khabaruttrakhand
राष्ट्रीय

मणिपुर से आई अच्छी खबर, विद्रोही समूह यूएनएलएफ ने हिंसा का रास्ता छोड़ा और शांति शांति समझौता

जनजातियों हिंसा की वजह से लंबे समय में चर्चा में बने मणिपुर से अब सुखद समाचार मिला है. प्रदेश के सबसे पुराने विद्रोही यूनाइटेड नेशनल लिबरेशन फ्रंट (UNLF) ने बुधवार को स्थायी शांति समझौते पर साइन कर दिए हैं.

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म X पर पोस्ट करके इसकी जानकारी दी. गृह मंत्री ने X पर लिखा कि एक ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल हुई है. पूर्वोत्तर में स्थायी शांति स्थापित करने के मोदी सरकार के अथक प्रयासों में एक नया अध्याय जुड़ गया है. यूनाइटेड नेशनल लिबरेशन फ्रंट (UNLF) ने आज नई दिल्ली में एक शांति समझौते पर साइन किए हैं.

Advertisement

शाह ने आगे लिखा कि मणिपुर के घाटी स्थित सबसे पुराने आर्म्ड ग्रुप UNLF हिंसा छोड़कर मुख्यधारा में शामिल होने पर सहमत हो गया है. मैं लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं में उनका स्वागत करता हूं. शांति और प्रगति के रास्ते पर उनकी यात्रा के लिए मैं शुभकामनाएं देता हूं.

3 मई से भड़की थी हिंसा
अनुसूचित जनजाति का दर्जा देने की मैतेई समुदाय की मांग के विरोध में पहाड़ी जिलों में 3 मई को आयोजित ‘आदिवासी एकजुटता मार्च’ के बाद भड़की हिंसा के बाद से 180 से अधिक लोग मारे गए हैं. मणिपुर की आबादी में मैतेई लोगों की संख्या लगभग 53 प्रतिशत है. वे ज्यादातर इम्फाल घाटी में रहते हैं, जबकि आदिवासी (नागा और कुकी) की आबादी 40 प्रतिशत हैं. ये मुख्य रूप से पहाड़ी जिलों में रहते हैं.

Advertisement

Related posts

जिलाधिकारी ने रात्रि नगर के विभिन्न क्षेत्रों का भ्रमण कर सर्दी से बचाव के लिए अलाव की व्यवस्था का जायजा लेने के साथ ही जरूरतमंदों को कम्बल वितरित किये।

khabaruttrakhand

मधुमेह रोग :-कपालभाति, अनुलोम-विलोम, मंडूकासन, पवनमुक्त आसन, पर्वतासन, वज्रासन, बालासन, भुजंगासन जैसे कुछ योग आसन मधुमेह रोगियों के लिए बहुत उपयोगी हैं।

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-अपर मुख्य सचिव ने गढ़वाल मण्डल के जनपदों में चिकित्सा, पेयजल, शिक्षा, सड़कों व अन्य मूलभूत जन सुविधाओं को बेहतर बनाने के सम्बन्ध में जिलाधिकारियों को दिए महत्वपूर्ण निर्देश ।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights