khabaruttrakhand
उत्तराखंड

ED raid: Harak Singh Rawat ने कहा- ‘मैंने कोई चोरी या डकैती नहीं की, इसलिए ED ने मेरे घर पर ऐसे छापा मारा’

ED raid: Harak Singh Rawat ने कहा- 'मैंने कोई चोरी या डकैती नहीं की, इसलिए ED ने मेरे घर पर ऐसे छापा मारा'

मैंने कोई चोरी, डकैती नहीं डाली जो प्रवर्तन निदेशालय ने इस तरह मेरे घर पर छापा मारा। मैं घर पर सो रहा था, अचानक ED के लोग आ गए, मेरा मोबाइल ले लिया और पूरे घर की तलाशी ली। उन्हें कुछ फाइलों और साढ़े तीन लाख रुपये के अलावा कुछ नहीं मिला। दो जनरेटरों के लिए यह सब कार्रवाई हुई है। इसके लिए एक नोटिस दे दिया गया होता तो इसे वह खुद लौटा देते।

पूर्व वन मंत्री Dr. Harak Singh Rawat ने कहा, कोविडकाल के दौरान कालागढ़ डिविजन से दो जनरेटर मिले थे। छिद्दरवाला में कार्यालय बनाया था, इसलिए जनरेटर वहां रख दिया। मंत्री पद से हटने के बाद मेरे निजी सचिव ने DFO को लिखा था कि सरकारी संपत्ति वापस ले ली जाए। विभाग की जिम्मेदारी थी कि वापस ले जाते, इसके लिए छापा मारने की जरूरत कहां थी।

Advertisement

पाखरों टाइगर सफारी और ढेला रेस्क्यू सेंटर प्रधानमंत्री का प्रोजेक्ट था। 106 हेक्टेयर में पाखरों टाइगर सफारी के लिए केंद्र सरकार की अनुमति के बाद इसमें काम शुरू हुआ। इसमें 16 हेक्टेयर नॉन फॉरेस्ट के लिए मंजूर हुआ। इस पूरे प्रकरण में मेरी यदि कोई भूमिका है तो वह यह है कि मैंने प्रोजेक्ट की शीघ्र मंजूरी के लिए केंद्र सरकार से अनुरोध किया था।

कॉलेज और बहू के NGO के दस्तावेज ले गई ED

कहा, ED उनके घर से मेडिकल काॅलेज और उनकी बहू के NGO के दस्तावेज ले गई। ED को मेरे घर से साढ़े तीन लाख रुपये मिले, जिसे यह कहते हुए ईडी ने लौटा दिया कि इतनी धनराशि रखी जा सकती है। उसे कोई ज्वैलरी नहीं मिली।

Advertisement

वर्ष 2003 में खरीदी थी कॉलेज की जमीन

पूर्व वन मंत्री ने कहा, उन्होंने कॉलेज की जमीन 2003 में खरीदी थी। वर्ष 2011 में जब निशंक मुख्यमंत्री थे इसकी जांच हुई। इसके बाद 2016 में भी इसकी जांच की गई। इसके खिलाफ जो चार्जशीट दाखिल हुई थी उसे High Court ने खारिज कर दिया था।

Advertisement

Related posts

ब्रेकिंग:- एम्स ऋषिकेश में आयोजित नेत्रदान पखवाड़े के तहत नुक्कड़ नाटक का किया आयोजन।

khabaruttrakhand

आरोप:-जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए दर – दर की ठोकरें खाने को मजबूर हैं इस विकासखंडवासी

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-यहां पहुंचे सूबे के मुख्यमंत्री, टनल में फंसे प्रत्येक श्रमिकों को ₹ 1 लाख की प्रोत्साहन राशि की भेंट।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights