khabaruttrakhand
आकस्मिक समाचारउत्तरकाशीउत्तराखंडचमोलीचम्पावतटिहरी गढ़वालदिन की कहानीदुनियाभर की खबरेदेहरादूननैनीतालपिथोरागढ़पौड़ी गढ़वालीप्रभावशाली व्यतियू एस नगरराजनीतिकराष्ट्रीयविशेष कवरस्टोरी

ब्रेकिंग:-उत्तराखंड में एक नई पार्टी का आगाज, जाने इस खबर में।

उत्तराखंड में रविवार के दिन एक और आगाज हो गया।
देहरादून में एक और क्षेत्रीय दल का प्रदार्पण हो गया है।
वही इस इस नए दल का नाम है ‘राष्ट्रवादी रीजनल पार्टी’।

Advertisement

इस नए दल की कमान शिव प्रसाद सेमवाल के हाथों में है, वही वह पिछले लम्बे समय से उत्तराखंड क्रांति दल का भी हिस्सा रहे है।

यही नही वह यूकेडी के केंद्रीय प्रवक्ता भी रहे हैं।

Advertisement

वही इस नई पार्टी गठन के समय कई यूकेडी के नेताओ के शामिल होने की बात कही जा रही हैं।
वही नई पार्टी राष्ट्रवादी रीजनल पार्टी के उद्घघाटन के समय अध्यक्ष शिव प्रसाद सेमवाल ने यह भी घोंषणा करते हुए बताया कि उनकी पार्टी आगामी नगर निकाय चुनाव भी लड़ेगी।

यही नही पार्टी विश्वविद्यालय में छात्र संघ चुनाव में भी मुख्य भूमिका निभाए‌गी, इसके साथ ही पार्टी अगले साल लोकसभा चुनाव में भी प्रदेश की सभी पांचों सीटों पर अपने प्रत्याशी मैदान में उतारेगी।

Advertisement

राष्ट्रवादी रीजनल पार्टी का क्या एजेंडा है यह अभी साफ नही हो पाया है।

शिव प्रसाद सेमवाल ने मीडिया को जानकारी देते हुए कहा कि जल्द ही उनकी पार्टी उत्तराखंड के सभी 13 जिलों में जिला अध्यक्ष और महानगर अध्यक्ष के साथ नई टीम का भी गठन करेगी।

Advertisement

वही जहां उत्तराखंड में कोई भी स्थानीय पार्टी अभी तक सत्ता के करीब नहीं पहुंच सकी है, ऐसे में कैसे इस पार्टी की नौका पार लगाएंगे इसकी कमांडर।
क्योंकि यही उनके लिए सबसे बड़ी चुनौती होगी।

बात करें पिछले चुनावों की तो पूर्व के चुनावों में उत्तराखंड राज्य में क्षेत्रीय दलों की स्थिति निराशाजनक रही है।

Advertisement

आम आदमी पार्टी भी पिछले विधानसभा चुनाव में सभी सीटों पर अपने उम्मीदवारों के साथ चुनाव लड़ी थी पर उसके हाथ भी निराशा ही लगी थी।

जहां आम आदमी पार्टी के सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल ने उत्तराखंड में कई जनसंबोधन एवं बड़े-बड़े वादे भी लेकिन इसके बाद भी उनके जनता का साथ नही मिला पाया था।

Advertisement

 

उत्तराखंड में अभी तक कि राजनीति पर गौर फरमाएं तो केवल राष्ट्रीय पार्टियों कॉंग्रेस और भाजपा ने यहां पर सत्ता का सुख भोगा है।

Advertisement

ऐसे में क्षेत्रीय मुद्दों की बात करने वाली इस क्षेत्रीय दलों के सियासत करने तक के दरवाजे अभी तक खुल नही पाए है, जो अब किसी भी क्षेत्रीय दल की एक बड़ी चुनौती बन गयी है।

जिस पार्टी का उत्तराखंड के आंदोलन के अहम भूमिका रही और लोगों को इस पार्टी से उम्मीद भी थी लेकिन वह भी सत्ता की के गलियारों तक अपनी पैठ नही बना सकी।

Advertisement

अब शिव प्रसाद सेमवाल के अगुवाई में गठित नई क्षेत्रीय दल कुछ करिश्मा कर पायेगा यह आने वाला चुनावी रिजल्ट ही बता पायेगा।
इस नई पार्टी का नाम है राष्ट्रीय रीजनल पार्टी।

Advertisement

Related posts

ब्रेकिंग:-अंतर्राष्ट्रीय योग एवं सामाजिक क्षेत्र में कार्य करने वालों को प्रतिभा सम्मान।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंगः-एम्स में बीएससी नर्सिंग बैच का दीप प्रज्ज्वलन समारोह का आयोजन

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री, भारत सरकार श्री अमित शाह पहुंचे उत्तराखंड में यहां, मध्य क्षेत्रीय परिषद की 24वीं बैठक में किया जा रहा है प्रतिभाग।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights