चौधरी को भी उम्मीदवार बनाने की चर्चा हो रही है। लेकिन चुनाव के क़रीब आने पर ही उम्मीदवार की समीक्षा स्पष्ट होगी। गठबंधन पार्टियों के नेताओं के चुनाव में प्रतिस्पर्धा करें, तो जयंत सिंह प्रतिस्पर्धा कर सकते हैं।

यहां 19 में, कहीं और 24 में

2019 चुनावों में, RLD ने Muzaffarnagar, Baghpat और Mathura से प्रतिस्पर्धा की थी। तीनों स्थानों पर हारना पड़ा था। इस बार अब तक Baghpat, Kairana और Mathura सीटों पर सहमति हो गई है। लेकिन अब भी अन्य चार सीटों के लिए टकरार जारी है।

Advertisement

Related posts

UP Politics: Sonia Gandhi Rajasthan से राज्यसभा की ओर गई, RLD ने कहा – गांधी परिवार डर गया है, अब क्या बचा है?

cradmin

Ram Mandir Inauguration: प्राण प्रतिष्ठा का पूरा शेड्यूल जारी, 16 से 22 जनवरी तक होंगे कार्यक्रम, यहां पढ़ें हर एक की डिटेल

cradmin

ED ने UP में Ayush प्रवेश घोटाले में मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया, जांच के बाद 16 आरोपी गिरफ्तार।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights