khabaruttrakhand
आकस्मिक समाचारउत्तराखंडटिहरी गढ़वालदिन की कहानीदुनियाभर की खबरेदेहरादूनप्रभावशाली व्यतिराजनीतिकराष्ट्रीयविशेष कवर

एक सैनिक का जीवन त्याग और तपस्या का जीवन, कैबिनेट मंत्री ने अमर शहीद प्रदीप रावत की स्मृति में बने शहीद द्वार का भूमि पूजन एवं शिलान्यास के मौके पर कही ये बात।

कैबिनेट मंत्री/जनपद प्रभारी मंत्री डॉ. प्रेमचंद अग्रवाल सोमवार को अमर शहीद प्रदीप रावत के मूल गांव ग्राम बमूण्ड बेराई पहुँचे।

इस अवसर पर मंत्री जी द्वारा अमर शहीद प्रदीप रावत के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी गई तथा उनकी स्मृति में 03 लाख की लागत से बने शहीद द्वार का भूमि पूजन कर शिलान्यास किया।

Advertisement

साथ ही शहीद के परिजनों को सम्मानित किया।

Advertisement

जनपद प्रभारी मंत्री डॉ. अग्रवाल ने कहा कि शहीद प्रदीप रावत ने अपनी शिक्षा-दीक्षा उनके विधानसभा क्षेत्र ऋषिकेश में ग्रहण की और 19 मार्च 2010 में उन्होंने सेना में दाखिला पाया।

10 अक्टूबर 2013 को स्पेशल फ्रन्टियर फोर्स में उनका चयन किया।

Advertisement

बताया कि 02 अप्रैल 2017 में उनकी तैनाती उड़ी सेक्टर में हुई। इसके बाद 12 अगस्त 2018 को वह सीमा पर शहीद हो गए।

डॉ. अग्रवाल ने कहा कि उनकी विधानसभा में जब भी शहीद की शहादत हुई उन्होंने शहीद की स्मृति में शहीद द्वार बनाए।

Advertisement

वहीं उन्होंने कहा कि सैनिक परिवार से उनका सदैव लगाव रहा है।

मंत्री डॉ. अग्रवाल ने कहा कि हमारी सरकार राष्ट्रीय हितों की रक्षा के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है, चाहे कोई भी चुनौती क्यों न हो। “देश की संप्रभुता, एकता और अखंडता की रक्षा में कोई समझौता नहीं किया जाएगा।

Advertisement

उन्होंने कहा कि हमने देश के शत्रुओं को खत्म करने के लिए सशस्त्र बलों को खुली छूट दे रखी है, उन्होंने कहा कि पहले देश और सशस्त्र बलों में राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी थी, लेकिन अब प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली हमारी सरकार ने इस कमी को दूर कर दिया है। हम अपनी सेनाओं के साथ मजबूती से खड़े हैं।

उन्होंने कहा कि एक सैनिक का जीवन त्याग और तपस्या का जीवन है।

Advertisement

यह उनका अपने देश के लिए प्रेम ही तो है कि वे अपने घर वालों को पीछे छोड़कर देश कि सेवा के लिए चले जाते हैं।

उन्होंने कहा कि एक सैनिक का जीवन संघर्ष और गर्व का समन्वय होता है।

Advertisement

जहाँ एक तरफ वो खतरे देश के लिए लड़ते है वही उन्हें देश के लिए क़ुर्बान होने का गर्व भी होता है, उन्होंने कहा कि हमें सदैव सैनिकों का सम्मान करना चाहिए।

सैनिकों के योगदान को सदा स्मरण करना चाहिए, उन्हीं की वजह से हम अमन से रह पाते है।

Advertisement

हम सभी को सैनिकों से प्रेरणा लेना चाहिए और अपने कार्य को देश की प्रगति में लगाना चाहिए।

मंत्री डॉ. अग्रवाल ने कहा कि शहीद प्रदीप रावत का परिवार अनुशासित परिवार है।

Advertisement

उनके अधिकांश परिजन सेना में रहकर देश की सेवा कर चुके है। उन्होंने कहा कि यदि आपको जीवन में अनुशासन का सही उदाहरण देखना हो तो एक सैनिक से अवश्य मिलें।

उनका अपने देश के लिए पागलपन देखते बनता है।

Advertisement

उनका अनुशासन उन्हें अपने घर-परिवार से दूर तो रखता ही है, साथ ही साथ भोजन, नींद और आराम को भी त्यागना पड़ता है। वाकई यह किसी तपस्या से कम नहीं।

इस दौरान उप जिलाधिकारी देवेंद्र नेगी, पुलिस क्षेत्राधिकारी अस्मिता ममगाई, शहीद के पिता कुंवर सिंह रावत, मण्डल अध्यक्ष ऋषिकेश सुमित पंवार, शहीद की माता उषा देवी, जिला सैनिक कल्याण अधिकारी कर्नल योगेश सिंह, गुलाब सिंह रावत, शूरवीर सिंह रावत, पूर्णानंद भट्ट, कान सिंह चौहान, प्रधान मनोज दास, वीर सिंह रावत, कमल नेगी, योगेंद्र रावत, यशपाल सिंह, शूरवीर रावत आदि उपस्थित रहे।

Advertisement

 

Advertisement

Related posts

ब्रेकिंग:-टिहरी जनपद के चंबा थाने के पास भूस्खनल से हुआ दर्दनाक हादसा, पढ़े ताजा अपडेट।

khabaruttrakhand

Jio Fiber सेवाएं Gopeshwar, Uttarakhand में लॉन्च की गईं, घरों में बेहतर इंटरनेट कनेक्टिविटी का वादा

khabaruttrakhand

ब्रेकिंग:-मौसम विभाग की चेतावनी के बाद इस जनपद के सभी स्कूलों को सात अक्टूबर को बन्द करने की घोषणा।

khabaruttrakhand

Leave a Comment

Verified by MonsterInsights