khabaruttrakhand
उत्तरकाशीउत्तराखंड

Uttarakhand Tunnel Collapse: जिंदगी की जंग जीत घर पहुंचे Gabbar Singh, अपनों के छलके आंसू; हुआ भव्य स्वागत

Uttarakhand Tunnel Collapse: जिंदगी की जंग जीत घर पहुंचे Gabbar Singh, अपनों के छलके आंसू; हुआ भव्य स्वागत

Kotdwar : यह Gabbar Singh Negi ही थे जिन्होंने Uttarkashi के सिल्कयारा में सुरंग में 17 दिनों तक कैद श्रमिकों को साहस दिया। खुद सुरंग में फंसने के बावजूद, गबर सिंह अपने साथियों को प्रोत्साहित करते रहे और उन्हें आश्वासन देते रहे कि हर कोई जल्द ही मुक्त हो जाएगा। इसके लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक सभी ने गबर सिंह की प्रशंसा की।

शुक्रवार को जब वह Kotdwar में अपने घर पहुंचे तो वहां भी उनका नायक की तरह स्वागत किया गया। माँ बिचुली देवी की आँखें अपने बेटे को देखकर आँसू से भर जाती हैं। माँ ने अपने बच्चे के माथे को चूमा और उसे गले लगा लिया। इससे पहले भाजपा सहित विभिन्न संगठनों ने भी गबर सिंह का भव्य स्वागत किया।

Advertisement

Gabbar Kotdwar का रहने वाला है।

पौड़ी जिले के Kotdwar नगर निगम क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले विशनपुर के निवासी गबर सिंह पिछले 25 वर्षों से सुरंग निर्माण कंपनियों से जुड़े हुए हैं।Gabar Singh, जो कुछ साल पहले इसी तरह से निर्माण के दौरान सुरंग में फंस गया था, वर्तमान में सिल्कयारा सुरंग की निर्माण कंपनी नवयुग में एक फोरमैन है।

जब परिवार ने पहली बार आवाज सुनी

12 November को जब निर्माणाधीन सिल्कयारा सुरंग में भूस्खलन हुआ तो Gabar Singh सहित 41 मजदूर अंदर फंस गए थे। घटना की जानकारी मिलने के बाद गबर सिंह का बेटा आकाश नेगी, बड़ा भाई जयमल सिंह और तीरथ सिंह नेगी और परिवार के अन्य सदस्य Uttarkashi पहुंचे। इस दौरान आकाश ने पिता गबर सिंह से पाइप के जरिए बात की। तब Gabar Singh ने आकाश से कहा कि वह अपने सभी साथी श्रमिकों की सुरक्षा के लिए भी जिम्मेदार है। इसलिए, वह अपने श्रमिक सहयोगियों का मनोबल बढ़ा रहे हैं।

Advertisement

फूल माला पहनकर किया स्वागत

AIIMS Rishikesh में गहन स्वास्थ्य जांच के बाद शुक्रवार को जैसे ही Gabar Singh कौडिया चेक पोस्ट पहुंचे, BJP कार्यकर्ताओं ने उन पर फूलों की मालाएं बरसाईं। उन्होंने उनके स्वागत के लिए नारे भी लगाए और आतिशबाजी की। इसके बाद Gabar Singh को विशनपुर स्थित उनके आवास पर ले जाया गया। उनके रिश्तेदारों के साथ, बड़ी संख्या में क्षेत्र के निवासी भी उनके स्वागत के लिए वहां मौजूद थे। रिश्तेदारों ने Gabar Singh की आरती की और उन्हें माला पहनाई।

इस तरह बिताए 17 दिन

इस दौरान Gabar Singh ने सुरंग में बिताए 17 दिनों के अपने अनुभव को साझा करते हुए कहा कि स्थिति चाहे कितनी भी कठिन क्यों न हो, किसी को भी हार नहीं माननी चाहिए। उन्होंने बताया कि श्रमिकों ने पहले दो दिन सुरंग में मूंगफली और केले के छिलकों को खाते हुए बिताए। उन्होंने यह भी कहा कि भगवान ने सभी को साहस दिया और सरकारी तंत्र ने उन्हें सुरक्षित बचाने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

Advertisement

इन अधिकारियों ने किया स्वागत

इससे पूर्व Mayor Hemlata Negi, पूर्व मंत्री Surendra Singh Negi, क्षेत्र पंचायत सदस्य Sunita Kotnala, विशनपुर की Narayani Kirtan, Ratanpur की Lakshmi Narayan Kirtan Mandali और श्री Gururam राय पब्लिक स्कूल Lalpani के छात्रों ने भी Gabar Singh का स्वागत किया।

Advertisement

Related posts

मुख्य विकास अधिकारी टिहरी गढ़वाल ने विकास खण्ड चम्बा के अन्तर्गत स्थित इन ग्राम पंचायतों का किया भ्रमण,चौपाल लगाकर सुनी ग्रामीणों की समस्याएं।

khabaruttrakhand

Uniform Civil Code : UCC को मंजूरी के बाद Uttarakhand में बढ़ी विवाह पंजीकरण की रफ्तार, आंकड़ों में 30% उछाल

cradmin

Uttarakhand: 1201 करोड़ बकाया, लाइन हानियों की वजह से UPCL को लगा झटका, राष्ट्रीय स्तर पर रेटिंग में पिछड़ा

cradmin

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights