khabaruttrakhand
आकस्मिक समाचारआध्यात्मिकउत्तरकाशीउत्तराखंडस्टोरी

ब्रेकिंग:- जिलाधिकारी उत्तरकाशी हुए इस यात्रा मार्ग पर सख्त, दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के तहत एक आदेश हुआ जारी, जाने क्या कुछ बदला अब।

जिलाधिकारी उत्तरकाशी हुए इस यात्रा मार्ग पर सख्त, दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के तहत एक आदेश हुआ जारी, जाने क्या कुछ बदला अब।

रिपोर्ट:– सुभाष बडोनी / उत्तरकाशी

Advertisement

यमुनोत्री धाम में पैदल यात्रा मार्ग पर यात्रियों के आवागमन को सुगम, सुरक्षित एवं शान्तिपूर्वक ढंग से सम्पादित कराये जाने हेतु जिला मजिस्ट्रेट डॉ. मेहरबान सिंह बिष्ट ने दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के तहत एक आदेश जारी करते हुए जानकीचट्टी से यमुनोत्री तक घोड़े-खच्चर एवं डण्डी के आवागमन के लिए अधिकतम संख्या एवं समयावधि निर्धारित की है।

इस संबंध में उप जिलाधिकारी, बड़कोट, पुलिस उपाधीक्षक, बड़कोट एवं अपर मुख्य अधिकारी, जिला पंचायत, उत्तरकाशी की संयुक्त रिपोर्ट के आधार पर यमुनोत्री धाम पैदल यात्रा मार्ग संकरा होने के कारण भीड़ नियन्त्रण, जानमाल के खतरे एवं यात्रियों की सुरक्षा के दृष्टिगत जिला मजिस्ट्रेट, उत्तरकाशी डॉ. मेहरबान सिंह बिष्ट ने श्री यमुनोत्री धाम पैदल यात्रा मार्ग पर सुगम एवं सुविधाजनक आवागमन को सम्पादित किये जाने हेतु पारित आदेश के अनुसार जानकीचट्टी से यमुनोत्री एवं यमुनोत्री से जानकीचट्टी आने-जाने वाले घोड़े खच्चरों की संख्या अधिकतम 800 निर्धारित की गई है।

Advertisement

इस मार्ग पर घोड़े-खच्चरों के आवागमन का समय प्रातः 4 बजे से साँय 5 बजे तक निर्धारित किया गया है।

आदेशानुसार घोड़े-खच्चरों की संख्या 800 पूर्ण होने के पश्चात घोड़े-खच्चर उसी अनुपात में जानकीचट्टी से भेजे जायेगें, जिस अनुपात में यमुनोत्री से वापस आयेगे।

Advertisement

प्रत्येक घोड़े-खच्चर के प्रस्थान, यात्री के दर्शन तथा वापसी हेतु कुल 05 घंटे का समय निर्धारित किया करते हुए आदेश में कहा गया है कि 05 घंटे से अधिक कोई भी घोडा-खच्चर किसी भी दशा में यात्रा मार्ग पर नहीं रहेगा।

यदि घोड़े-खच्चर कम संख्या में है, तो उनको क्रमानुसार रोटेशन के आधार पर जाने दिया जायेगा।

Advertisement

यात्री द्वारा यमुनोत्री धाम पहुंचने पर दर्शन आदि के लिए 60 मिनट का समय निर्धारित कर इस संबंध में मंदिर समिति से स्वयंसेवक तैनात करते हुए उक्त व्यवस्था का अनुपालन करवाये जाने की अपेक्षा की गई है।

आदेश में व्यवस्था दी गई है कि अपरिहार्य स्थिति को छोड़ते हुये घोड़ा-खच्चर संचालक 60 मिनट का इंतजार करने के पश्चात घोड़ा पड़ाव में तैनात जिला पंचायत के कर्मी से अनुमति प्राप्त कर यात्री के बिना वापस लौट आयेगा।

Advertisement

प्रीपेड काउंटर पर ही पर्चियां काटी जायेगी व वहीं पर भुगतान की व्यवस्था की जाय तथा यात्रीगणों को लाउडस्पीकर के माध्यम से अवगत कराया जायेगा।

घोड़े खच्चर का संचालन प्रीपेड काउंटर से ही किया जायेगा।

Advertisement

जिला मजिस्ट्रेट के उक्त आदेश में जानकीचट्टी से यमुनोत्री आने-जाने वाली डण्डी की संख्या अधिकतम 300 निर्धारित की गई है।

डण्डी के आवागमन का समय प्रातः 4 बजे से साँय 4 बजे तक निर्धारित किया जाता है।

Advertisement

डण्डी के लिये आवागमन का समय 06 घंटा निर्धारित किया जाता है तथा इन्हें 50 के लॉट में छोडा जायेगा।

एक लॉट के छोड़े जाने के पश्चात दूसरा लॉट 01 घण्टे के अंतराल में रोटेशन अनुसार छोड़ा जायेगा।

Advertisement

डण्डी का संचालन बिरला धर्मशाला से किया जायेगा अन्यत्र किसी भी स्थान से संचालन की अनुमति नहीं दी जायेगी।

आदेशानुसार अपरिहार्य स्थिति को छोड़ते हुये डण्डी संचालक 60 मिनट का इंतजार करने के पश्चात घोड़ा पड़ाव में तैनात जिला पंचायत के कर्मी से अनुमति प्राप्त कर यात्री के बिना वापस लौट आयेगा।
उक्त आदेश के अनुसार श्री यमुनोत्री धाम में घोड़ा पड़ाव से आगे किसी भी दशा में घोड़ा-खच्चर एवं डण्डी के जाने पर पूरी तरह से रोक लगाई गई है।

Advertisement

यदि किसी व्यक्ति द्वारा इस आदेश का उल्लंघन किया जाता है, तो उसका यह कृत्य भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अन्तर्गत दण्डनीय होगा।

जिला मजिस्ट्रेट ने संबंधित विभाग एवं अधिकारियों को उक्त आदेश के अनुपालन के संबंध में तत्काल कार्यवाही सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए है।

Advertisement

Related posts

Uttarakhand: चुनाव से पहले 97 पेटी शराब पकड़ी, 24 तस्कर गिरफ्तार; Nainital में आचार संहिता का सख्ती से पालन

cradmin

ब्रेकिंग:-अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ऋषिकेश में 16 वीं उत्तराखंड स्टेट एसोसिएशन ऑफ ईएनटी सर्जंस के तत्वावधान में स्टेट कांफ्रेंस विधिवत शुरू।

khabaruttrakhand

अतिक्रमण पर हाई कोर्ट का बड़ा आदेश:- जिलाधिकारी व एसडीएम को हाईकोर्ट ने दिए सख्त निर्देश, भूमि में अवैध काबिज लोगों को हटाये तुरंत ।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights