khabaruttrakhand
आकस्मिक समाचारउत्तराखंडटिहरी गढ़वालदिन की कहानीप्रभावशाली व्यतिराजनीतिकविशेष कवरस्टोरी

अप्राकृतिक रूप से वनाग्नि की घटनाओं को अंजाम देने वालों के खिलाफ मुकदमें दर्ज करने के निर्देश।

शुक्रवार को फायर सीजन को लेकर जिलाधिकारी मयूर दीक्षित की अध्यक्षता में जिला स्तरीय वनाग्नि सुरक्षा समिति की बैठक आहूत की गई।

जिलाधिकारी ने सभी सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों से वनाग्नि सुरक्षा को लेकर चर्चा करते हुए विभागों द्वारा की गई तैयारियों की जानकारी ली।

Advertisement

जिला सभागार टिहरी गढ़वाल में आयोजित बैठक में जिलाधिकारी ने सभी संबंधित विभागो को आपसी समन्वय से कार्य करने को कहा ताकि वनाग्नि की घटनाओं को न्यून किया जा सके।

Advertisement

पुलिस विभाग को वनाग्नि की घटनाओं को लेकर नोडल अधिकारी नामित कर वन विभाग से समन्वय कर अप्राकृतिक रूप से वनाग्नि की घटनाओं को अंजाम देने वालों के खिलाफ मुकदमें दर्ज करने को कहा गया।

लेपर्ड द्वारा कोई जनहानि/पशुहानि न हो, इस हेतु जिलाधिकारी ने संवेदनशील क्षेत्रों में लोगों को अलर्ट करने, गश्त करने, कैमरा ट्रेप करने, सड़कों पर झाड़ी कटान करवाने को कहा गया।

Advertisement

इसके साथ ही वन विभाग द्वारा स्थापित मास्टर कन्ट्रोल को जिला आपदा कन्ट्रोल रूम से जोड़ते हुए आवश्यक कार्यवाही करने, वनाग्नि से पूर्व एवं मध्य में क्रु स्टेशनवार माॅक ड्रिल करवाने तथा फायर वाचकों को अवगत कराने को कहा गया। फायर सीजन के चलते चिकित्सा विभाग को नोडल अधिकारी नामित कर आवश्यक कार्यवाही करने को कहा गया।

जिलाधिकारी ने कहा कि वनाग्नि से कोई भी जनहानि एवं पशुहानि न हो तथा कोशिस करें कि गत वर्ष में घटित वनाग्नि की घटनाओं के सापेक्ष वनाग्नि घटनायें जीरो प्रतिशत हो।

Advertisement

डीएफओ टिहरी पुनीत तोमर ने वनाग्नि सुरक्षा को लेकर की गई तैयारियों के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि ग्राम स्तर पर 250 से अधिक कमेटीयां गठित की गई हैं तथा वनाग्नि प्रबन्धन को लेकर अग्रिम उपाय की कार्यवाही कर ली गई है।

इसके अलावा वनाग्नि और लेपर्ड की घटनाओं को रोकने के लिए गोष्ठियां भी आयोजित की जा रही है।

Advertisement

उन्होंने जिला स्तरीय फायर प्लान हेतु वर्ष 2023-24 एवं 2024-25 का 2128.40 लाख का प्रस्ताव अनुमोदन हेतु प्रस्तुत किया गया। उन्होने बताया कि वनाग्नि काल 15 फरवरी से 15 जून तक रहता है तथा बारिश न होने पर आगे तक भी चला जाता है।

बताया कि फरवरी, 2024 के अंत तक वनाग्नि नियत्रंण हेतु नियंत्रित दाहन कार्यवाही की जायेगी। जनपद में वनाग्नि की दृष्टि से अतिसंवेदनशील क्षेत्रों की देख-रेख हेतु 180 क्रु स्टेशनों की स्थापना की गई, स्टाफ नियुक्त है।

Advertisement

बैठक में एडीएम के.के. मिश्रा, एसीएमओ दीपा रूबाली, एसडीएम टिहरी संदीप कुमार, अधिशासी अभियन्ता लो.नि.वि. योगेश, डीओ पीआरडी पंकज तिवारी, रेंजर ऑफिसर वन प्रभाग आशीष डिमरी, डीडीएमओ बृजेश भट्ट सहित अन्य संबंधित अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित रहे।

 

Advertisement

Related posts

ब्रेकिंग:-केन्द्रीय विद्यालय प्रबन्धन समिति नई टिहरी की सत्र 2023-24 की प्रथम बैठक शुक्रवार जिलाधिकारी की अध्यक्षता में आयोजित।जिलाधिकारी ने बच्चों को सफलता के लिए दिए महत्वपूर्ण टिप्स।

khabaruttrakhand

Uttarakhand: इस बार राष्ट्रीय स्तर पर श्रेष्ठ ग्रामीण होम स्टे को भी मिलेगा पुरस्कार, 31 जनवरी तक आवेदन तिथि

cradmin

Uttarakhand High Court ने खारिज की Nainital के पालिकाध्यक्ष की रिव्यू याचिका, यह है मामला

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights