khabaruttrakhand
अल्मोड़ाआकस्मिक समाचारउत्तराखंडदिन की कहानीनैनीतालपिथोरागढ़राजनीतिकराष्ट्रीयविशेष कवरस्टोरी

ब्रेकिंग:-लोक प्रबंध विकास संस्था ने ग्राम स्तरीय वनाधिकार समिति पर किया एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

लोक प्रबंध विकास संस्था ने ग्राम स्तरीय वनाधिकार समिति पर किया एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

*एक दिवसीय कार्यशाला*

Advertisement

*वनाधिकार कानून के विभिन्न प्रावधानों पर चर्चा*

सोमेश्वर – अल्मोड़ा जिले के सोमेश्वर विधानसभा में इनाकोट में लोक प्रबंध विकास संस्था द्वारा ग्राम स्तरीय वनाधिकार समिति के सदस्यों की एक दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गई।

Advertisement

इस कार्यशाला में वनाधिकार कानून के विभिन्न प्रावधानों पर चर्चा की गई ।

इस अवसर पर संदर्भ व्यक्ति ईश्वर जोशी ने कहा कि अनुसूचित जनजाति एवं अन्य परंपरागत वन निवासी वन अधिकारों की मान्यता अधिनियम जिसे संक्षेप में वनाधिकार कानून कहा जाता है ।

Advertisement

संसद द्वारा 2006 में पारित कर दिया गया था वहीं उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्र में जहां 85% वन भूमि है वहां के बाशिंदों के लिए यह कानून काफी महत्वपूर्ण है ।

इस कानून की महत्ता का अंदाज इस बात से लगाया जा सकता है कि इसके प्रावधानों में कहा गया है कि औपनिवेशिक काल एवं स्वतंत्र भारत में राज्य वनों को समेकित करते समय वनवासियों के पैतृक भूमि पर वन अधिकारों तथा उनके निवास को मान्यता न देने से उनके साथ ऐतिहासिक अन्याय हुआ है ।

Advertisement

उनके अधिकारों की बहाली के लिए यह कानून लाया गया है ।

यह कानून व्यक्तिगत एवं सामूहिक वनाधिकार की बात करता है ।स्कूल, अस्पताल, आंगनबाड़ी, सामुदायिक भवन, पेयजल , सिंचाई सहित 13 कार्य हेतु एक हेक्टेयर देने तथा इसके लिए 75 पेड़ काटने का अधिकार दिया है ।

Advertisement

इस अधिनियम के लागू होने के 17 वर्ष बाद भी उत्तराखंड में इसे प्रभावी तरीके से लागू नहीं किया जा सका है।

कार्यशाला में मौजूद सदस्यों ने बताया कि इस कानून की जानकारी तो दूर यह भी मालूम नहीं है कि वह समिति के सदस्य हैं।

Advertisement

यहां उल्लेखनीय है कि उच्च न्यायालय के आदेश के बाद 2012 में समस्त ग्राम पंचायतों में वनाधिकार कमेटियों का गठन कर दिया गया है, लेकिन सदस्यों को वन अधिकार कानून की कोई जानकारी नहीं दी गई जानकारी के अभाव में ग्रामीणों द्वारा समिति के सम्मुख दावे प्रस्तुत नहीं किए गए अभ्यारण से प्रभावित 17 गांव द्वारा सामूहिक दावे डाले गए थे ।

जो खंड स्तरीय समिति में लंबित हैं ।

Advertisement

इन दावों पर आज तक निर्णय नहीं लिया गया है।

बैठक में वनाधिकार कानून को प्रभावी तरीके से लागू करने के साथ ही लंबित वादों के निस्तारण की मांग की गई।

Advertisement

कार्यशाला में पूरन सिंह, जोगा सिंह, लाल सिंह, जगदीश चंद्र तिवारी ,बालम , दीप्ति भोजक,कमला देवी सहित अन्य संस्था के सदस्यों ने प्रतिभाग किया।

Advertisement

Related posts

ब्रेकिंग:-जगदीश हत्याकांड में भीम आर्मी ब्लाक संयोजक के नेतृत्व में तहसीलदार सल्ट को सौंपा ज्ञापन।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:- गनखौल घाटी में दो पट्टियों के ग्रामीणों की हुई महापंचायत, लोकसभा चुनाव का करेंगे बहिष्कार।

khabaruttrakhand

Uttarakhand: अब 500 वन पंचायतों समेत 10 हजार हेक्टेयर भूमि में उगाई जाएगी जड़ी-बूटी, रोजगार भी मिलेगा

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights