khabaruttrakhand
अपराधउत्तरकाशी

ब्रेकिंग:- प्रतिबंधित काजल-काठ की लकड़ी की तस्करी करते हुये दो व्यक्तियों को पुलिस ने धर दबोचा, करीब 32 लाख की प्रतिबन्धित लकड़ी बरामद।

सुभाष बडोनी / उतरकाशी

प्रतिबंधित काजल-काठ की लकड़ी की तस्करी करते हुये दो व्यक्तियों को उत्तरकाशी पुलिस ने धर दबोचा*
*करीब 32 लाख की प्रतिबन्धित लकड़ी बरामद:*

Advertisement

हिमालयी क्षेत्रों के दुर्लभ वन संपदा काजल की लकड़ी को फिल्म पुष्पा के अंदाज में पुष्पा बनकर अवैध रुप से तस्करी करते हुये दो व्यक्तियों को आज प्रातः उत्तरकाशी पुलिस द्वारा पकडा गया है। श्री पी0के0 राय, पुलिस अधीक्षक उत्तरकाशी द्वारा जनपद में नशे पर पूर्ण प्रतिबन्ध लगाने के साथ-साथ अन्य अवैध गतिविधियों की रोकथाम हेतु सभी क्षेत्राधिकारी/थाना प्रभारी/चौकी प्रभारियों को सतर्क रहकर रुटीन चैकिंग के निर्देश दिये गये हैं।

जिसके क्रम में आज प्रातः 5-6 बजे के बीच एक सटीक सूचना पर डुण्डा पुलिस द्वारा वन विभाग बैरियर देवीधार से वाहन संख्या UK 07DD-2230(TATA TIGOR) से दो तस्करों शरत सिंह व पेमा को प्रतिबन्धित काजल-काठ की लकड़ी की तस्करी करते हुये पकड़ा गया। वाहन उपरोक्त से 318 नग लकड़ी बरामद किये गये।
ये लोग भटवाड़ी के सिल्ला क्षेत्र से इस प्रतिबन्धित लकड़ी को उत्तर-प्रदेश, सहारनपुर ले जा रहे थे, लेकिन पुलिस की सतर्कता ने इनको नाकाम कर दिया।

Advertisement

गंगोरी बैरियर पर तैनात पुलिस जवानों द्वारा वाहन को रोकने की कोशिश की गई थी लेकिन ये लोग बैरियर को टक्कर मारकर वहां से भाग निकले, जिस पर वन विभाग बैरियर देवीधार पर जाल बिछाकर चौकी प्रभारी डुण्डा उ0नि0 संजय शर्मा के नेतृत्व में पुलिस बल द्वारा इनको दबोच लिया गया।

अग्रिम विधिक कार्रवाई हेतु इनको प्रतिबन्धित लकड़ी के साथ वन विभाग के सुपुर्द किया गया।

Advertisement

वहीं पुलिस अधीक्षक उत्तरकाशी द्वारा बताया गया कि काजल की लकड़ी उच्च हिमालय के आरक्षित वन क्षेत्र में पाई जाती है। काजल औषधीय दृष्टिकोण से सर्वोत्तम मानी जाती है।

इसे बौद्घ सम्प्रदाय के लोग इसके बर्तन (बाउल) बनाकर खाद्य एवं पेय पदार्थों के लिए इस्तेमाल करते हैं। भारत, चीन, तिब्बत, नेपाल आदि देशों में इस लकड़ी की तस्करी कर उच्च कीमतों पर बेचा जाता है।

Advertisement

माल पकड़ने वाली पुलिस टीम की सराहना करते हुए उनके द्वारा टीम को 1100रु0/ का पारितोषिक प्रदान किया गया।

बरामद माल-

318 नग प्रतिबन्धित काजल की लकड़ी ( कीमत करीब-32 लाख रु0)

तस्करों का नाम पता-
1-शरत सिंह पुत्र श्री वीर सिंह निवासी ग्राम कनेड़ा,पो0ऑ0 डोंण्ड थाना थलीसैंण पौड़ी गढवाल, उम्र-40 वर्ष।
2- पेमा पुत्र श्री छंगु निवासी ग्राम उमला नेपाल उम्र-25 वर्ष

Advertisement

Related posts

यमुनोत्री हाईवे पर डामटा से नौगांव के पास ट्रक गहरी खाई में गिरा। ट्रक में सवार थे एक दर्जन लोग।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-अवैध नशा कारोबारी की धरपक्कड लगातार जारी, पुलिस व SOG की संयुक्त टीम द्वारा 24.61 ग्राम स्मैक के साथ 01 मुख्य स्मैक सप्लायर को किया गया गिरफ्तार।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-एम्स ऋषिकेश में शुरू होगा इंटिग्रेटेड मेडिसिन विभाग 13 जुलाई को केन्द्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री करेंगी उद्घाटन।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights